Get Indian Girls For Sex
   

ससुर जी का मस्ताना लण्ड - नन्द के ससुर ने लण्ड मेरी चूत में घुसा दिया और बोला में तुम्हे चोदूंगा

XXX Mahima-Chaudhary-Xxx-nude-naked-boobs-porn7

जिस समय मेरी अम्मी का फोन आया उस समय मैं अपने ससुर के लण्ड पे चढ़ी बैठी थी और बड़ी मस्ती से चोद रही थी उसका लण्ड ? पहली बार मुझे उसका लण्ड चोदने का मौक़ा मिला था इसलिए मैं एक मिनट भी बर्बाद नहीं करना चाहती थी। मैं तूफ़ान मेल की तरह लण्ड पर अपनी गांड पटक पटक कर लण्ड चोदने में जुटी थी। मेरी उछलती हुई चूचियाँ देख देख कर मेरा ससुर बड़ा मज़ा ले रहा था और उसका 8" का मोटा लण्ड भी सख्त होकर टन टनाता जा रहा था। जब फोन की घंटी बजी तो मैंने मन में कहा इस समय किस बुर चोदी में फोन की घंटी बजा दी ? लण्ड चोदने में मुझे डिस्टर्ब कर रही है।  लेकिन जब फोन पर अम्मी का नाम देखा तो मैंने चुपचाप फोन उठा लिया।  मैंने कहा हां अम्मी बोली क्या बात है ? वह बोली तुमसे कुछ बात करनी है, बेटी । कर सकती हूँ क्या  ? मैंने कहा अभी नहीं अम्मी। एक घंटे के बाद फोन करना अभी मैं अपने ससुर का लण्ड चोद रही हूँ।  वह बोली हाय अल्ला, क्या बात है ? अलीका मैं यही तो चाहती थी।  तू ठीक कर रही है।  खूब मस्ती से चोदना बेटी अपने ससुर का लण्ड ? खूब भकाभक चोदना उसका लण्ड ? उसे भी मलूम हो की उसकी बहू की चूत कितनी ताकतवर है ? छक्के छुड़ा देना उसके लण्ड के बेटी ? मैं बाद में बात करुँगी।  मैंने फोन रख दिया और फिर लण्ड चोदने में व्यस्त हो गयी।
दोस्तों, मैं २६ साल की एक खूबसूरत लड़की हूँ।  मेरी शादी अभी ३ महीने पहले हुई है।  मैं अभी ससुराल में हूँ और अपने ससुर का लण्ड चोद रही हूँ। मेरा शौहर दुबई चला गया है।  वह मुझे भी एक साल के बाद शायद वहां ले आएगा।  मैं यहाँ सब लोगों से चुदवाना चाहती हूँ। सबके लण्ड का मज़ा लेना चाहती हूँ।  अभी कल मैंने अपने बड़े देवर से चुदवाया तो खूब मज़ाआया। कल ही रात में मैंने अपनी ससुर का लण्ड देख लिया था।  मेरे ससुर को ब्लू फिल्म देखने का बड़ा शौक है। वह रात में नंगा होकर ब्लू फिल्म देखता है। यह बात मुझे मेरी नन्द ने ही बताई थी। मैंने खिड़की का एक कोन खोल रखा था बस रात मैं उसी कोने से मैं उसे देखती रही।  वह फिल्म देख रहा था और मैं उसका लण्ड देख रही थी।  मेरी चूत में आग लग गयी बहन चोद । खड़ा लण्ड देख कर आग और भड़क उठी।  साला ८" लम्बा लण्ड बड़ा मोटा था।  मेरी चूत मुझे परेशान करने लगी।  इतने में वह बाथ रूम गया।  बस मैं उसी समय उसके कमरे में घुस गयी।  वह जब वापस आया तो मुझे देखा।  मैं बोली ससुर जी मैं भी ब्लू फिल्म देखने की शौक़ीन हूँ। मैं देखूंगी ब्लू फिल्म। मैं उसके बगल में बैठ गयी। मैंने फिल्म देखते देखते अपना हाथ उसके लण्ड पर रख दिया। उसने ऐतराज़ नहीं किया।  मैं जान गयी की इसका भी लण्ड पकड़ाने का मन है।  मैं हाथ और बढ़ाती गयी। हाथ से लण्ड दबा दिया। फिर मैंने हाथ लुंगी के अंदर घुसेड़ दिया। तब भी वह कुछ नहीं बोला।  मेरी हिम्मत बढ़ गयी।  मैंने फिर लण्ड पकड़ लियाऔर बड़े प्यार से कहा हाय अल्ला, ससुर जी तेरा लण्ड तो फिल्म वाले लण्ड से ज्यादा मोटा है। मेरी बात सुनकर उसने मुझे अपनी तरफ खींचा और चिपका लिया। उसका लण्ड मेरी जाँघों से टकराने लगा। मेरी झांटों तक पहुँच गया लण्ड।  मेरी चूत पर मंडराने लगा लण्ड ?
मैंने उसकी लुंगी खोल कर फेंक दी।  वह मेरे सामने एकदम नंगा हो गया। मैंने भी अपने कपड़े खोल डाले और मैं भी उसके सामने नंगी हो गयी।  वैसे भी मुझे मर्दों के आगे नंगी होने में बड़ा मज़ा आता है। अब मैं बेशर्मी पर उतारू हो गयी।  मैं उसके ऊपर चढ़ बैठी और चूत उसके मुंह पर रख दी।  मैं चाहती थी की वह मेरी बुर  चाटे और मैं उसका लण्ड ? बस वह वाकई बुर चाटने लगा और मैं झुक कर उसक लौड़ा चाटने लगी।  मुझे लण्ड का टोपा बड़ा खूबसूरत लग रहा था।  रात में साला लौड़ा बड़ा अच्छा लगता है। और रात में लौड़ा के आगे कुछ और सुहाता भी नहीं।  लौड़ा किसी का भी हो मन करता है की इसे मुंह में ले लूँ और फिर चूत में पेल लूँ। मेरे सामने जब लण्ड होता है तो मैं भूल जाती हूँ की किसका लण्ड है।  मैं तो बस लण्ड पकड़ कर चूसने लगती हूँ।  मैंने ससुर के लण्ड का सुपाड़ा पूरा मुंह में भर लिया और अंदर हीअंदर उसके चारों तरफ जबान घुमाने लगी। ससुर बोला हाय रे कितना मज़ा आ रहा है।  बहू इस तरह तो मेरा लण्ड मेरी बेटी भी नहीं चूसती ? तू उसे सिखा दे न ? मैंने कहा हाय दईया तो क्या तेरी बेटी तेरा लण्ड पकड़ती है। वह बोला जवानी में सब कुछ जायज़ है बहू।  बेटी हो चाहे बहू भाभी हो चाहे बहन , सबकी सब पकड़ लेती हैं लण्ड ? और फिर मैं सबकी बुर में पेलता हूँ लण्ड ? मैं चोदने में कोई नाता रिस्ता नहीं देखता।  मुझे तो सिर्फ चूत दिखाई पड़ती है ?
ऐसा कह कर वह मेरे मुंह में घुसा हुआ लण्ड बार बार आगे पीछे करने लगा।  मेरा मुंह ही बुर समझ कर चोदने लगा।  मुझे भी मस्ती आने लगी। फिर में लण्ड मुंह से निकाला और अपनी चूचियों पर फिराने लगी।  पूरे बदन की शैर कराने लगी लण्ड की।  मुझे लण्ड अपने बदन पर घुमाना भी बड़ा अच्छा लगता है।  मैं जब लण्ड अपनी चूत के पास ले गयी तो ससुर का मन मचल गया।  उसने लण्ड चूत पर टिका दिया और एक धक्का मारा लण्ड सट्ट से घुस गया अंदर और मैं चिल्ला पड़ी। उई अम्मी इसने तो फाड़ दी मेरी चूत ? हाय अल्ला, कहीं  चूत के चीथड़े न हो जाएँ।  मैंने कहा बड़ा मोटा है तेरा भोसड़ी का लण्ड ससुर जी ? फिर तो उसकी स्पीड और बढ़ गयी।  मुझे मज़ा आने लगा।  मैं भी चुदाई में साथ देने लगी।  मैंने पूंछा ससुर जी तुम्हे अपनी बेटी की बुर कैसी लगती है ? वह बोला जवानी में सबकी बुर अच्छी होती है।  मस्त होती है और मज़ा देती हैं।  उसकी भी बुर तेरी बुर की तरह ही है। मैं भी गाड़ उठा उठा के चुदवाने लगी।
चुदवाया तो मैंने पहले भी बहुत है  पर चुदाई का मज़ा आज बहुत ज्यादा आया । एक तो  मेरे ससुर का लौड़ा बड़ा मोटा तगड़ा है , दूसरे उसके चोदने की स्टाइल बहुतअच्छी है ।  मैंने कहा ससुर जी तुम बुर बहुत अच्छी तरह से चोदते हो। तो वह बोला अरे बहू मैं तो दर्जनों बुर चोद चुका हूँ और आज भी दर्जनों बुर चोदता हूँ। इसलिए मैं अब एक्सपर्ट हो गया हूँ। हमारे मोहल्ले की कोई ऐसी लड़की नहीं है जो मुझसे चुदवाती न हो ?  शादी हो जाने के बाद भी मुझसे चुदवाने आती हैं। लड़कियों की माँ भी खूब चुदवाने आती हैं।  मुझे भोसड़ा चोदने में उतना ही मज़ा आता है जितना की लड़कियों की बुर चोदने में ?  उससे गन्दी गन्दी बातें करके मैं तो मस्त हो गयी और थोड़ी देर में खलास हो गयी और उसके बाद वह भी खलास हो गया।  फिर मैं बाथ रूम गयी और वहां से वापस आ रही थी तो नन्द की कमरे की तरफ मुड़ गयी।  मैं झाँक कर अंदर देखने लगी। मैंने देखा की मेरी नन्द भी किसी से चुदवा रही है। चोदने वाला आदमी भी मेरे ससुर के बराबर था लेकिन मैं उसे पहचान नहीं पायी। इसी बीच लौड़ा उसकी चूत से बाहर निकला तो मैं लौड़ा देख कर दंग रह गयी।  उसका लौड़ा भी ससुर के लौड़े जैसा था।  मेरा मन फिर मचलने लगा।
मैं ससुर के कमरे में ही नंगी लेट गयी।  वह मेरे बगल में नंगा लेट गया। मैं जब सवेरे उठी तो उसके लण्ड पर नज़र पड़ी।  लण्ड बहन चोद शेर की तरह लेटा था।  उसका टोपा बाहर निकला हुआ था ही।  चिकना चिकना और साफ़ सुथरा तोप बड़ा खूबसूरत लग रहा था।  मेरा दिल लण्ड पर फिर आ गया।  मुझे प्यार आ गया और मैं झुक कर जबान से लण्ड का टोपा उठाने लगी। मैंने हौले से उठाया तो वह उठ भी गया। मैंने उसे मुंह में लिया और आहिस्ता आहिस्ता जबान से सुपाड़ा चाटने लगी।  इतने में वह जग गया।  बोला अरे बहू लण्ड पूरा ले लो मुंह में ? अचानक लण्ड टन टना कर खड़ा हो गया।  वह मेरी बुर सहलाने लगा।  मेरा मूड बन गया तो मैं लण्ड पर चढ़ बैठी।  लण्ड मेरी चूत में गचाक से घुस गया और मैं थोड़ा झुक कर कूद कूद कर लण्ड चोदने लगी। तभी मेरी अम्मी का फोन आ गया।  उस पर जो बात चीत हुई वो सब आपने ऊपर पढ़ा।
चुदाई के बाद मैं अपने कमरे में चली गयी।  थोड़ी देर में मेरी नन्द मेरे पास आ गयी।

  • वह बोली हाय भाभी तुम्हे मेरे अब्बू का लण्ड कैसा लगा ?
  • मैंने कहा लण्ड तो बड़ा मोटा और मस्त है यार।   मज़ा आ गया उससे चुदवाने में ? पर तू बता भोसड़ी की तू किससे चुदवा रही थी। किसका लण्ड पेल रही थी अपनी चूत में ? मैंने तुझे चुदवाते हुए देखा था।
  • अरे भाभी मैं भी अपने ससुर का लण्ड पेल रही थी अपनी चूत में ? मुझे उससे चुदवाने में बड़ा मज़ा आता है।  उसका भी लण्ड साला अब्बू के लण्ड की तरह है।
  • तो फिर किसी दिन मेरी भी चूत में पेल दे अपने ससुर का लण्ड नन्द रानी ?
  • हां भाभी जरूर पेलूंगी।  अभी पिछले हफ्ते जब वहआया था तो मैंने अपनी माँ के भोसड़ा में पेला था उसका लण्ड ? अम्मी को तो ज़न्नत का मज़ा आया उससे चुदवाकर।
  • तो क्या सासू जी ने कल किसी से नहीं चुदवाया ? क्योंकि उसका मियां तो मुझे चोद रहा था।
  • अरे भाभी तेरी सासू यानी मेरी अम्मी बिना चुदवाये कभी रह सकती है भला ? कल वह अपने जीजू से भकाभक चुदवा रही थी। जैसे तूने मुझे अपने ससुर से चुदवाते हुए देखा वैसे ही मैंने अम्मी को अपने जीजू से चुदवाते हुए देखा। उसका लौड़ा भी शानदार है भाभी ?
  • हाय अल्ला, इसका मतलब यहाँ सबके लौड़े मोटे तगड़े हैं, मेरा भी मन माँ चुदाने का हो रहा है।
  • हां भाभी तुम किसी दिन बुला लो अपनी माँ को।  लण्ड तो बड़े मोटे मोटे मैं पेलूंग