Get Indian Girls For Sex
   

menstruation

10 से 15 साल की आयु की लड़की के अण्डकोष हर महीने एक विकसित अण्डा उत्पन्न करना शुरू कर देते हैं। वह अण्डा अण्डवाही नली (फालैपियन ट्यूव) के द्वारा नीचे जाता है जो कि अण्डकोष को गर्भाषय से जोड़ती है। जब अण्डा गर्भाषय में पहुंचता है, उसका अस्तर रक्त और तरल पदार्थ से गाढ़ा हो जाता है।Read >> मैं रोती रहती हूँ वो चोदते रहते हैं – जीजू को रहम नहीं आया एक झटके में पूरा लण्ड घुसा दिया | ऐसा इसलिए होता है कि यदि अण्डा उर्वरित हो जाए, तो वह बढ़ सके और शिशु के जन्म के लिए उसके स्तर में विकसित हो सके। यदि उस अण्डे का पुरूष के वीर्य से सम्मिलन न हो तो वह स्राव बन जाता है जो कि योनि से निष्कासित हो जाता है।

 

माहवारी चक्र की सामान्य अवधि क्या है?

माहवारी चक्र महीने में एक बार होता है, सामान्यतः 28 से 32 दिनों में एक बार

मासिक धर्म/माहवारी की सामान्य कालावधि क्या है?

हालांकि अधिकतर मासिक धर्म का समय तीन से पांच दिन रहता है परन्तु दो से सात दिन तक की अवधि को सामान्य माना जाता है।

माहवारी मे सफाई कैसै बनाए रखें?

एक बार माहवारी शुरू हो जाने पर, आपको सैनेटरी नैपकीन या रक्त स्राव को सोखने के लिए किसी पैड का उपयोग करना होगा। रूई की परतों से पैड बनाए जाते हैं कुछ में दोनों ओर अलग से (Wings) तने लगे रहते हैं जो कि आपके जांघिये के किनारों पर मुड़कर पैड को उसकी जगह पर बनाए रखते हैं और स्राव को बह जाने से रोकते हैं।

27-1425011023-11-1418299928-menstruation

सैनेटरी पैड किस प्रकार के होते हैं?

भारी हल्की माहवारी के लिए अनेक अलग-अलग मोटाई के पैड होते हैं, रात और दिन के लिए भी अलग- अलग होते हैं। कुछ में दुर्गन्ध नाषक या निर्गन्धीकरण के लिए पदार्थ डाले जाते हैं। सभी में नीचे एक चिपकाने वाली पट्टी लगी रहती है जिससे वह आपके जांघिए से चिपका रहता है।

पैड का उपयोग कैसे करना चाहिए?

पैड का उपयोग बड़ा सरल है, गोंद को ढकने वाली पट्टी को उतारें, पैड को अपने जांघिए में दोनों जंघाओँ के बीच दबाएं (यदि पैड में विंग्स लगे हैं तो उन्हें पैड पर जंघाओं के नीचे चिपका दें)

पैड को कितनी जल्दी बदलना चाहिए?

श्रेष्ठ तो यही है कि हर तीन या चार घंटे में पैड बदल लें, भले ही रक्त स्राव अधिक न भी हो, क्योंकि नियमित बदलाव से कीटाणु नहीं पनपते और दुर्गन्ध नही बनती। स्वाभाविक है, कि यदि स्राव भारी है, तो आप को और जल्दी बदलना पड़ेगा, नहीं तो वे जल्दी ही बिखर जाएगा।

पैड को कैसे फेंकना चाहिए?

पैड को निकालने के बाद, उसे एक पॉलिथिन में कसकर लपेट दें और फिर उसे कूड़े के डिब्बे में डालें। उसे अपने टॉयलेट मे मत डालें - वे बड़े होते है, सीवर की नली को बन्द कर सकते हैं।

Related Pages

क्या आपका लिंग सिकुड़ रहा है ? तो जरूर जाने इन बातों को - Hindi Sex He... क्या आपका लिंग सिकुड़ रहा है ? तो जरूर जाने इन बातों को - Hindi Sex Health Video क्या आपका लिंग सिकुड़ रहा है ? तो जरूर जाने इन बातों को - Hi...
अपने साले की गांड मारी - Hindi Sex Stories... अपने साले की गांड मारी - Hindi Sex Stories अपने साले की गांड मारी - Hindi Sex Stories : यह कहानी एक कल्पना मैं राजन (आधा नाम रहा है) 37 चेन्नई से श...
saniya ki chut - Sania Mirza ki chut xxx big boobs Ass Pussy photo saniya ki chut - Sania Mirza ki chut xxx big boobs Ass Pussy photo saniya ki chut - Sania Mirza ki chut xxx big boobs Ass Pussy photo saniya ki ch...
एक कॉल बॉय की कहानी उसकी जुबानी - मैने आज तक किसी को नहीं चोदा था Indi... हेलो दोस्तों, मेरा नाम अमित है और पेशे से एक गाईड हु | कुछ पेशे की वजह से और कुछ मेरे शौक की वजह से मै पूरी दुनिया घूमता रहता हु | एक बार मुझे एक ...
जब मैंने पहली बार घुसवाया मेरी चिकनी गीली चूत, गोल-मोल गांड, मम्मो की तरफ से टाँगे चौड़ी करते हुए नमस्कार ! गुरुजी आप सच में बहुत महान हो जो ऐसी वेबसाइट शुरु की है जिस पर सर्...

Indian Bhabhi & Wives Are Here