दोस्तों मेरी आज की इस कामुकता से भरी असली अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरी में आप पढेंगे की कैसे जबरदस्ती रसीले स्तन से दूध चूसने के बाद मैंने मेरी कामुकता से भरी पड़ोसन भाभी के मुंह में जबरदस्ती अपना लंड डाल दिया चुदाई करने के लिए और उनके मुंह की चुदाई करने के बाद चूत भी मारी : हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम हरीश है और मैं 26 साल का एक कुंवारा लड़का हूँ जिसे ब्लू फिल्म देखकर मुठ मारने का बहुत ही ज्यादा शौक है. दोस्तों मेरी एक भाभी है जिसका नाम रंजना है वो मेरी पड़ोसन है उनके रसीले स्तन का आकार 36 है और में पिछले कई दिनों से उसके रसीले स्तन को पाना चाहता था, लेकिन मुझे कोई अच्छा मौका नहीं मिल रहा था, इसलिए में उस मौके की तलाश में लग रहा था और उस भगवान से दुआएं मांगता रहा.

एक दिन उनके घर के सभी बाहर गए थे, जिसकी वजह से वो घर में बिल्कुल अकेली थी और उनके पति भी अपनी दुकान पर गये थे. दोस्तों यह सब मुझे एक दिन पहले ही पता चला जब में उनके घर गया था. मैंने उसके रसीले स्तन को निचोड़ने और उनका बलात्कार करने का पूरा पूरा विचार बना लिया था और इसलिए में सुबह जल्दी ही उस कामुकता से भरी पड़ोसन भाभी के घर पर पहुंच गया. तब मैंने देखा कि वो सेक्सी माल भाभी उस समय बाथरूम में नहा रही थी, तो में वहीं पर बैठकर उनके बाथरूम से निकलने का इंतजार करने लगा और कुछ देर बाद वो नहाकर बाहर निकली और उन्होंने मुझे देखा और वो मेरी तरफ मुस्कुराई उन्होंने मुझसे पूछा कि में कब से उनके घर पर बैठा उनका इंतजार कर रहा हूँ?

पड़ोसन भाभी के मुंह में जबरदस्ती अपना लंड डाल दिया अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरी

पड़ोसन-भाभी-के-मुंह-में-जबरदस्ती-अपना-लंड-डाल-दिया-अन्तर्वासना-हिंदी-सेक्स-स्टोरी

तब मैंने बोला कि अभी कुछ देर पहले ही में आया था और फिर वो मेरे लिए चाय बनाने रसोई में चली गई और जब वो चाय बना रही थी तो मैंने उनके पीछे से जाकर उनकी दोनों आँखो पर अपने हाथ रख दिए, तो उन्होंने मुझसे पूछा कि यह क्या कर रहे हो? मैंने बोला कि कुछ नहीं, उसके बाद मैंने थोड़ी हिम्मत करके उसके दोनों हाथों को उनके रसीले स्तन के पास वाली जगह से पकड़ा जिससे उनके रसीले स्तन का सुखद अनुभव मुझे मिला. मेरे हाथ भी उनके मुलायम रसीले स्तन को दबा रहे थे, लेकिन मुझे थोड़ी देर के लिए वो मज़ा मुझे मिला था.

फिर मैंने महसूस किया कि उन्होंने अब तक मेरा कोई भी विरोध नहीं किया था जिसको देखकर महसूस करके मुझे लगने लगा था कि शायद वो भी मुझसे ऐसा ही कुछ करवाना चाहती है और उनके मन में ऐसा कुछ चल रहा है, लेकिन वो कहने से डरती है या फिर मुझसे छुपा रही है. वो कहने लगी कि प्लीज मेरे साथ जबरदस्ती मत करो मुझे छोड़ दो हमें कोई देख लेगा चलो अब दूर हटो मुझसे. मैंने उनके कहने पर उनको अपनी बाहों से आजाद कर दिया और में बाहर आकर बैठ गया, तो वो मेरे लिए चाय बनाकर ले आई और में उनसे बातें करता रहा और उनसे हंसते हुए बातें करते करते में उनके रसीले स्तन को घूर घूरकर देख रहा था.

अपने रसीले स्तन पर मेरी खा जाने वाली नजर को देखकर उन्होंने मुसकुराते हुए अपनी गोरी छाती को अपनी चुन्नी से ढक लिया, लेकिन फिर भी मुझसे उनकी ब्रा साफ दिखाई दे रही थी और चाय पीने के साथ साथ कुछ देर हंसी मजाक इधर उधर की बातें करने के बाद वो शादी शुदा सेक्सी माल भाभी अब उठकर दोबारा रसोई में खाना बनाने चली गयी. में भी रसोई में चला गया और तब मैंने जानबूझकर किसी ना किसी बहाने से उनके रसीले स्तन को दो तीन बार और छूकर मज़े लिए और उसके बाद हम दोनों उनके पति जिनको में भैया कहता था उनको खाना देने चले गये.

हम दोनों पड़ोसी करीब दस मिनट के बाद वापस घर लौट आए और तब मैंने उनसे बोला कि मुझे तुमसे कुछ बात करनी है, तो वो बोली कि हाँ कहो ना क्या कहना चाहते हो? तो मैंने उनसे बोला कि पहले तुम सोफे पर बैठ जाओ, तब उस कामुकता से भरी पड़ोसन भाभी ने बोला कि नहीं अभी मेरे पास बहुत सारा काम पड़ा है, में बैठ नहीं सकती में काम खत्म करके अभी आती हूँ और उसके बाद हम आराम से बैठकर बहुत सारी बातें करेंगे, अब में चलती हूँ.

दोस्तों मैंने उसके चेहरे को देखकर उसके मन की बात को पढ़ लिया था कि उसके मन में अब क्या चल रहा है और वो यह सभी बातें मुझसे झूठ कह रही है और तभी मैंने उनको पकड़कर जबरदस्ती अपने पास सोफे पर बैठा लिया और फिर मैंने उसका हाथ इस तरह से पकड़ा कि मेरी शरारती उँगलियाँ उसके रसीले स्तन को छू रही थी. तब उन्होंने मुझसे पूछा हाँ बताओ? और फिर वो मेरा हाथ हटाने लगी. तब मैंने भी अपना हाथ बिल्कुल भी नहीं हटाया और अब में उससे इधर उधर की बातें करने लगा और अपने पैर पर मैंने अपनी कोहनी को रखकर में इस तरह बैठा था कि में उसके रसीले स्तन को अंदर तक साफ देख लूँ और में उससे थोड़ी देर तक हंसकर बातें करता रहा.

उसके बाद मैंने कभी टीवी की तरफ तो कभी इधर उधर देखा और दोबारा से में उस कामुकता से भरी पड़ोसन भाभी के दूध से भरे मोटे मोटे रसीले स्तन को घुर घुर कर गन्दी नजरों से देखने लगा और थोड़ी देर बाद में सिर्फ़ उनके रसीले स्तन को ही देख रहा और उनसे बातें कर रहा था. मेरा पूरा ध्यान उनकी छाती पर था और बातों पर कम था. दोस्तों वो यह सब देख रही थी, लेकिन फिर भी वो मुझसे कुछ नहीं बोली और मुझसे बीच बीच में वो अपने होंठो पर भूखी बिल्ली की तरह अपनी जीभ घुमा रही थी और में यह सब देख रहा था.

एकदम से मैंने कामुकता से भरी पड़ोसन भाभी की मोटी मोटी आँखो में देखना शुरू कर दिया और उसके होंठो को देखना शुरू किया अब उसने मुझसे बोला कि में अब जा रही हूँ और तुम यहाँ आराम से बैठकर टीवी देखो, मुझे बहुत सारे काम भी खत्म करने है और मुझसे यह बात कहकर वो उठी. में भी एकदम से उठकर खड़ा हुआ और मैंने उसको पीछे से पकड़ लिया, वो मेरी बाहों में थी और मेरे दोनों हाथ उनके रसीले स्तन के ठीक नीचे थे, वो मेरी मजबूत पकड़ में थी. उन्होंने अपने आपको मुझसे छुड़ाने की थोड़ी बहुत कोशिश की, लेकिन मैंने उसको नहीं छोड़ा और मैंने उनकी आखों में आखें डाली और देखने लगा और उन्हें डराने धमकाने लगा की आज मैं हर हाल में उनका बलात्कार करके ही दम लूँगा.

अब उन्होंने मुझसे कुछ नहीं बोला बस देखती रही और में भी कुछ देर तक लगातार उनकी आखों में देखता रहा और उनको में अपने और ज्यादा करीब ले आया. फिर कामुकता से भरी पड़ोसन भाभी बोली कि प्लीज छोड़ दो मुझे मेरा बलात्कार मत करो कोई आ जाएगा प्लीज अब दूर हटो मुझसे और वो यह शब्द कहते हुए मुस्कुरा भी रही थी और फिर इतना सुनने के बाद मैंने उनका वो इशारा तुरंत समझकर उनके होठों पर अपने होंठ रख दिए और में चूमने लगा, उन्होंने मुझसे छूटने की बहुत कोशिश की, लेकिन कामयाब ना हो पाई. अब में सही मौका देखकर उनके होंठो को चूसते समय उसकी पीठ और रसीले स्तन पर भी अपने हाथ फेरने लगा जिसकी वजह से उस कामुक महिला को अब हल्का हल्का सेक्स चड़ने लगा.

फिर कुछ देर बाद मैंने उनको छोड़ दिया और में तुरंत दरवाजे को बंद करने चला गया वहाँ से पड़ोसन भाभी को में अपनी गोद में उठा लाया वो मना करने लगी और कहने लगी कि यह सब ग़लत है प्लीज छोड़ दो मुझे नीचे उतारो. फिर बिना कुछ सुने मैंने उनको बेडरूम में ले जाकर ड्रेसिंग टेबल के सामने खड़ा कर दिया और उसके बाद में उनके होठों को चूसने लगा. कुछ देर बाद मैंने महसूस किया कि अब वो भी मेरा साथ देने लगी थी. हम दोनों उस समय बहुत जोश में थे और हमारे जिस्म में वो आग बराबर लगी थी.

उसके बाद मैंने पड़ोसी भाभी के कुर्ते को पूरा ऊपर उठाकर उतार दिया और अब मैंने उनकी ब्रा जिसके पीछे मेरे लिए उन दोनों निप्पल में बहुत सारा दूध भरा था मैंने उसको अपने हाथों से उसके हुक खोलकर उतार दिया और फिर में उसके निप्पल को दबाने लगा और अपने मुंह में लेकर उनका रस पीने निचोड़ने लगा, जिसकी वजह से उनको सेक्स चड़ने लगा और वो प्लीज छोड़ दो मुझे आह्ह्ह्ह्ह्ह् आईईईई प्लीज ज्यादा ज़ोर से मत दबाओ उफ्फ्फ्फ प्लीज हरीश अब बस भी करो, क्या तुम आज मेरी जान भी निकालकर मेरा पीछा छोड़ोगे?

अब उस कामुकता से भरी पड़ोसन भाभी ने मेरे हाथ को अपने रसीले स्तन से हटाकर अपने एक निप्पल को मेरे मुंह पर लगा दिए और उसके बाद मेरे सर को वो ज़ोर से अपनी छाती पर दबाने लगी और में ज़ोर ज़ोर से खींचकर उसके निप्पल से दूध चूसने लगा. दोस्तों रसीले स्तन से दूध चूसने की वजह से वो अब बिल्कुल बेकाबू सी हो चुकी थी और उसको जोश में आकर बिल्कुल भी होश नहीं था और इस बात का फायदा उठाकर में तुरंत उसकी सलवार का नाड़ा खोलने लगा.

उसके बाद जोर जबरदस्ती मैंने पड़ोसी भाभी की पूरी सलवार को तुरंत खींचकर नीचे उतार दिया था. दोस्तों में किसी औरत को पहली बार अपने सामने नंगा देख रहा था. अब मैंने कामुकता से भरी पड़ोसन भाभी की कामुक चूत को बहुत ध्यान से देखना शुरू किया और फिर में उस पर धीरे से अपनी उंगली को फेरने लगा नंगी भाभी मेरी इस हारकर का विरोध करने लगी मगर फिर मैं जोर जबरदस्ती उस शादी शुदा महिला की टाइट चूत में अपनी जीभ को डालकर उस गीली चूत को चूसने और चाटने लगा.

नंगी पड़ोसन भाभी ने मुझे अपनी टाइट चूत से दूर हटाने की बहुत बार कोशिश की लेकिन मैं जोर जबरदस्ती लगातार उनकी टाइट चूत को किसी आवारा कुत्ते की तरह चाटने में लगा रहा. वैसे उनके पति ने कभी भी उनके साथ ऐसा नहीं किया था इसलिए वो मेरे साथ बहुत मज़े ले रही थी. कुछ देर बाद मैंने उनकी चूत में देसी घी लगाकर चूत को चाटना शुरू किया तो वो एकदम पागल हो गयी और सिसकियाँ लेने लगी. उसके बाद मैंने भाभी के मुंह में जबरदस्ती अपना लंड डाल दिया. दोस्तों मैंने जबरदस्ती मेरा खड़ा लंड पड़ोसन भाभी के मुंह में दाल दिया था और पुरे जोश के साथ उनके मूंह की चुदाई करे जा रहा था और वो भी अपने मूंह की चुदाई करवाते उमह…. उमह… जैसी मादक सिसकियाँ ले रही थी.उन्होंने बहुत देर तक मज़े लेकर चूसा और जिसकी वजह से मुझे बहुत आनंद मिल रहा था.

कुछ देर बाद मैंने कामुकता से भरी पड़ोसन भाभी से बोला कि में अब नीचे लेट रहा हूँ आप मेरी छाती पर एक तकिया रखकर उस पर बैठ जाओ और वो जैसे ही तकिया रखकर उस पर बैठी उनकी चूत बिल्कुल मेरे होंठो को छू रही थी तो में उनको थोड़ा और अपने पास ले आया, जिसकी वजह से अब उनकी चूत पूरी मेरे मुंह में थी और उनकी चूत का जो स्वाद था वो बहुत अच्छा सबसे अगल हटकर था और मैंने उनकी चूत को करीब दस मिनट तक लगातार अंदर तक अपनी जीभ को डालकर चाटा चूसा जिसकी वजह से अब तक वो बिल्कुल पागल हो चुकी थी.

जो महिला अभी कुछ देर पहले तक मेरे साथ अवैध सेक्स संबंध बनाने के लिए बिलकुल भी तैयार नहीं थी बही अब मुझे बोल रही थी की आह्ह्हह्ह उफ्फ्फ्फ़ हाँ खा जाओ इस प्यारी बुर को ऊईईईइ इसने मुझे बड़ा दुःख दिया है हाँ इसका पूरा रस चूस लो स्सीईईईइ मुझे ऐसा मज़ा पहले कभी तुम्हारे भैया के साथ भी नहीं आया. तुम तो बहुत कुछ जानते हो उनको तो ऐसा कुछ भी नहीं आता और उन्हें लंड मेरे अंदर डालकर दो चार धक्के मारने के बाद थककर सोना ही उन्हें आता है, लेकिन तुम्हे तो कुछ ज्यादा ही आता है, हाँ पूरा जाने दो.

अब मैंने कामुकता से भरी पड़ोसन भाभी को अपने ऊपर से हटने का इशारा किया और ऊपर से हटने के बाद मैंने भाभी को जोर जबरदस्ती चोदने के लिए नीचे लेटा दिया. मैंने उनकी गीली चूत को पूरा खोलकर उनके दोनों पैरों के बीच में बैठकर अपने लंड को मैंने उनकी खुली चूत के मुंह पर रखा और धीरे धीरे धक्के देकर लंड को अंदर डालना शुरू किया जो फिसलता हुआ जा रहा था. मैंने अपना पूरा लंड कामुकता से भरी नंगी पड़ोसन भाभी की चूत की गहराई में डालकर अपने धक्कों को थोड़ा ज्यादा तेज करके करीब 10-15 मिनट तक उनको लगातार चोदा और भाभी ने भी अपनी गांड को उठा उठाकर मेरा पूरा साथ दिया.

नंगी पड़ोसन भाभी की खतरनाक चुदाई करते करते में अब कामुकता से भरी नंगी पड़ोसन भाभी की बुर के अंदर झड़ने वाला था इसलिए में अपने धक्के देने में लगा रहा और साथ में रसीले स्तन को भी सहलाता रहा और फिर हम दोनों ही कुछ देर बाद एक एक करके ढेर हो गये. हम दोनों अब झड़ चुके थे और मैंने अपने वीर्य को उनकी चूत की गहराईयों में डाल दिया और उसकी गरमी को अपनी चूत में महसूस करके वो बहुत संतुष्ट नजर आई.

थोड़ी देर बाद मैंने पड़ोसन भाभी के रसीले स्तन को चूसना शुरू कर दिया और में निप्पल को भी मसलने लगा. अब वो मुझे बहुत खुश नजर आ रही थी और कुछ देर और वहां पर रुकने के बाद में अपने घर पर चला आया. दोस्तों मुझे तो मेरी पड़ोसन भाभी के मुंह और बुर की जबरदस्ती अपने खड़े लंड से चुदाई करने में बहुत आनंद आया था यदि आप को मेरी ये हिंदी सेक्स स्टोरी पसंद आई हो तो इसे ज्याद से ज्यादा शेयर जरुर करना…