loading...
Get Indian Girls For Sex
   

क्लासरूम में टीचर मम्मी की चूत फट गई – टीचर मम्मी की चुदाई

Bubblecum In The Classroom Free Full HD Porn & Video With Xander Corvus XXX Nude Fucking Pic00010

क्लासरूम में टीचर मम्मी की चूत फट गई – टीचर मम्मी की चुदाई : मम्मी की चूत चुदाई की कहानियाँ,माँ की सामूहिक चुदाई,अन्तर्वासना की हिंदी ग्रुप सेक्स कहानी,मम्मी की चूत फट गई,Mummy ki chudai xxx hindi group sex kahani,Samuhik chudai ki story,Indian xxx hardcore group sex Hindi Adult Story,

मेरी मम्मी का नाम मोनिका है. मैं अपनी मम्मी के साथ अकेला रहता हु. मेरे पापा एक ऍमएनसी में जॉब करते है और यूऍसऐ में रहते है. साल में १-२ बार ही घर आते है. यह भी देखे >> हनीप्रीत रंडी के बोबे दबा दबा कर फुला डाले फोटो में देखे – सेक्स के लिये हनी प्रीत …मम्मी एक गवर्नमेंट टीचर है और मैं मम्मी के साथ स्कूल कि टीचर कॉलोनी में रहता हु.देखने में मम्मी बहुत सुंदर और सेक्सी है. मम्मी कि ऐज ३७ है, पर वो २७ कि लगती है. उनकी जवानी अभी भी भरी पड़ी थी. मम्मी का शरीर पूरा मांस से भरा हुआ है. मम्मी का रंग बहुत ही फेयर है और बाल भी बहुत लम्बे है. मम्मी की कमर बहुत पतली है और हिप्स बहुत वाइड और मोटी है, फुटबॉल कि तरह और पीछे कि तरफ निकले हुए है. मम्मी के बूब्स बहुत टाइट और बड़े नुकीले आम कि तरह है. मम्मी सलवार सूट ही पहनती है और उनके मम्मे इतने बड़े है, कि कमीज़ बहुत टाइट हो जाती है और मुम्मे बाहर की तरफ निकले रहते है.

मम्मी का पेट थोड़ा सा बाहर और चुतड बहुत पीछे को निकले हुए है. एकदम बेले डांसर की तरह. और मम्मी की सलवार पीछे से थोड़ी घोड़ी कि तरह पीछे को निकली रहती है, जो बहुत ही सेक्सी लगती है.मम्मी स्कूल कि सबसे सेक्सी टीचर है और बायोलॉजी पढ़ाती है. स्कूल की बाकी मैडम मम्मी से जलती है और स्कूल के बाकी टीचर मम्मी के साथ बहुत हंसी-मजाक और डबल मीनिंग में बातें करते है. पर मम्मी भी उनके मजाक को मजाक ही समझती और खुद भी थोड़े मज़े ले लेती है. कुछ मास्टर तो मम्मी को ये भी कह देते थे कि “मैडम, हमें भी रिप्रोडक्शन सिखा दो, बच्चो को तो पढ़ाती हो ही”. कई शरारती स्टूडेंट तो क्लास में ये जानबूझकर पूछ लेते. “कि मैडम ये विजिना क्या होती है? थोड़ा क्लियर कर दो.” मम्मी इन सब बातों से नाराज़ नहीं होती थी, उल्टा खुश होती थी.मम्मी शाम को घर पर स्टूडेंट को टूशन भी पढ़ाती थी और ४ लड़के आते थे. वो मम्मी के मम्मो को घूरते रहते थे और कभी- कभी तो टच भी कर लेते थे. पर मम्मी कुछ भी नहीं बोलती थी, क्युकि मम्मी को भी इसमें मज़ा आता था. मम्मी तो खुद भी अपनी प्यास बुझवाना चाहती थी. कई बार तो वो लड़के चलते- चलते मम्मी के चुतड से हाथ टच कर देते थे. पर मम्मी कुछ नहीं कहती थी. मम्मी चाहती थी, ये कहानी आप नीऊ चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।कि कोई उसे ताबड़तोड़ चोदे. उसे चुद्वाए हुए बहुत टाइम हो गया था. पर टूशन के लड़के बस टच ही करते थे. उससे आगे नहीं बड़ते थे. मेरा रूम मम्मी के रूम के साथ ही था और मैं वेंटिलेटर से सब देखता रहता था. टूशन पर मम्मी जानबूझकर सेक्सी और टाइट कपड़े पहनती थी. सलवार हमेशा चूतडो के बीच फसी होती थी और मम्मे कमीज़ से बाहर निकले होते थे और वो जानबूझकर ब्रा भी नहीं पहनती थी. मम्मी हमेशा लडको को सिड्यूज़ करने कि कोशिश करती रहती थी और वो भी बहुत मज़े लेते थे. पर इससे आगे वो कभी नहीं बढे.

एकदिन कि बात है, जब मम्मी उन्हें ह्यूमन रिप्रोडक्शन का चेप्टर पढ़ा रही थी. तो मम्मी ने उन्हें वेजिना और पेनिस का डायग्राम बनाने को कहा. वो भी मुस्कुराते हुए बनाने लगे. फिर अचानक मम्मी ने उनसे पूछा, कि तुम्हे पता है कि विजिना और पेनिस कहाँ होते है? और उससे इंटरकोर्स कैसे होता है? लड़के हरामी थे, पर बोले – “नहीं मैडम, हमें नहीं मालूम. ये कहानी आप नीऊ चुदाई की कहानी डॉट कॉम पर पड़ रहे है।आप प्लीज बता दो”.मम्मी कि आँखों में चमक आ गयी और मम्मी ने कहा – ठीक है. पर प्रॉमिस करो, कि ये बात किसी और को नहीं बताओगे. लडको ने हँसते हुए प्रोमिस किया. मम्मी ने सबसे पहले तो उठकर रूम का दरवाजा लॉक किया. फिर मम्मी अपनी चेयर पर आ कर बैठ गयी. मम्मी ने एक लड़के को अपने पास बुलाया और कहा – अपने कपड़े उतारो. वो लड़का घबरा गया और बोला – क्यों? मम्मी ने कहा – डरो मत. बस एक डेमो दूंगी. पर वो नहीं माना पर बोला – मुझे शर्म आती है. तो मम्मी ने बाकी ३ लडको को भी कहा – अपने सारे कपड़ो को उतार दो. तो सब मान गये. सबने अपने कपड़े उतार दिए और नंगे हो गये. सब लडको के पेनिस ढीले थे. फिर भी सब ५ इंच से बड़े थे. मम्मी अपनी चेयर से उठी और एक लम्बी साँस लेकर बोली – मैं आज तुम्हे ह्यूमन रिप्रोडक्शन के बारे में सिख दूंगी. मम्मी के बूब्स टाइट हो गये थे और निप्पल हार्ड होने लगे थे. वो सब नज़ारा कमीज़ से बाहर दिखने लगा था.मम्मी ने चारो लडको को एक घेरे में खड़ा किया और खुद सेण्टर में आ गयी. मम्मी ने एक लड़के का ढीला लंड हाथ में पकड़ा और सहलाने लगी. “इसे कहते है पेनिस..”. उस लड़के को बहुत मज़ा आ रहा था और वो मुस्कुराते हुए बोला – अच्छा, हम तो इसे लंड और लौड़ा बोलते है.

मम्मी – पागल, इंलिश में इसे पेनिस ही बोलते है.

अब तक मम्मी के कोमल हाथो के सहलाने से उसका लंड खड़ा हो चूका था. दुसरे लड़के ने पूछा.

लड़का २ – मैडम, ये टाइट क्यों हो गया?

मम्मी – ये बहुत सेंसटिव होता है और सेक्सुअलिटी एक्साइट होने पर इसमें ब्लड का फ्लो बहुत तेज हो जाता है. जिससे ये इरेक्ट हो जाता है और इरेक्ट पेनिस ही इंटरकोर्स कर सकता है, ढीला नहीं.

लड़का ३ – वो क्यों?

मम्मी – क्योंकि, विजिना बहुत टाइट होती है. लूज पेनिस उसके अन्दर घुस नहीं पाता.

लड़का ३ – मैडम, विजिना कैसी होती है?

मम्मी मुस्कुराते हुए बोली – वो भी बताउंगी.

मम्मी ने अपनी रेड कमीज़ उतारी और साइड में रख दी. मम्मी के मम्मे एकदम आजाद हो गये थे. मम्मी ने ब्रा नहीं पहनी हुई थी और उनके दूध जैसे गोरे चुचे बहुत मोटे और सेक्सी थे. फिर मम्मी ने अपनी ब्लू सलवार का नाडा खीचा, तो सलवार नीचे गिर गयी. मम्मी ने उतार कर साइड में रख दी. मम्मी कि मोटी थाई और हिप बहुत सेक्सी लग रहे थे. सभी लडको के लौड़े खड़े हो चुके थे. वो सब के सब लगभग ७ इंच लम्बे थे. फिर म