Get Indian Girls For Sex
   

साली को ब्लैकमेल करके चोदा - बहुत दर्द होगा मेरी चूत फट जायेगी मेरी जिससे शादी होगी वो मुझे एक्सेप्ट नहीं करेगा

defaultfgrere

हाय फ्रेंड्स मेरा नाम अनुज है मेरी उम्र 30 साल है मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ और दिल्ली मैं ही एक अच्छी पोस्ट पर नौकरी करता हूँ Hindi Sex Stories Antarvasna Kamukta Sex Kahani Indian Sex Chudai मेरी शादी एक साल पहले कानपुर की रहने वाली शिप्रा के साथ हुई शिप्रा की 2 शादीशुदा बहनें कंचन (उम्र 32), प्रीति (उम्र 28) 2 छोटी कुँवारी बहनें कामिनी (उम्र 20),प्रिया (उम्र 18) और एक छोटा भाई अरुण है जो दिल्ली मैं ही एक हॉस्टल मैं रहकर पढ़ रहा है मुझे लगता है की भगवान जब देता है तो छप्पर फाड़ के देता है ये बात ग़लत नहीं है क्योकी मुझे तो भगवान ने 3 सालीयां दी और वो भी एक से बड़कर एक सुंदर शिप्रा की सभी बहनों मैं कंचन और प्रिया सबसे सुंदर हैं मैने शादी से पहले किसी लड़की को टच तक नहीं किया था और शादी के बाद तो जैसे सावन की बहार सी आ गयी इससे पहले मैं आपको अपनी कहानी “जयपुर वाली साली बनी घरवाली” बता चुका हूँ की कैसे मैने कंचन को और उसके पति सतीश ने शिप्रा से खुलकर मज़े किए.

अब मैं आपको अपनी एक और कहानी बताता हूँ जो की कुछ महीने पहले की ही कहानी है। जैसे की पिछली स्टोरी मैं मिले एक दिन शिप्रा अपनी माँ से फोन पर बात कर रही थी तो उसकी माँ ने कहा की उनके रीलेशन मैं एक ज़रूरी शादी है लेकिन घर पर कोई नहीं है और आजकल शहर मैं चोरी बहुत हो रही हैं इसलिये अब वो सोच रहे हैं की ना जाये शिप्रा ने कहा की माँ शादी कब है तो उन्होने बताया की 4 दिन बाद इसी रविवार को शिप्रा बोली की माँ इनकी 2 दिन की शनिवार,रविवार की छुट्टी है हम लोग आ जायेगे वो बोली की तुम लोगों को काफ़ी तकलीफ़ हो जायेगी.

शिप्रा बोली कोई बात नहीं माँ हम लोग आ जायेगे और फोन रख दिया तब मैने शिप्रा से कहा की यार दो दिन मैं दिल्ली से कानपुर और फिर वापस आने मैं काफ़ी थक जायेगे मैं 2 दिन की छुट्टी और ले लेता हूँ ऐसे भी रविवार की तो शादी है वो लोग मंगलवार तक ही आ पायेगे वो बोली ठीक है.

हम लोग शुक्रवार नाइट मैं कानपुर 11 pm तक पहुँच गये शादी के लिए उन लोगों को भी उसी रात को ट्रेन से निकलना था मेरी सास,ससुर,कामिनी, अरुण सभी तैयार थे लेकिन प्रिया नहीं जा रही थी मैने प्रिया से पूछा तुम क्यों नहीं जा रही हो तो उसने कहा मेरा मन नहीं है जाने को और ऐसे भी आप लोगों की सेवा कौन करेगा वो सभी लोग रात को एक बजे ही निकल गये उनके जाने के बाद मैं शिप्रा और प्रिया एक ही रूम मैं सो गये मेरी रात मैं 3 बजे करीब नींद खुली मैंने टायलेट करने के लिए लाइट जलाई टायलेट से आकर मैने देखा की प्रिया का एक बूब्स उसके टॉप मैं से आधे से भी ज़्यादा दिखाई दे रहा है मेरी नियत बिगड़ गयी मैने सोचा की एक बार टच करके देखता हूँ दोनो ही गहरी नींद मैं हैं अभी तो सोई हैं जल्दी नहीं जागेंगी मैने काँपते हुये अपना एक हाथ धीरे से उसके बूब्स पर टच कर दिया बड़े ही मस्त बूब्स थे उसके एकदम एक्युरेट साइज़ 38 राउंड शेप और कसे हुये तभी प्रिया ने करवट बदल ली और मुझे लगा की कही वो जाग ना जाये.

मैं अब उसके दूसरी तरफ बैठ गया और उसके बूब्स को देखने लगा मैने सोचा की अब ज़्यादा रिस्क नहीं लेना चाहिये और मैने धीरे से उसकी टॉप का एक बटन बंद किया और अपने बिस्तर पर आकर सोने की कोशिश करने लगा मुझे काफ़ी देर बाद नींद आई सुबह मैं सबसे लेट लगभग 8 बजे जगा शिप्रा मेरे लिए चाय लेकर आई मैने शिप्रा से पूछा प्रिया कहाँ है तो वो बोली उपर छत वाले कमरे मैं शायद पढाई कर रही होगी उनका पढाई वाला रूम उपर था और उस रूम मैं एक कंप्यूटर भी था चाय पी कर अपने बाकी सभी काम किये और नहाने चला गया नहाने के बाद मैं कपड़े सुखाने के लिए छत पर गया तो मैने देखा की प्रिया कंप्यूटर पर बैठी है और कुछ कर रही है लेकिन वो उसमें इतनी मग्न थी की मेरी तरफ उसका ध्यान नहीं गया.

जब मैं कपड़े सूखाने के बाद उसके पास जाने लगा तो उसको लगा की कोई आ रहा है तो उसने बड़ी जल्दी से उस पेज को क्लोज़ कर दिया मैं समझ गया की शायद वो कुछ एडल्ट आइटम देख रही है और मुझसे हड़बड़ाते हुये बोली- जीजू आओ मैने कहा क्या चल रहा है तो वो बोली कुछ नहीं जीजू और कंप्यूटर बंद करने लगी तो मैने कहा की थोड़ा कंप्यूटर चलने दो मुझे अपने मैल चेक करने है प्रिया बोली ओके बैठ जाइये मैं उसके पास बैठ गया लेकिन वो नीचे जाने लगी तो मैने कहा बैठो प्रिया बोली नहीं जीजू मुझे नहाना है उसके बाद आऊंगी मैने कहा ओके.

उसके जाने के बाद मैने कंप्यूटर मैं रीसेंट एक्टिविटीस मैं सर्च किया तो देखा की उसमें उसने सेक्स से संबंधित ही आइटम्स देख रखे थे ओर उसमें 4-5 पॉर्न मूवी क्लिप भी थी अब मेरे दिमाग़ मैं आया की वो दोपहर मैं छत पर आकर रूम का दरवाजा बंद करके अकेली सोती है शायद वो ये सब उस समय भी देखती होगी मैने सोचा की देखते हैं की आज वो कुछ देखती है या नहीं मेरे पास एक निकॉन का हैंड कैमरा है जिसमें 8 जी.बी का मेमोरी कार्ड है ओर जिसमें 3 घंटे तक की वीडियो कैप्चर कर सकते हैं मैने अपने प्लान के अनुसार 1 बजे दोपहर मैं उस कमरे मैं मेरा कैमरा ओंन करके इस तरह से कपड़ो के बीच मैं छुपा दिया की उसमें कंप्यूटर स्क्रीन और कुर्सी पर बैठने बाला पर्सन आराम से दिखाई दे साथ ही साथ मैने उस कमरे मैं लगे दूसरे दरवाजे को जो की ठीक कंप्यूटर स्क्रीन के सामने था और जो हमेंशा बंद रहता है उसकी कुण्डी खोल दी ओर उसका पर्दा लगा दिया.

इसके बाद मैं नीचे चला गया कुछ देर बाद मैं प्रिया उपर जाने लगी उस समय मैं टी.वी देख रहा था मैने उससे पूछा कहाँ जा रही हो प्रिया मूवी नहीं देखोगी आज तो अच्छी मूवी आ रही है प्रिया बोली नहीं जीजू नींद आ रही है उपर सोने जा रही हूँ यह कहते हुये वो उपर चली गयी मैं टी.वी देखने लगा और शिप्रा भी अपने कमरे मैं सोने लगी जैसे ही शिप्रा सो गयी मैं लगभग 2 बजे करीब उपर वाले कमरे के दरवाजे के पास पहुँच गया दरवाजा बंद था मैं चुपके से उस दरवाजे की तरफ़ गया जिसको मैने पहले ही खोल दिया था मैने धीरे से दरवाजा खोला और अंदर देखा तो प्रिया की पीठ मेरी तरफ थी ओर वो कोई सेक्स क्लिप देख रही थी मैं धीरे से अंदर घुस गया और पर्दे के पीछे छुपकर उसको देखने लगा मैने देखा की प्रिया ने अपना पजामा नीचे कर रखा है ओर वो अपनी चूत को अपने हाथ से सहला रही है ओर कभी कभी अपने एक हाथ से अपने बूब्स भी दबा रही है.

मैं ये सब देखकर खुश था क्योकी आज मुझे एक नया स्वाद जो मिलने वाला था मैं धीरे से उसके पीछे गया और उसके पास जाकर खड़ा हो गया वो मुझे देखते ही डर गयी ऐसा लग रहा था जैसे उसको किसी ने मर्डर करते हुये पकड़ लिया हो उसने अपनी नज़रें नीचे झुका ली और अपने दोनो हाथो से अपनी चूत को ढक लिया मैने कहा प्रिया तुम तो बोल रही थी नींद आ रही है मूवी नहीं देखनी अच्छा तो ये मूवी देखनी थी ठीक है हमें भी दिखाओ हम भी तो देखें कैसी मूवी देखती हो.

प्रिया धीरे से बोली- सॉरी जीजू मुझे माफ़ कर दो अब नहीं देखूँगी (साथ ही साथ उसने अपना पजामा भी उपर कर लिया) मैने कहा मैं तो मना नहीं कर रहा हूँ देखो प्रिया बोली सॉरी जीजू अब नहीं देखूँगी प्लीज़ आप ये बात पापा या मम्मी या दीदी को मत बताना मैने कहा ठीक है नहीं बतायेगे इस पर प्रिया बोली –थैंक्स जीजू मैने कहा थैंक्स ऐसे नहीं होगा और अपने होठो पर अपनी जीभ फेरते हुये बोला- कुछ तो करना होगा प्रिया समझ चुकी थी लेकिन फिर भी बोली क्या मैने कहा वो सब जो तुम उस वीडियो क्लिप मैं देख रही थी वो बोली- नहीं जीजू बिल्कुल नहीं प्लीज जीजू प्लीज मैने कहा उसमें देखकर मज़ा ले रही हो सीधे सीधे ही ले लो वो बोली नहीं जीजू बिल्कुल नहीं जीजू मैं अभी कुँवारी हूँ मैं शादी से पहले ये सब नहीं करूँगी.

मैने कहा शादी से पहले फिर ये सब क्यों कर रही थी अपने बूब्स को और चूत को क्यों रग़ड रही थी तो वो कड़क आवाज़ मैं बोली- जो भी हो मैं नहीं दूँगी प्लीज़ आप मान जाओ जीजू मैंने सोचा की उसको कैसे भी थोड़ा तैयार किया जाये बाकी बाद मैं सोचेंगे मैने कहा ठीक है उपर से ही दे दो प्रिया बोली उपर से मतलब? मैने कहा किस दे दो और उपर से टच करने दो वो बोली आप मान जाओ जीजू प्लीज मैने कहा इतने से काम मैं काम नहीं चलेगा जब उसे लगा की मैं नहीं मानने वाला तो वो बोली ठीक है जल्दी से करो मैने उसको कंप्यूटर के पास ही खड़े रहने दिया जिससे की उसकी वीडियो मेरे साथ बनती रहे.

मैने उसको बाहों मैं भर लिया और उसके होठो पर अपने होंठ रख दिये और उनको चूसना शुरू कर दिया मेरा एक हाथ उसके बूब्स पर और एक हाथ पीछे कभी उसके चूतड़ और कभी पीठ पर लेकर सहलाने लगा धीरे धीरे मैं अपना एक हाथ बूब्स से हटाकर नीचे ले जाने लगा तो उसने अपने हाथ से मेरा हाथ रोकना चाहा लेकिन मैने झटके से अपना हाथ उसकी पेंटी के अंदर डाल दिया जैसे ही मेरा हाथ उसकी चूत के पास पहुँचा मुझे फील हुआ की उसकी चूत पर हल्के हल्के मुलायम से बाल हैं और चूत गीली भी हो रही है शायद इसलिये क्योकी वो वीडियो क्लिप जो देख रही थी उसने अपने होठो को मेरे होठो से हटा लिया और गुस्से से बोली-निकालो अपना हाथ बाहर बहुत हो चुका मैने कहा अभी नहीं मुझे एक बार अपने बूब्स से दूध तो पिला दो वो बोली जीजू मान जाओ दीदी उपर आ सकती हैं मुझे लगा वो ठीक कह रही है लेकिन फिर भी मैने उसके बूब्स को दोनो हाथो से थोड़ी देर अंदर हाथ डालकर सहला ही लिया.

थोड़ी देर बाद वो नीचे चली गयी और मैने कपड़ो के बीच मैं रखा कैमरा निकाला तो देखा उसमें सब कुछ सेव था जो पिछले 2 घन्टो मैं हुआ था मुझे बड़ी ख़ुशी हुई की अब तो मैं प्रिया को चोद कर ही छोड़ूँगा और वो भी कुँवारी चूत को मैंने उसका कंप्यूटर ओंन करके उस रिकॉर्डिंग को उसमें सेव कर दिया और नीचे आ गया शिप्रा अभी तक सो रही थी और प्रिया टी.वी देख रही थी लेकिन उसका ध्यान कहीं और था वो परेशान लग रही थी वो दोबारा से छत पर गयी