HomeAntarvasna Hindi Sex Storiesट्यूशन वाली दीदी की चूत चाट कर उनके मुँह की चुदाई करी

ट्यूशन वाली दीदी की चूत चाट कर उनके मुँह की चुदाई करी

दोस्तों मैं 11वीं कक्षा का विद्यार्थी हूँ और स्कूल में सबसे ज्यादा बदमाश लड़का हूँ. मेरा पढाई लिखाई में बिलकुल दिल नहीं लगता था क्योकि मैं गलत सांगत में पड़ चूका था और 18 साल की उम्र में ब्लू फिल्में देख देखकर मुठ भी मारने लगा था. इतनी कम उम्र में मुझे सेक्स के बारे में सारा ज्ञान प्राप्त हो चूका था. आज जो हिंदी सेक्स कहानी मैं आपको बताने जा रहा हूँ वो घटना तब की है जब मैंने एक बहुत ही सुन्दर और सेक्सी दीदी के घर पर ट्यूशन पढ़ने के लिए जाया करता था. दोस्तों मैंने मेरी वर्जिन ट्यूशन टीचर की टाइट सलवार और कुर्ती खोलकर उनकी सील पैक चूत चाट कर मैंने अपने खड़े लंड से उनके मुँह की भी चुदाई करी है. दोस्तों उम्मीद करता हूँ की आप सभी को ये हिंदी सेक्स स्टोरी बहुत पसंद आयगी…

मेरा नाम अभिषेक है और मैं 11 क्लास में पढ़ता हूँ. मेरी उम्र 21 साल है जिस उम्र में बच्चे कॉलेज में पढाई कर रहे होते हैं उम्र में मैं अभी भी स्कूल में ही पढाई कर रहा हूँ. मैं करीब 3 बार स्कूल में फेल हो चूका हूँ क्योकि मेरा मन पढाई में कम रंडी बाजी में ज्यादा था. दोस्तों जब मैं 18 साल का था तब मैं गलत सांगत में पढ़ गया था और तभी से गन्दी गन्दी ब्लू फिल्म देखने लगा था और पोर्न फिल्में देख देखकर मुठ भी मारने लगा था. मैं पढ़ता लिखता नहीं था और आये दिन स्कूल से मेरी शिकायत आया करती थी इस लिए मैं अक्सर अपने माँ बाप से मार खाया करता था. फिर मेरे माप ने मुझे जोर जबरदस्ती छोटे बच्चों के ट्यूशन में डाल दिया ताकि मुझे शर्म आये और मैं पढाई करने लगूं.

वर्जिन ट्यूशन वाली दीदी की सील पैक चूत चाट कर उनके मुँह की चुदाई करी

वर्जिन ट्यूशन वाली दीदी की सील पैक चूत चाट कर उनके मुँह की चुदाई करी

मैं 3 दिन तक ट्यूशन गया जहा एक 25 साल की सेक्सी लड़की छोटे स्कूल के बच्चों को पढ़ाया करती थी. वो दिखने में बहुत ही ज्यादा सुन्दर और सेक्सी माल थी. मेरी वर्जिन ट्यूशन टीचर अपने कामुक जिस्म पर अधिकतर सलवार कुर्ती पहना करती थी और उनकी सलवार व कुर्ती बहुत चुस्त एक दम फिटिंग की हुआ करती थी जो उनके जवान जिस्म को बहुत ही ज्यादा आकर्षित बना देती थी. दीदी को अपने कामुक जिस्म पर टाइट कपड़े पहना पसंद था क्योकि यो थोड़ी मॉडर्न थी. दीदी की टाइट कुर्ती से उभरते उनके मोटे मोटे स्तन मुझे हर दिन कामुकता से भर देते थे फिर मुझे अपनी कामुकता शांत करने के लिए रोज ट्यूशन से घर आने के बाद मुठ मारनी पड़ती थी.

मैं रोज रोज दीदी की याद में हस्तमैथुन करने लगा था और इसी वजह से मैं बहुत ही ज्यादा कमजोर होने लगा था. दोस्तों जैसे जैसे समय बीत रहा था वैसे वैसे अब मेरी कामवासना भी बहुत ज्यादा भड़कने लगी थी. मुझे अब कोई ना कोई कठोर फैसला लेना था अपनी कामवासना शांत करने के लिए. मेरे पास अपनी कामवासना शांत करने के दो ही तरीके थे पहला रास्ता था या तो मैं ट्यूशन जाना छोड़ कर घर में ही पढाई करूँ और दूसरा रास्ता था मैं दीदी के साथ सेक्स करके अपनी कामवासना शांत करूँ इसके अलावा मेरे पास कोई तीसरा रास्ता नहीं था. दीदी की चूत को चोदने जैसा असंभव काम तो मैं अपने सपनो में ही कर सकता था इसलिए फिर मैंने ट्यूशन जाना ही छोड़ दिया.

अब जब मेरे जालिम बाप को पता लगा की मैं ट्यूशन से बंक मार रहा हूँ तो उन्होंने मेरा मार मार कर बहुत बुरा हाल कर दिया और अगले दिन मुझे उस कामुक दीदी के घर फिर से ट्यूशन पढ़ने जाना पड़ा. अब दोस्तों 2 दिन जाने के बाद मैंने हिम्मत जुटा कर दीदी को अपने दिल की बात एक कोरे कागज पर लिख कर दे दी. मैंने एक कोरे कागज पर अपने दिल की बात लिख दी की दीदी मैंने जब से आपको देखा तब से मैं बहुत ही ज्यादा बैचेन रहने लगा हूँ मुझे आप काफी ज्यादा पसंद हो क्या आप मेरी गर्लफ्रेंड बनना पसंद करोगी मैं आप को बहुत प्यार दूंगा ? दीदी ने मेरे दिल की बात पढ़कर हसने लगी और मुझे घुर घूरकर देखने लगी. मुझे लगा दीदी ने हाँ कर दी है मेरी गर्लफ्रेंड बनने के लिए और अब हम दोनों के बीच बहुत जल्द सेक्स संबंध बनेंगे पर ऐसा नहीं था.

सबके जाने के बाद मैं दीदी के पास गया और उसने कहा क्या दीदी आप को भी मुझसे प्यार है??? मेरी ट्यूशन वाली कुंवारी दीदी मुझसे बोली की देखो अभिषेक यहाँ मैं बस बच्चों को ट्यूशन पढ़ाती हूँ और इसके अलावा तुम मुझसे कोई उम्मीद मत रखना वरना मैं तुम्हारे पापा को सब बता दूंगी की उनका बेटा पढाई करने की उम्र में अपनी ट्यूशन टीचर को ही लाइन मार रहा है. उसके बाद दीदी शरमाते हुए चली गई और मैं भी निराश होकर अपने घर चला गया. दोस्तों उस दिन मैंने कम से कम तीन बार दीदी के नाम की मुठ मारी थी. अगले दिन दीदी ने बहुत टाइट सलवार और कुर्ती पहना था. उनका देसी रूप देख मैं फिर ऊके लिए गंदा सोचने लगा. उस दिन दीदी का मूड कुछ अलग था. हम नीचे चटाई पर बैठ कर पढ़ते थे और दीदी ऊपर सोफे पर बैठ कर हमे पढ़ती.

हमें पढ़ाते पढ़ाते दीदी अपने मोबाइल मोबाइल फोन में कोई वीडियो देख रही थी. इसी दौरान मैं सबसे पीछे बैठा अपना लंड पेंट के ऊपर से ही सहलाने लगा और उनके कामुक फिगर को गन्दी नजरों से घुर घुर कर देकता रहा. देखते ही देखते दीदी अपनी जाँघे आपस में धीरे धीरे रगड़ने लगी यह देख मुझे लगा की शायद उनके अंदर कामवासना जाग्रत होने लगी है. जिस तरह से मेरी वर्जिन ट्यूशन टीचर अपने मोबाइल फोन में बार बार देख रही थी मुझे ऐसा लगा जैसे वो कोई गन्दी फिल्म देख रही हो. उस दिन दीदी सभी बच्चो को टेस्ट दिया था. जैसे जैसे बच्चे अपना टेस्ट पूरा करते गए वो एक एक करके वहा से जाने लगे. अंत में मैं बच्चा.

मुझे पता था की दीदी क्या देख रही है इसलिए सब बच्चो के जाने के बाद मैं भी अपनी टांगे खोल कर बैठ गया और दीदी को मेरा खड़ा लिंग दिखने लगा. दीदी मेरे लंड को देख मुस्कुराई और मैं उसे हाँ समज लिया. मैं जल्दी से आगे गया और दीदी की  सलवार खींच पर उतार दिया. दीदी हैरानी से मुझे देखने लगी और मैं चूत देख हकाबका रह गया. दीदी शर्म से अपना मुँह परे कर के बैठी रही और मैंने उनकी कच्छी के अंदर अपना हाथ गुसा लिया.  अंदर हाथ घुसा कर मुझे उनकी झांटे महसूस होने लगी जो काफी बड़ी बड़ी थी. मैं अपने ठन्डे हाथो से दीदी की गर्म चूत को सहलाने लगा और मेरा लंड टोपे से गीला हो गया.

दीदी की बुर पहले से ही गीली थी. अपना लंड खड़ा करने के लिए हमें इंस्टाग्राम पर फॉलो करे !! मैं धीरे धीरे उनकी जाँघे अंदर से चूमे लगा और दीदी को और गीला करने लगा. कुंवारी ट्यूशन वाली दीदी पहले तो शर्म से मुझ से आंखे नहीं मिला रही थी पर जैसे ही मैं उन्हें कुश करने लगा वो अपनी प्यारी आँखों से मुझे गन्दा काम करते देखने लगी. मैं अपने हाथो से उनकी टांगे पकड़ा और उन्हें धीरे से सहलाता रहा. दीदी की टांगे काफी मोटी और सेक्सी थी. मैं इसी तरह दीदी को छूने के बाद और दीदी ने अपनी कच्छी खुद उतारी और मेरे सामने अपना भोसड़ा खोल कर बैठ गई. दीदी ने अपनी दो उंगलियों से अपनी चूत खोली और मुझे देखने लगी.

मेरी कुंवारी ट्यूशन वाली दीदी की सील पैक टाइट चूत देख कर मेरा उसे चाटने का दिल करने लगा. मैंने अपनी ऊँगली से दीदी के झांटे के घने बालों को एक तरफ करा और चूत चाटने के लिए अपनी जीभ का रास्ता साफ कर दिया. चूत चाटने के लिए मैंने अपनी जीभ निकाली और धीरे धीरे दीदी की झांटे के घने बालों से ढकी चूत को अपनी लार टपकाती जुबान से चाटने लगा. आज पहली बार मैं किसी महिला की चूत चाट रहा था इस लिए मुझे उनकी चूत चाटने में बड़ा आनंद आ रहा था. मैं मेरी जीभ से दीदी की चूत चोदने लगा और इस चुदाई के दौरान देखते ही देखते दीदी की साँसे तेज हो गई और वो अपनी फूली हुई छाती को और फुला कर कर गहरी साँसे लेने लगी.

उनका सेक्सी रूप देख मैं भी पागल सा होने लगा और अगले ही पल मैंने दीदी की कुर्ती के अंदर अपना हाथ घुसाया और उनके दोनों बड़े बड़े स्तनों को पकड़ कर कुर्ती के अंदर ही अंदर जोर जोर से दबाने लगा. दीदी की टाइट चूत चाट चाट कर मैं पूरा मजा लेने लगा. मैंने दीदी के बड़े बड़े स्तनों को भी अपने जालिम हाथो से जकड़ रखा था और उन्हें भी जोर जोर से दवाये जा रहा था. करीब आधे घंटे तक दीदी की टाइट चूत चाटने के बाद मैंने अपना लंड पेंट से बाहर निकाला और दीदी के सामने खड़ा हो गया. दीदी मेरा लंड देखने लगी और ऐसा बर्ताव करने लगी जैसे उन्होंने किसी मर्द का लंड आज से पहले कभी देखा ही नहीं था.

फिर मैंने उन्हें मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसने के लिया बोला तो उन्होंने जल्दी से मेरा खड़ा लंड अपने मुँह में ले लिया और किसी रंडी की तरह मुझे ब्लोजॉब देने लगी. जब दीदी मुझे ब्लोजॉब दे रही थी उसी दौरान मेरी नजर उनके बगल में पड़े मोबाइल फोन पर गई जिसमे ब्लू फिल्म चल रही थी. उस ब्लू फिल्म में एक अंग्रेज अपने बड़े से लंड को एक नंगी लड़की में मुँह में डाल कर धके लगा रहा था और लड़की के मुँह से थूक ही थूक निकल रहा था. दोस्तों बिलकुल ऐसा ही द्रश्य मेरे और दीदी के साथ भी घटित हो रहा था. जब मैं दीदी के मुँह में लंड पेल कर उनके मुँह की चुदाई कर रहा था तो उनके मुँह से भी बहुत सारा थूक और लाल टपक रही थी.

फिर करीब दस मिनट के ब्लोजॉब के बाद मेरे लंड ने वीर्य की पिचकारी दीदी के मुँह में चला डाली और जैसे ही मैंने अपना लंड उनके मुँह से बाहर निकाला तो उनके मुँह से सफेद गढ़ा वीर्य लार के रूप में टपकने लगा. मैंने उनसे बोला की एक बार मुझे आपकी चूत की चुदाई भी करने दो मगर उन्होंने मुझसे चुदवाने के लिए बिलकुल साफ साफ मन कर दिया वो बोली की मैं वर्जिन हूँ और शादी से पहले अपनी सील पैक वर्जिन चूत की सील नहीं खुलवाना चाहती हूँ.

खैर मुझे तो मेरी मेरी वर्जिन ट्यूशन टीचर के मुँह की चुदाई करके ही पूरा आनंद मील चूका था इस लिए मैंने उनकी सील पैक चूत की चुदाई करने की ज्यादा जिद भी नहीं करी. लेकिन मैंने अभी भी उनकी सील पैक वर्जिन चूत की चुदाई करने की जिद नहीं छोड़ी है दिल ही दिल में मुझे पूरा यकीन है की एक दिन वो मेरे साथ अवैध सेक्स संबंध बनाने के लिए जरुर राजी होगी. मैं बहुत ज्यादा जिद्दी किस्म का लड़का हूँ जब तक ट्यूशन वाली वर्जिन दीदी की सील पैक चूत चोदुंगा नहीं जब तक उनको छोडूंगा नहीं…

You May Like This
Most Popular
What's New