छोटे व पतले लंड वाले नपुन्संक जीजा के सामने भाई ने नंगी करके अपनी गर्भवती बहन की खतरनाक चुदाई करी और उसकी चूत में वीर्य की पिचकारी चलाई अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरी :- दोस्तों जब मेरी बहन पूजा की शादी नहीं हुई थी तब मैंने कई बार बहुत ही खतरनाक चुदाई कर रखी है. मगर अब उसकी शादी हो चुकी थी और मैं बिचारा उसका इकलौता भाई उसके नाम की मुठ मार कर अपना जीवन काट रहा था. फिर शादी के करीब चार महीने बाद मेरी बहन का मेरे मोबाइल फोने पर कॉल आया और उसने कहा की एक गुड न्यूज है भाई….  मैंने मजाक मजाक में उससे पुचा की क्या हुआ मैं तेरे बच्चे का बाप बनने वाला हूँ क्या साली रंडी???

वो शरमाते हुए बोली हाँ भाई मै गर्भवती हूँ और बहुत जल्दी माँ बनने वाली हूँ मगर ये बच्चा तेरा नहीं बल्कि तेरे जीजा जी का है! मैंने कहा अच्छा! वो बोली और हाँ कुछ ही दिनों में करवा चौथ हे तो मम्मी मेरे लिए कुछ सामान भेज रही हे. और मैंने मम्मी को कहा हे की वो भाई के साथ ही सामान भेजें और मैं तुम्हे यहाँ कुछ दिन अपने घर रखूंगी और हम भाई बहन मिलकर खूब जमकर अवैध सेक्स संबंध बनायंगे. बहन की अवैध सेक्स संबंध बनाने वाली बात सुन के मुझे बहुत अच्छा लगा क्योकि शादी हो जाने के बाद भी मेरी बहन का प्यार मेरे लिए बिलकुल भी कम नहीं हुआ था वो गर्भवती थी मगर फिर भी मेरे लंड से अपनी चूत की चुदाई करवाने के लिए तड़प रही थी.

छोटे व पतले लंड वाले नपुन्संक जीजा के सामने गर्भवती बहन की खतरनाक चुदाई करी अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरी

छोटे-व-पतले-लंड-वाले-नपुन्संक-जीजा-के-सामने-गर्भवती-बहन-की-खतरनाक-चुदाई-करी-हिंदी-सेक्स-स्टोरी

दीदी ने कहा, सच में और भी बहुत सारी बातें हैं मेरे पास तुझे बताने के लिए लेकिन वो सब तू जब यहाँ मेरे ससुराल आएगा तब बताउंगी! मैंने मम्मी को बताया तो वो खुश हो के बोली, वाह मेरा मनु अब जल्दी ही मामा बनेगा उनकी बातों सुनकर मुझे मन ही मन हँसी आ रही थी की यदि उन्होंने मेरी बहन की शादी नहीं करी होती तो आज मैं मामा नहीं बल्कि अपनी बहन के बच्चे का पिता बनने वाला होता और मेरी मम्मी नानी नहीं दादी बन्ने वाली होती. फिर दो दिन बाद ही मैं बहनचोद भाई मम्मी की दी हुई सामग्री लेकर अपनी पूजा दीदी के ससुराल जाने के लिए निकल पड़ा.

घर पहुँच के बेल बजाई तो मेरे जीजू ने ही दरवाजा खोला. जीजा ने मुझे कहा, आओ मेरे लकी साले जी कुछ ही दिनों में तुम मामा बनोगे अब तो.पूजा दीदी जो शोर्ट निकर और ढीली टी शर्ट में थी वो भी मुझे देख के भागी आई. उसके उछलते हुए चुन्चो ने मुझे बता दिया की उसने अन्दर कोई ब्रा नहीं डाली थी. और वो सीधे ही मुझे लिपट गई. उसके नुकीले बूब्स मेरी छाती के ऊपर इश्क के खंजर के जैसे चिभ से गए. शादी के बाद तो उसके बदन में और भी बदलाव आये थे. वो और कस सी गई थी और उसके बूब्स और भी फुल चुके थे. वो अपनी सेक्सी गांड को हिलाते हुए मेरे पास दौड़ के आइ थी.

फिर उसने मुझे होंठो के ऊपर किस दिया अपने पति के सामने ही तो मुझे थोडा अजीब लगा.मैंने धीरे से दीदी के कान में कहा अरे लिप किस नहीं जीजू देखेंगे. वो बोली, कौन ये? अरे वो मर्द ही नहीं हे तेरे मुकाबले में. एक लुल्ली को पेंट में घुमा रहा हे इतना बड़ा हो के. तेरे और उसके लंड को साइड बाय साइड रख दिया तो उसका लंड बच्चा लगेगा तेरे लंड का. और जो मेरे पेट में पल रहा हे तो उसका नहीं लेकिन हम दोनों का ही बच्चा हे मेरे भाई. इस हलकट की औकात नहीं हे बच्चा पैदा करने की क्योकि इनका लंड तो बहुत पतला और छोटा है.

फिर मेरे छोटे और पतले लंड वाले जीजा के सामने ही मुझसे मेरी गर्भवती बहन बोली क्यों मेरे होने वाले नाजायज बच्चे के बाप तुम अपनी इस पत्नी को उसके भाई के लंड से चुदते हुए देख मुठ मारोगे ना ? तुम एक कौने में छिप के हम दोनों को अवैध सेक्स संबंध बनाते हुए देखना की कैसे दो सगे भाई बहन अपनी हवस शांत करते हैं एक दुसरे के नंगे जिस्म से. जीजा ने जो कहा वो मेरे लिए शोकिंग था. मेरे छोटे और पतले लंड वाले जीजा जी बोला, अरे कौने में क्यूँ बैठकर देखूँगा साली रांड मैं तो बल्कि सामने बैठ के ही तुम दोनों भाई बहनों की चुदाई देख सकता हूँ और मैं भी मेरे साले साहब के लंड को करीब से देखना चाहता हु मेरी जान. मैं अपने हाथ से उसके लंड को तुम्हारी इस टाइट चूत के मुँह में रखूँगा ना.

मेरी बहन ने जोर से चिल्ला के कहा, नहीं साले कुत्ते तू हम से दूर रहेगा. साले हरामी तू क्या देखेगा लंड को. तिन महीने में एक बार भी अपने दुबले पतले लंड से मेरी चूत सही ढंग से चोद नहीं सका और ना ही आज तक मेरी गांड के साथ कोई कांड कर पाया है. मेरी इतनी टाइट चूत में तू अपना ये पतला और छोटा सा लंड डाल कर पेशाब कर लेता हे भडवे. मेरा भाई मुझे चोदेगा आराम से और तू अपनी मुठ निकाल देना तोवेल के अन्दर जैसा तू बचपन से करता आया हे अपनी छुटकी लुल्ली से. चाहिए तो तू भी मेरे भाई के लंड को थोड़ा चूस लेना ताकि तेरे लंड में भी कुछ कुछ असर आ जाए उसका…

मेरे मेरे छोटे और पतले लंड वाले जीजा जी ने नम आँखों से कहा, लेकिन मैं तुम्हारा निकर तो उतार दू सिर्फ और तुम्हारी टाइट चूत को उसके लिए नंगी कर दूँ. मेरी कामुकता से भरी गर्भवती बहन ने कहा ठीक हे, लेकिन मेरी चूत को टच करने की कोशिश भी मत करना. जीजू ने हां में अपनी मुंडी को हिलाई और वो मेरे सामने ही मेरी बहन को न्यूड करने लगा. मैं वही खड़ा हुआ इस अजीब सिन को अपनी आँखों से देख रहा था. मेरा लंड अब खम्बा होने लगा था. जब दीदी का निकर उसके घुटनों के ऊपर था तो मेरा तम्बू बन चूका था.

मेरे नामर्द जीजा ने खड़े हुए मेरे कडक लंड को देखा और वो एक गन्दी स्माइल से हंस पड़ा धीरे से. और फिर उसने कहा, कहो तो इस मर्द की पेंट भी मैं ही निकाल दू? मैंने कहा ठीक हे जीजू और चाहो तो लंड की चुम्मी भी ले लेना. और फिर मैं तुम्हारी बीवी को मजे से चोदुंगा. मेरे जीजा जी ने मेरी पेंट उतारी और फिर अंडरवेर को भी निकाल दिया. मेरे लंबे और मोटे लंड को देख के उस नामर्द के हाथ जैसे कांपने लगे थे. उसने मेरे मोटे लंड के ऊपर हाथ लगाया और उसे टच करते उसकी आँखों में एक चमक सी आ गई. मेरी कामुकता से भरी गर्भवती बहन ने भी शायद मेरे आने के लिए अपनी झांट बनाई हुई थी.

मेरी गर्भवती बहन की चूत गुलाब की पंखड़ियों के जैसी लाल लाल और कोमल लग रही थी. मेरे लंड को छोड़ के जीजा अब हमारे लिए वोडका लेने चला गया. और फिर उसने हम तीनो के लिए पेग बनाए. पूजा दीदी दीवान बेड के ऊपर जा बैठी और वोडका पिने लगी. मैंने और जीजा ने तो एक ही घोंट में सब वोडका पी ली. और फिर मैं अपनी बहन के पास चला गया बेड के ऊपर.मेरी कामुकता से भरी गर्भवती बहन ने अपनी कमर को मोड़ के मेरे लंड के ऊपर अपनी उंगलिया रख दी. उसके हाथ में मेरी फेवरेट ग्रीन नेल पोलिश लगी हुई थी.

वो लंड को एक दम प्यार से टच कर रही थी ऊपर से निचे तक और फिर दीदी ने पुरे लंड को अपने हाथ की मुठ्ठी में दबा सा लिया.वो बोली, वाह मेरे छोटे भाई तेरा लंड देख के आज तेरी बहन को जो सकून मिला हे वो मैं बता नहीं सकती हूँ. किरन की हाजरी से खलल तो नहीं होगा ना तेरे सेक्स में? वो तू कहेगा तब यहाँ से खिसक लेगा. और फिर मेरा लंड उसकी पूरी लम्बाई में तन गया दीदी के हाथ में ही. मेरी कामुकता से भरी गर्भवती बहन ने अपनी टी शर्ट को ऊपर कर दिया और अपने सेक्सी बूब मुझे दिखाए.

तभी मेरे नामर्द जीजा वहाँ से दूर चले गए और हम दोनों को एक कौने से देखने लगा. मैं दीदी के पास लेट गया और हम दोनों ने 69 पोजीशन बना ली. मैंने अपने चहरे को उसकी चूत में दफन कर लिया और वो मेरे लंड को अपने मुहं में भर के उसे चूसने लगी.कुछ देर लंड चूस के मेरी दीदी एकदम चुदासी हो गई थी. वो मेरे लंड को अपनी प्यासी चूत के अन्दर डलवा लेना चाहती थी जल्दी से जल्दी अब. उसने मेरे लंड के मांस को खूब चूसा और अन्डो को हाथ में ले के दबाये. मैंने भी उसकी सेक्सी गांड को दबा दबा के उसकी चूत के जाम को पी लिया.वो बोली, अपनी ऊँगली को मेरी गांड में डाल दो मजा आता हे. 

मैंने उसकी बात मान ली और अपनी बड़ी ऊँगली को उसकी टाईट एसहोल में घुसा दी.अपने मुहं से मेरा लंड निकाल के वो बोली, अह्ह्ह्ह अह्ह्ह यस और अन्दर डाल ना उसे मादरचोद.  मैंने कहा मेरी रंडी बहन के लिए कुछ भी! और तुम्हे मेरा लंड कहा चाहिए? तुमने गांड मरवाने का वादा किये भी काफी वक्त हो गया हे. वो बोली, गांड में बाद में मेरी जान. पहले तो मेरी चूत की आग को शांत करो. तेरे रंडवे जीजा का पेनिस किसी काम का नहीं हे. उसके पास तो मैंने ऊँगली से ही अपनी चूत को शांत करवाया हे अब तक. वो सिर्फ चूत को देख के लंड हिला सकता हे उसके अन्दर औरत को चोदने की ताकत ही नहीं हे जैसे.

फिर मेरी बहन ने मुझसे अपने प्यार का इजहार करा और बोली की भाई तुम ही मेरे असली मर्दाना पति हो. आज तुम ही मेरी इस प्यासी चूत को चोदकर खुश कर दो. उसकी जबान मेरे लंड के ऊपर और भी जोर करने लगी थी और मेरी गर्भवती बहन मेरे लंड के निचे लटके अंडकोष को भी जोर से मसल रही थी. सच में अपने अंडकोष दबवाने की एकदम ही अलग फिलिंग थी. फिर मेरा लंड चुदाई करने के लिए बड़ा होता ही गया. मैंने भी खूब खाई अपनी गर्भवती बहन की चूत को और करीब दस मिनट तक अपनी जीभ से ही उसकी चूत की खुजली शांत करने की कोशिश करी. 

मेरी गर्भवती बहन की सेक्सी चूत चाटते चाटते मेरे मुहं से निकला, ओह दीदी आज तो बड़ा मजा आ गया आपकी चूत खाने में. अब चलो जल्दी से अपनी पुसी दे दो वरना मेरा पानी मुहं में ही निकल पड़ेगा.वो निचे लेट गई और मैं उसके ऊपर चढ गया. मैंने उसकी गांड की फांक को हाथ से सहलाया. उसने अपनी टाँगे मेरे लिए खोल दी. और मेरे लंड के डंडे को वो अपनी चूत की दिवार के ऊपर ब्रशिंग करने लगी. उसकी चूत के अन्दर से प्यार के रस बहने लगे थे और उस फूली हुई चूत में जैसे लंड अपने आप ही घुस रहा था. मैंने उसे एक किस किया और अपने लंड के सुपाडे को उसके खुले हुए पुसी लिप्स में मारा. मैं ज्यादा वक्त लेना चाहता था एन्जॉय कर कर के.जैसे ही उसको मेरे लंड का टच फिल हुआ अपनी चूत में वो बोल पड़ी, ओह भाई मुझे चोद दो!

मैंने धीरे धीरे अपने लंड को उसकी चूत में चलाना चालू कर दिया और जब मेरा लंड उसकी क्लाइटोरिस के ऊपर टच होता था तो उसे बहुत ही अच्छा लगता था.वो बोली, मनु मादरचोद मेरे भाई इतना क्यूँ तडपा रहे हो मुझे पता हे की अभी तो आधा लंड ही अन्दर डाला हे. अपनी बहन की प्यासी चूत को और मत प्यासा रखो अपना पूरा लंड डाल के अपनी हॉट बहन को चोदो मेरे भाई.ये सुन के मैंने अपने लंड के झटके बढ़ा दिये और पुरे लंड को अन्दर पेल के झटके देने लगा. ये हुई ना बात, अब अच्छा लगा जब ये लंड मेरी चूत की गहराई में घुसा मेरे भाई, वो बोली.

मैंने उसे धक्का दिया और पूरा लंड चूत में डाल के उसे किस करते हुए एकदम जंगली के जैसे उसे चोदने लगा. मैं जैसे कोई जानवर बन गया था अपनी बहन की चूत को चोदते हुए. मेरे लंड और उसकी चूत का ये मिलन सच में बहुत ही मिस किया था हम दोनों ने ही! तभी मेरे बदन का खून एकदम गरम हो गया. लंड की नाली में वीर्य बह निकला था. मैंने लंड को अंदर पार्क कर दिया और बहन ने भी चूत के मसल को मेरे लंड के ऊपर दबा दिया. उसे भी पता लग गया था की मैं झड़ने को था. मैंने निचे झुक के उसके बड़े निपल्स को अपने मुहं में डाल के चूसे. मेरी गर्भवती बहन बोली, आवाज आ रही हे मेरे रंडवे पति की मुठ मारने की.

मेरा साला नपुन्संक जीजा हम दोनों भाई बहनों को सेक्स करते हुए देख रहा हे. फिर वो मुझसे पूछने लगी की भाई यदि तुम कहो तो उस नामर्द का लंड भी डलवा लेती हूँ उसे भी अच्छा लगेगा. मैंने कहा जैसे तुम चाहो मेरी जान. मेरी कामुकता से भरी गर्भवती बहन ने आवाज लगाईं., अरे ओ मेरे नामर्द पति आज बहती हुई चूत में तू भी अपना लोडा भिगो ले. मेरे भाई के लंड की वजह से आज तुझे चूत की गर्मी का अहसास होगा इसलिए उसका शुक्रिया कर और चोद ले आज मेरी इस प्यासी चूत को. मेरे नपुन्संक जीजा का चार इंच का लंड थोड़ा कड़क सा लग रहा था. उस नपुन्संक की उंगलिया लंड के दोनों तरफ थी.

मेरा नपुन्संक जीजा हम भाई बहन को चुदाई के मजे लेते हुए देख के सच में हस्तमैथुन ही कर रहा था. फिर मेरी कामुकता से भरी गर्भवती बहन ने कहा मुझे चोदने से पहले तुम मेरे भाई के मर्द लंड को देखो, देखो वो कैसा लम्बा और मोटा हे. तुम बादाम और घी दूध खाओ और ऐसे लंड बनाने की कोशिश करो, इस जनम में तो नहीं शायद अगले जनम में काम आये.मैंने कहा मेरा पानी निकल जाए फिर तू चोदना, तब तक ऐसे ही मुठ मार. और फिर मैं जोर जोर से छोटे लंड वाले जीजा के सामने अपनी गर्भवती बहन की चुदाई करने लगा. मैंने उसकी गांड के मांस को दबाया हुआ था और कस कस के अपना लम्बा मोटा लंड उसके गुप्तांग में पेल रहा था. जैसे ही मेरा पानी निकला मेरी कामुकता से भरी गर्भवती बहन ने एक लम्बी सांस ली और वो भी साथ में ही झड़ गई.

मैंने लंड बहार निकाला तो दीदी बोली, चूस मेरे भाई के लंड को और उसका पानी पी ले साले. और सच में मेरे जीजा ने मेरे लंड को अपने मुहं में भर के लिक कर लिया. दीदी ने कहा, कैसा लगा गरम लोडा साले रंडवे. जीजा ने लंड के ऊपर लगे हुए सब रस को चाटा और अपनी जीभ से पुरे लंड को चाट चाट कर चमका दिया. लंड को एकदम साफ़ कर के फिर वो बोला, अब मैं डालूं अंदर.मैंने कहा डाल देने दो ना इसे दीदी. मेरी कामुकता से भरी नंगी बहन ने चुदाई करवाने के लिए अपनी दोनों टाँगे खोली और मेरे नामर्द जीजा ने अपने अधमरे से लंड से कुछ देर उसकी टाइट चूत को चोदा और दो मिनिट में ही उसका पानी निकला लेकिन वो एकदम पतला था जैसे उसके अन्दर स्पर्म थे ही नहीं. 

मेरी दीदी ने कहा, देख इस छोटे व पतले लंड से मुझ रंडी की बुर को चुदवाने में क्या मजे मिलेंगे भाई अब तू ही बता! मैं हंस पड़ा और बोला, जीजा जी आप हटो यार मेरी बहन की चुदाई करना आपके बस की बात नहीं है. फिर मैं वापस से दीदी को किस करने लगा. एक बार फिर से चुदाई करवाने के लिए मेरी गर्भवती बहन ने भी मेरे लंड को पकड़ के हिलाया जिस से वो एक बार फिर अपने विकराल रूप में  आ गया. अब की जीजा ने अपने हाथ से मेरे लंड को अपनी नंगी धर्म पत्नी की टाइट चूत के मुँह में सेट करा और बोले चलो साले साहब अब जल्दी से अपनी बहन की खतरनाक चुदाई करके बहनचोद बन जाओ. फिर करीब आधे घंटे तक छोटे लंड वाले जीजा के सामने गर्भवती बहन की खतरनाक चुदाई करने के बाद मैंने उससे पूछा आज अपने इस भाई के लंड की सवारी नहीं करोगी डार्लिंग?

मेरी बड़ी दीदी ने कहा अभी प्रेग्नन्सी में ये सब नहीं कर सकती मैं. लेकिन बच्चा होने के बाद फिर से हम कामसूत्र की सभी सेक्स पोजीशन में सेक्स करा करेंगे भाई. चुदाई के दौरान मेरा लंड मेरी नंगी गर्भवती बहन की चूत में अपने आप ही किसी बिना लगाम के घोड़े की तरह दोड़ने लगा था और फिर करीब आधे घंटे की खतरनाक चुदाई के बाद मैंने मेरे लंड से वीर्य की पिचकारी मेरी नंगी बहन की चूत के अंदर ही चला दी और फिर सेक्स ख़त्म करके हम तीनो नंगे ही चिपक कर सो गए. फिर करीब एक घंटे बाद मेरी नींद खुली तो मैंने देखा की मेरा लंड अभी भी खड़ा है. मैंने सोचा की क्यों ना आज अपने इस नामर्द जीजा की गांड भी मारी जाये. दोस्तों उस दिन मैंने मेरे जीजा के साथ गे सेक्स भी करा था खैर वो वाली हिंदी सेक्स स्टोरी अगले भाग में शेयर करूँगा.