दोस्तों मैं स्कूल में पढाई करा करती थी उसी दौरान मेरे और मेरी सहेली के हमारे साथ पड़ने वाले लड़कों के साथ अवैध सेक्स संबंध बन चुके थे हम दोनों सहेलियों ने नैनीताल (उत्तराखण्ड) के एक होटल में अपने अपने बॉयफ्रेंड की अदला बदली करके भी सेक्स करा था और टांगे चौड़ी करवा के खूब मजे से चुदाई करवाई थी. आज की इस कामुकता से भरी अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरी में आप पढ़ेंगे की कैसे गर्मी की छुट्टियों में चुदक्कड़ सहेली ने मेरी सील पैक वर्जिन बुर की भी चुदाई करवा दी नैनीताल के एक होटल में. यदि आपको मेरी यह अन्तर्वासना हिंदी सेक्स कहानी पसंद आये तो इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करना…

दोस्तों मेरा नाम कविता है और मैं दिखने में एक बहुत ही सुन्दर और सेक्सी माल लड़की हूँ यदि एक बार आप मुझे देख लो तो मेरे नाम की मुठ मारे बिना नहीं रह सकते इस बात का मुझे पूरा पूरा विश्वास है. आज जो हिंदी सेक्स कहानी मैं आप को बताने जा रही हूँ वो एक बिलकुल सच्ची घटना पर आधारित है. यह घटना आज से दो साल पहले की है जब मै स्कूल में थी और 12वीं कक्षा मे पढ़ा करती थी. स्कूल में मेरा एक दोस्त था मस्तराम वो दिखने में बिलकुल सलमान खान के जैसा था इस वजह से बहुत सारी स्कूल गर्ल्स उस पर लाइन मारा करती थी मगर वो एक बहुत ही ज्यादा शरीफ लडका था इस लिए किसी भी स्कूल गर्ल को भाव नहीं दिया करता था.

नैनीताल के होटल में चुदक्कड़ सहेली ने मेरी सील पैक वर्जिन बुर की भी चुदाई करवा दी

नैनीताल के होटल में चुदक्कड़ सहेली ने मेरी सील पैक वर्जिन बुर की भी चुदाई करवा दी

मैं मस्तराम को बहुत पसंद करती थी और वो भी मुझे पसंद करता था. जब बारहवीं कक्षा की परीक्षा खत्म हुई और गर्मियों की छुट्टी शुरू हुई तो हम सभी दोस्तों ने कहीं बाहर घूमने जाने का प्लान बनाया. फिर सबकी राय जानने के बाद नैनीताल (उत्तराखण्ड) जाने की योजना बनी. भारत देश में नैनीताल एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण पर्यटक स्थल है इस लिए हम सभी बहुत रोमांचित थे वहां जाने के लिए. पांच लडकियां और दस लडके सभी बस मे बैठकर गर्मियों की छुट्टी बिताने के लिए एक साथ नैनीताल गये. वहां हमने सबसे पहले हमारे रहने के लिए एक सस्ता सा होटल बुक करवा लिया. फिर हम घूमने के लिए निकल पड़े गये.

हम सभी स्कूल फ्रेंड्स ने नैनीताल मे घूमकर खूब आनंद लिया. फिर जब हम थक गये तो अपने कमरो मे आकर आराम करने लगे. फिर हमने खाना वगैरह खाया और तब तक गहरी काली रात हो चुकी थी. हम सभी बहुत थक चुके थे इस लिए अब हम सभी सोने की तैयारी कर रहे थे. मेरे कमरे मे हम दो सहेलियां थी मै और मेरी चुदक्कड़ सहेली अनामिका. अनामिका पक्की चुदक्कड लडकी थी और वो अपनी अन्तर्वासना शांत करने के लिए आये दिन अपने बॉयफ्रेंड रॉनित से बहुत चुदवाती थी कई बार तो उसने घोड़ी बनकर अपने बॉयफ्रेंड के लंड से अपनी गांड भी मरवाई है ऐसा उसी ने मुझे बताया था. जब हम दोनो सोने वाली थी तो मैने देखा अनामिका ने टॉवेल लपेटकर अपनी जींस और पैंटी उतार दी.

फिर उसने अपना टॉप और ब्रॉ भी उतार दिया और टॉवेल मे ही बिस्तर पर लेट गयी. मैने मेरी चुदक्कड सहेली से पूछा ऐसा क्यो कर रही हो तो वो बोली की अपने बॉयफ्रेंड से चुदवाने के लिए. फिर वो बोली की आज रात मेरा बॉयफ्रेंड रॉनित मेरे साथ सेक्स करने वाला है इसलिए कपडे उतारे है मैने तू भी उतार ले अपने कपड़े और चुदने के लिए नंगी हो जा. मै मेरी सहेली से बोली चल साली रंडी मै क्यों उतारूं मेरे कपड़े…? तू चुदवा ले मुझे नही देनी मेरी सील पैक वर्जिन चूत किसी को भी चोदने के लिए. मेरी चुदक्कड़ सहेली अनामिका मुझसे बोली की साली कुतिया आज तो अपनी इस सील पैक वर्जिन बुर को चुदवा ले मेरी जान बहुत मजा आएगा सेक्स करने में. ऐसा कहते हुए उसने मेरे सारे कपडे उतारकर तौलिया लपेट लिया.

मेरी सील पैक वर्जिन बुर में भी लंड लेने के लिए बहुत ही ज्यादा खुजली हो रही थी तो इसलिए मैने भी उसकी इन हरकतों का बिलकुल भी विरोध नहीं करा. तभी मस्तराम और रॉनित दोनो अपनी अन्तर्वासना शांत करने के लिए हमारे कमरे मे दाखिल हुए. मस्तराम अवैध सेक्स संबंध बनाने के लिए मेरे पास आकर बैठ गया और फिर मुझे चूमते हुए मुझ कुंवारी लड़की की सील पैक वर्जिन बुर को अपने हाथों से मसलने लगा. वो मुझे गालो और होंठो पर बुरी तरह चूम रहा था और चुम्मा चाटी के दौरान मै भी उस हवस के पुजारी का पूरा पूरा साथ दे रही थी. फिर वो हवस का पुजारी मेरे कामुक जिस्म को चूमते हुए मेरे नीचे की तरफ आने लगा और मेरा तौलिया उतारकर मुझे नंगी धड़ंग कर दिया और मेरी सील पैक वर्जिन बुर के लाल लाल होठों पर अपने प्यासे होंठ रख दिये और चूसने लगा.

मुझ कामुकता से भरी कुंवारी लड़की को मेरी सील पैक वर्जिन बुर चटवाने मे बहुत मजा आ रहा था इसलिए टांगे भींचकर अपने आनंद को जब्त करते हुए आहे भर रही थी और छटपटा रही थी. फिर मस्तराम खडा हो गया और उसने अपनी पैंट और कमीज उतार दी.अब वो मेरे सामने नंगा खडा था. उसने अपना लंड मेरे हाथ मे दिया और मुँह मे लेने के लिए कहा. मै उसका लंड मुँह मे लेकर चूसने लगी. फिर उसने अवैध सेक्स संबंध बनाने के लिए मुझ नंगी वर्जिन लड़की को बिस्तर पर लिटाया और मेरी दोनों टांगे चौड़ी कर दी. अब मेरी चूत का खुला हुआ द्वार उसके सामने था. मस्तराम ने अपनी अन्तर्वासना शांत करने के लिए अपना खड़ा लंड मेरी सील पैक वर्जिन बुर के लाल लाल होठों पर रखा और रगडने लगा.

जब वो अपने लंबे और मोटे लंड को मेरी सील पैक बुर के होठों पर रगड़ रहा था मुझे बड़ा आनंद आ रहा था. फिर उसने मेरी सील पैक वर्जिन बुर की चुदाई करने के लिए अपने लंड को मेरी चूत के होठों पर सेट करा और मुझे कमर से पकड लिया. फिर उसने एक जो का धक्का मारा और उस बहन के लौड़े का लंबा मोटा लंड मेरी चूत को चीरता हुआ अंदर मेरी बच्चे दानी तक घुस गया. आज पहली बार कोई मेरी चुदाई कर रहा था इस लिए मुझे चुदवाने में बहुत दर्द हो रहा था मगर आनंद भी आ रहा था. आज मेरी वर्जिन बुर की सील टूट चुकी थी और मेरा कौमार्य भंग हो चूका था. अपनी खून से लथपथ फटी हुई बुर की चुदाई करवाने में मुझे बहुत ही ज्यादा दर्द हो रहा था.

थोडी देर के लिए वह रूका जब मेरा दर्द कम हुआ तो उसने एक और धक्का मारा. अब उसका पूरा लंड मेरी चूत मे था और मस्तराम मुझे चोद रहा था. वह मुझे धक्के लगा लगाकर पचड़ पचड़ चोद रहा था और मै भी गांड उठा उठाकर उसका लंड अपनी चूत मे ले रही थी. वो सेक्स करने के दौरान मुझे चूम भी रहा था और मेरे बड़े बड़े स्तनों से खेल भी रहा था. सेक्स करने के दौरान मै भी उसकी पीठ से हाथ लिपटाकर चुदवाते हुए कामुक आंहे भर रही थी. आज पहली बार कोई मर्द मेरी टाइट बुर में अपना लौड़ा पेल रहा था इस लिए मुझे भी चुदवाने मे असीम आनंद आ रहा था.

उधर रॉनित और मेरी चुदक्कड़ सहेली अनामिका भी अपनी अपनी अन्तर्वासना शांत करने के लिए हमारी तरह ही नंगे होकर शानदार चुदाई का आनंद ले रहे थे. हम चारो उत्तराखण्ड में होटल के एक ही कमरे मे नंगे होकर अवैध शारीरिक संबंध बना रहे थे. मस्तराम ने जोश में आकर मेरी फटी हुई बुर की चुदाई करने की गति बढा दी थी जिस वजह से मुझे भी अब चुदवाने में बड़ा आनंद आने लगा था. चुदवाते चुदवाते मुझे पता चल गया कि मस्तराम अब झडने वाला है.मै भी झडने के करीब आ ही गयी थी.

तभी मेरी कुंवारी बुर ने एक दम से कामरस का फव्वारा छोड दिया. कुछ ही समय बाद मस्तराम भी मेरी चूत मे झड गया. उसके लंबे मोटे लंड से निकला गरमा गर्म वीर्य मेरी खून से लथपथ चूत मे गिरने से मुझे बहुत मजा आया क्योकि उत्तराखण्ड में आज पहली बार मुझ कुंवारी लड़की की सील पैक वर्जिन बुर ने किसी मर्द के वीर्य का स्वाद चखा था. रॉनित और अनामिका ने भी सेक्स करके अपनी अन्तर्वासना शांत कर ली थी. थोडी देर हम ऐसे ही लेटे रहे. फिर हमारी दोबारा चुदाई की इच्छा होने लगी मगर इस बार हम कुछ अलग तरह का सेक्स करना चाहते थे इस लिए इस बार अनामिका ने चुदाई करवाने के लिए मस्तराम को पकड लिया था और रॉनित अपनी अन्तर्वासना शांत करने के लिए मेरे पास आ गया और एक बार फिर से शानदार चुदाई हुई.

मस्तराम ने गांड मारने के लिए अपना लंड मेरी चुदक्कड सहेली अनामिका की गांड में पेल दिया और उसकी गांड मारने लगा इधर रॉनित ने भी मेरी गांड मारने के लिए मुझे कुतिया बना दिया. इस तरह नैनीताल के उस होटल रूम में हम पूरी रात नंगे ही पडे रहे और अपनी अन्तर्वासना शांत करने के लिए बार बार चुदाई करते रहे. सुबह तक मेरी और मेरी चुदक्कड़ सहेली अनामिका की चूत सूजकर लाल हो चुकी थी और मस्तराम और रॉनित के लिंग भी बहुत ही ज्यादा सूज गये थे. दोस्तों यदि आप को मेरी ये अन्तर्वासना हिंदी सेक्स कहानी “चुदक्कड़ सहेली ने मेरी सील पैक बुर की भी चुदाई करवा दी” पसंद आई हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करना …