Get Indian Girls For Sex
   

मासूम मुनमुन को चिकना लंड चुसाया - hindi sex stories चिकना लंड चुसाया - hindi sex stories

Big-Boobs-chick-Ariella-Ferrera-was-drilled-so-dirty-pussy-fingering-big-boobs-Full-HD-Porn-and-Nude-Images00009

मासूम मुनमुन को चिकना लंड चुसाया - hindi sex stories चिकना लंड चुसाया - hindi sex stories : चिकना लंड चुसाया - Hindi Chudai Kahani

मासूम मुनमुन को चिकना लंड चुसाया - hindi sex stories : मैं और मुनमुन एक ही क्लास में थे,Kamasutra Chudai Antarvasna Kamukta Hindi sex Indian Sex मुनमुन एक सुन्दर बंगाली लड़की थी और उसकी जवानी बस अभी अभी उभार पर आई थी चुचे छोटे और मासूम से थे आँखें बड़ी और खूबसूरत और सबसे कमाल थे मुनमुन के बाल जिन्हें देख कर बस उन्ही में खो जाने को जी करता था. हम दोनों अच्छे दोस्त तो थे लेकिन मैं कभी उसे बता नहीं पाया की मैं उसे कितना पसंद करता हूँ और कारण थी उसकी एक दोस्त विनी जिसे पता नहीं मुझसे क्या प्रॉब्लम थी, वो कभी भी मुझे और मुनमुन को अकेला नहीं रहने देती थी.

एक दिन विनी बीमार थी और कॉलेज नहीं आई तो मैं जा कर मुनमुन के पास पैठ गया, लेक्चर ख़त्म होते ही मैंने उस से पूछा “कैंटीन चलोगी” तो वो बोली “नहीं यार फिर केमिस्ट्री का लेक्चर मिस हो जाएगा” तो मैं अपना सा मुंह ले कर चला गया. मैं बाहर गार्डन में बैठथा तभी मुनमुन आई और बोली “चलो अब कैंटीन चलते हैं” मैं खुश हो गया, कैंटीन में हम काफी देर तक बातें करते रहे चाय समोसे के साथ. मुनमुन ने मुझसे कहामैं पहले तुम्हे एकदम चोमू लड़का समझती थी लेकिन तुम तो काफी ह्यूमरस हो” मैंने मुस्कुरा कर कहा “वो तो भला हो भगवान् का कि विनी बीमार हो गई नहीं तो तुमसे तो बात करना भी मुश्किल है”. वो हंस पड़ी और ऐसे ही हम लोग काफी देर तक बातें करते रहे उस दिन उसे उसके हॉस्टल तक भी मैं ही छोड़ कर आया.

ये दिन मेरी ज़िन्दगी का सबसे खुशनुमा दिन था पर मुझे क्या पता था कि ऐसे कई खुशनुमा दिन मुझे और मिलने वाले हैं, मुनमुन और मैं अब अक्सर मिलने लगे और एक दिन मुनमुन ने मुझे उस समय किस कर लिया जब हम मूवी देखने गए थे. मैं मुनमुन के पीछे बावला हुआ पड़ा था और मुनमुन मेरे पीछे, वो अक्सर मेरे रूम पर आ जाती थी और हम साथ में लैपटॉप पर मूवीज देखते खाना बनाकर खाते. एकक बार एक लॉन्ग वीकेंड आया तो मुनमुन ने मुझे कहा “मैं हॉस्टल से बहाना बना कर तुम्हारे रूम पर आ जाऊँगी और फिर हम पूरा वीकेंड एन्जॉय करेंगे” मुनमुन की इस बात से मैं बहुत खुश हुआ और रूम पर जा कर मैंने डिटेल में घर की सफाई की आखिर एक लड़की आ रही थी तो घर तो साफ होना चाहिए ना.

मकान मालिक भी लॉन्ग वीकेंड मानाने फैमिली के साथ अपने गाँव जा रहे थे तो वैसे भी प्रॉब्लम कुछ होनी नहीं थी, फ्राइडे सुबह मेरे पास मुनमुन का मेसेज आया “मैं डायरेक्टली तुम्हारे घर आ जाऊँगी तुम लोड मत लेना”. मुनमुन मेरे घर पर रहेगी ये सोच कर ही मैं ख़ुशी के मारे खरगोश हुआ जा रहा था पर जैसे ही वो आई मैं बड़ा फॉर्मल हो गया, उसका बैग उठाकर घर में लाया और उसे बैठने को कहा तो वो सीधे मेरी गोद में आ कर बैठ गई और बोली बस आज फॉर्मल मत होना. मैंने थोडा घबरा गया था और इसीलिए मैंने उसे कहा “मुनमुन कुछ ग़लत हो जाएगा” तो उसने जवाब दिया “कुछ ग़लत नहीं होगा, क्यूंकि हम दोनों एक दुसरे से सच्चा प्यार करते हैं”.

प्यार सुनते ही मुझे अच्छा लगने लगा और मैंने मुनमुन को गले लगा लिया, हम दोनों ने एक दुसरे को इतना टाइट पकड़ रखा था लेकिन अच्छा लग रहा था क्यूंकि मुझे मुनमुन की खुशबु आ रही थी और वो कमाल की खुशबु थी. मुनमुन ने मेरे चेहरे को थामा और मेरे होठों पर अपने नर्म नर्म होंठ रख दिए, मैंने उसके होठों को चूमना शुरू किया तो उसने और भी ज़ोरदार तरीके से मेरे होठों को चूमा और चूसा. मुनमुन के किस करने के स्टाइल से मैं इतना प्रभावित था की मैंने भी उसे वैसे ही किस करने लगा. मुनमुन के चुचे टाइट हो कर मेरे सीने में पोक कर रहे थे, मैंने उसके चुचों को पकड़ लिया तो बोली “धीरे करो ना ये तुम्हारे ही हैं”.

मैंने मुनमुन के नन्हे नन्हे चुचों को सहलाना शुरू किया और उसकी निप्प्ल्स पर उंगलियाँ फिराने लगा तो वो और सख्त हो गईं, मुनमुन “उम्म्म्म आअह्ह्ह्ह आई लव यू” कहने लगी तो मैं उसकी आवाजें सुन कर उत्तेजित हो गया, मुनमुन मेरी गोद में बैठी हुई थी तो उसे मेरा सख्त लौड़ा महसूस होने लगा था वो मुझे चूमती हुई मुस्कुराई और बोली “ये तो चुभ रहा है”. मैंने कहा नहीं चुभेगा इसे प्यार करोगी तो, मुनमुन ने मेरे लोअर में अपना हाथ डाला और घबरा कर बाहर निकाल लिया तो मैंने पूछा “क्या हुआ, ज्यादा बड़ा है क्या” तो बोली “बड़ा तो तब पता चलेगा ना जब इतना सारा बालों का जंगल हटेगा”.

मैं हँसा और बोलाज़रुरत ही नहीं पड़ती तो साफ़ नहीं करता” इस पर मुनमुन को बहुत गुस्सा आया और वो बोली “आज ज़रुरत पड़ी है तो सफाई में टाइम वेस्ट होगा ना अब”. मैंने कहा “मैंने कभी इन्हें साफ करने के बारे में सोचा ही नहीं तो उसे और भी ताज्जुब हुआ उसने अपने पर्स से एक रेजर निकाला और बोलापहले तो इन्हें ट्रिम करेंगे और फिर क्लीन करेंगे ओके”, मैंने किसी नोने बच्चे की तरह हाँ में सर हिला तो दिया था लेकिन मेरी फटी पड़ी थी क्यूंकि पहली बार झांटों की सफाई और उस पर ये काम एक लड़की करेगी. डर लग रहा था कहीं कट ना लगा दे, लेकिन इस डर के साथ मज़ा भी आरहा था क्यूंकि मेरा लंड अब मुनमुन के हाथ में था.

मुनमुन ने मेरे झांटों को कैंची से ट्रिम किया और फिर ढेर सारा शेविंग फोम लगा कर अपने हाथों से मेरी झांटें साफ़ करने लगी उसका हाथ इतना सधा हुआ चल रहा था की मुझे यकीन हो गया की इसकी चूत तो निश्चित रूप से गंजी होगी. मैं बस उसकी चूत के बारे में सोच ही रहा था की मुनमुन ने मेरा ध्यान तोडा और कहा “अब देख कितनी सुन्दर शक्ल निकल कर आई है”. मैं भी हैरान था की मेरा लंड कितना साफ और सुन्दर दिख रहा था, गोटे भी साफ़ हो गए थे और लंड की लम्बाई सचमुच बढ़ी हुई लग रही थी बल्कि मुझे तो लग रहा था की मुनमुन के हाथ में लेते ही लंड ख़ुशी के मरे फूल कर मोटा भी हो गया था.

मुनमुन ने सारा फोम पौंछा सारे बाल हटाए और फिर नैपकिन से पौंछ कर फाइनल क्लीनिंग करने के बाद, उस ने अपने पर्स से एक मोश्चराइज़र निकाला और मेरे लंड पर मल मल कर उसने मेरे गोटों और लंड को चमका दिया. मुनमुन मेरे लंड को देख देख कर ऐसे खुश हो रही थी की मुझे हैरानी हुई और मैंने पूछ ही लिया “क्या हुआ पहली बार देख रही हो क्या” मुनमुन मुस्कुरा कर बोली “बुरा मत मानना लेकिन मैं एक बार सेक्स कर चुकी हूँ, लेकिन मुझे लगता है मुझे तुम्हारे साथ ज़्यादा मज़ा आएगा क्यूंकि एक तो मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ और दूसरा तुम्हारा लंड कितना बड़ा और सुंदर है”.

मैं अपनी तारीफ सुनकर जितना खुश हुआ उतना ही हैरान भी क्यूंकि मुनमुन पहले सेक्स कर चुकी थी तो मैंने पूछा “किसके साथ किया था पहले” वो बोली “मैं जानती थी अगला सवाल यही होगा, तो सुनो मैं एक दफे अपने गाँव गई थी और मेरे कजिन के दोस्त ने मुझे बहला फुसला कर मेरे साथ खेत में किया था पर वो इतना जल्दी हुआ की समझ ही नहीं आया क्या हुआ. उस पागल को भी ज्यादा पता नहीं था सो वो बस दो मिनट में झड़ गया और फिर वापस मुझसे कभी नहीं मिला”.

मैं हँसा और बोला “बेचारा घबराया हुआ होगा और फिर ऐसा शर्म आई होगी की नज़र मिलाने से डरता होगा”. वो बोली “अब ये सब जान कर कहीं तुम मुझे छोड़ तो नहीं दोगे” तो मैंने कहा “नहीं मैं तुम्हे नहीं छोडूंगा बल्कि तुम्हे इतना प्यार करूँगा कि तुम्हे किसी और की याद तक नहीं आएगी”. मुनमुन बहुत खुश हुई और उसने ख़ुशी ख़ुशी मेरे लंड को चूम लिया, मुनमुन के चूमने से मेरा लंड ख़ुशी से नाच उठा और ज्यादा सख्त हो गया. फिर मुनमुन ने मेरे लंड को पकड़कर कर ऊपर नीचे हाथ चलाना शुरू किया और मुझे कसम से बड़ा ज़ोरदार मज़ा आने लगा. अब मुनमुन ने मेरे लंड पर अपना मुंह लगा लिया और उसे पूरी लम्बाई तक चूमने लगी, लंड बार बार इधर उधर हो रहा था तो मुनमुन ने उसे पकड़ लिया और पेशनेटली मेरे लंड और गोटों को चूमने लगी.

मैं मस्त हुआ जा रहा था और इसी बीच मैंने कहा “इसे अपने मुंह में ले कर चूसो ना” तो मुनमुन ने कहा “चूसती हूँ, मुझे ओरल करना आता है लेकिन पहले इस से खेलने तो दो” ये कह कर अब उस ने मेरे लंड और गोटों को चाटना शुरू किया. सबसे पहले उसने मेरे गोटों पर अपनी जीभ लगाई और नीचे से ऊपर की ओर चाटते हुए मेरे लंड को पूरा टोपे तक चाटा फिर उसने मेरे लंड के टोपे को अपने होंठों के बीच फँसा कर धीरे धीरे मेरा लंड सात इंच लम्बा और तीन इंच मोटा लंड पूरा का पूरा अपने मुंह में ले लिया जो शायद उसके गले तक गया होगा और इसी लिए उसने तुरंत मुंह हटाकर खांसना शुरू किया जिस से उसकी आँखों में आँसू आ गए

मैंने कहा “तुम्हे लंड मुह में लेन में तकलीफ हो