होमAntarvasna Hindi Sex Storiesगांड चुदाई के दौरान पड़ोसन की फटी हुई गांड से खून निकलने...

गांड चुदाई के दौरान पड़ोसन की फटी हुई गांड से खून निकलने लगा

आज जो अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरी मैं आप लोगों के साथ शेयर करने जा रहा हूँ वो मेरी और मेरी पड़ोसन की पहली चुदाई की है. इस हिंदी सेक्स स्टोरी में मैं आप को बताऊंगा की कैसे मैंने मेरे पड़ोस में रहने वाली एक जवान और सेक्सी लड़की को अपने प्रेम जाल में फंसाया और फिर उसके साथ अवैध सेक्स संबंध बनाये. जब उस कामुक पड़ोसन के घर में कोई नहीं था तब मैं मौका पाकर उसके घर में छत के रस्ते से अंदर घुस गया और फिर मैंने उसके साथ सेक्स करा. चुदते चुदते नंगी पड़ोसन दर्द के मारे जोर जोर से चिल्लाती रही और मैं उसे जोर जोर से चोदता रहा. दोस्तों उस जवान और सेक्सी लड़की की चूत चोदने के बाद मैंने उसकी गांड भी मारी थी. गांड चुदाई के दौरान कामुक पड़ोसन लड़की की फटी हुई गांड से बहुत सारा खून निकलने लगा था. पूरी सेक्स कहानी निचे विस्तार से पढ़ें और इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर भी करें…

मेरा नाम राजेश गुप्ता है और मैं हरियाणा का रहने वाला हूँ एक कुंवारा लड़का हूँ. हमारे पड़ोस में शर्मा जी का परिवार रहता हैं और उनके घर में शर्मा जी और उनकी खुबसूरत पत्नी अपने दो बच्चों के साथ रहते हैं. उनकी बेटी होस्टल में रहकर अपनी स्कूल की पढाई कर रही थी. जब मैंने करीब एक साल बाद हमारे पड़ोस में रहने वाली उस कामुक लड़की को देखा था तो मैं उसे देखता का देखता रहा रह गया. शायद वो गर्मियों की छुट्टी बिताने के लिए स्कूल के होस्टल से कुछ दिनों के लिए अपने घर आयी हुई थी. दरअसल एक दिन वो हमारे घर पर मेरी छोटी बहन से मिलने के लिए आई थी तब मैंने उस कामुक लड़की को पहली बार गन्दी नजरों से देखा.

गांड चुदाई के दौरान वर्जिन पड़ोसन लड़की की फटी हुई गांड से खून निकलने लगा अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरी

गांड चुदाई के दौरान वर्जिन पड़ोसन लड़की की फटी हुई गांड से खून निकलने लगा

मैंने आज से करीब एक साल पहले उसे देखा था जब तो वो एक छोटी बच्ची जैसी दिखती थी इस लिए मेरे मन में तब उसके लिए कोई गंदे विचार नहीं आये थे मगर अब वो जवान हो चुकी थी और उसका जिस्म बहुत सेक्सी हो चूका था. उस जवान और सेक्सी लड़की के बूब्स 34 साईज के तो होंगे ही उसके मोटे मोटे स्तन किसी रस भरे आम के जैसे दिख रहे थे. फिर वो जवान और सेक्सी माल लड़की कुछ देर बाद अपने घर वापस चली गई लेकिन उस दिन वो कामुक लड़की अपने साथ मेरा दिल भी चुराकर ले गई थी. उसे देखते ही मेरा लंड जंगली हो गया और फिर मैंने बाथरूम में जाकर उसके नाम की मुठ मारी तब जाकर मेरी कामवासना शांत हुई.

दोस्तों मुझे उस कामुक पड़ोसन लड़की से पहली नजर वाला प्यार हो गया था और अब में उसे अपनी गर्लफ्रेंड बनाने के लिए बहुत ही ज्यादा बैचेन रहने लगा था. फिर एक दिन तपती दोपहर के समय जब वो अपनी ब्रा पैंटी और दुसरे कपड़े सुखाने के लिए अपनी छत पर आई तो मैंने उसे देख लिया और में भी उससे बात करने के लिए अपनी छत पर चला गया. बातों ही बातों मैं मैंने मौका पाकर उस कामुक पड़ोसन लड़की से पूछा कि तुम क्या करती हो तो उसने मुझे बताया कि वो अभी पढ़ाई कर रही है और फिर मैंने उससे इधर उधर की हंसी मजाक की बातें शुरू कर दी. वो कामुक पड़ोसन लड़की भी मेरी हर बात का हंसकर जवाब दे रही थी और इस तरह उस दिन से मेरा और मेरी कामुक पड़ोसन लड़की की बातों का सिलसिला शुरू हो गया.

एक दिन हम रोज की तरह छत पर से बातें कर रहे थे तब उसने मुझे बताया की उसने नया मोबाइल फोन खरीदे है. मैंने उससे पूछा की तुमने कौनसा मोबाइल फोन ख़रीदा है तब उसने मुझे बताया की उसने सैमसंग का गैलेक्सी S24 अल्‍ट्रा मोबाइल फोन ख़रीदा है. फिर बातों ही बातों मैंने उससे उसका मोबाईल नंबर माँग लिया और उस कामुक पड़ोसन लड़की ने एक ही बार में मुझे अपना मोबाइल नंबर दे दिया. अब मैं हर दिन उस कामुक पड़ोसन लड़की के मोबाइल पर मैसेज करने लगा और वो भी मेरे हर एक मैसेज का लगातार जवाब देने लगी और इस तरह हम दोनों की दोस्ती धीरे धीरे और भी ज्यादा पक्की हो गयी. धीरे धीरे हमारी बातें डबल मीनिंग में बदलने लगी. फिर कुछ दिनों में हमारी बातें अश्लीलता की सारी हदें पार कर गयी और अब हम दोनों फोन सेक्स करके अपनी कामवासना शांत करने लगे.

कभी कभी हम रात को छत पर भी मिलने लगे और एक दूसरे को किस किया करते और कुछ समय एक दूसरे की बाहों में एक साथ बिताकर नीचे चले जाते थे. हम दोनों जवान थे और जवानी में अक्सर लोग बहक ही जाते हैं अपनी कामवासना शांत करने के चक्कर में. अब हम दोनों भी सेक्स के लिए तड़पने लगे थे और फिर एक दिन हमे अवैध सेक्स संबंध बनाने का बहुत अच्छा मौका मिल ही गया. दोस्तों उस दिन उस कामुकता से भरी वर्जिन लड़की के घर वाले चार दिनों के लिए बाहर किसी शादी में शामिल होने के लिए जा रहे थे तो तभी उसने मुझसे बोला कि में आज रात को तुम्हारा इंतजार करुँगी आज हम दोनों मिलकर सेक्स करेंगे क्योंकि घर में कोई नहीं होगा तो कोई दिक्कत की बात नहीं है.

फिर जब रात हुई तो में अपने घर की छत से उसके घर पर चला गया. मैंने वहाँ पर पहुंचकर देखा कि वो घर पर एकदम अकेली थी और अपने कंप्यूटर पर इंडियन देसी होममेड पोर्न विडियो देखकर अपने मोटे मोटे स्तनों को कपड़ों के उप्पर से ही सहला रही थी. मैंने जाते ही उसे पीछे से पकड़ लिया और उसके मोटे मोटे स्तनों को दबाने लगा. मैंने करीब 10 मिनट तक लगातार उस कामुकता से भरी वर्जिन लड़की के रसीले आम जैसे स्तनों से खेलता रहा और उसके बाद उसे अपनी गोद में उठाकर चोदने के लिए बैडरूम में लेकर चला गया और उसे बेड पर लेटा दिया. उसके बाद मैंने उस कामुकता से भरी वर्जिन लड़की की मोटे मोटे स्तनों से खेलने के लिए दुबारा से उसके टॉप में हाथ डाल दिया. उस वर्जिन लड़की के स्तन को ब्रा के ऊपर से ही जोर जोर से दबाने लगा.  

उस वर्जिन लड़की के स्तन बड़े ही मुलायम थे और में ज़ोर ज़ोर से पूरे जोश से  उस वर्जिन लड़की के स्तन को दबाने लगा और फिर कुछ देर बाद वो सिसकियाँ लेती हुई मेरा साथ देने लगी. फिर मैंने  उस वर्जिन लड़की के स्तन को ब्रा से बाहर निकाला और निप्पल को अपनी ऊँगली में लेकर मसलने लगा और अब धीरे धीरे उसकी हालत खराब हो रही थी और वो आहह औऊउ उफफफफ्फ़ माँ मरी थोड़ा धीरे करो.. अह्ह्ह कर रही थी. मैंने  उस वर्जिन लड़की के स्तन को सक करने लगा और वो ज़ोर ज़ोर से मोन करने लगी.. में उसे किस कर रहा था और बूब्स को चूस रहा था और वो बार बार आहह उफफफ्फ़ ह्म्‍म्म्म उईईइई माँ प्लीज थोड़ा धीरे खींचो मेरे बूब्स को.. बोले जा रही थी.

मैं पागलों की तरह उसके स्तनों को चुसे जा रहा था. मैंने उस वर्जिन लड़की के स्तन को चूस चूसकर लाल कर दिया था. फिर मैंने उसकी जीन्स का बटन खोला और अपना हाथ नीचे ले जाते हुए उसकी चूत पर ले गया और फिर मैंने महसूस किया कि उसकी चूत बिल्कुल गीली हो चुकी थी और में उसकी चूत पर अपनी उंगली घुमाने लगा और उसकी चूत के दाने को ज़ोर से हिलाने लगा और इस बीच उसने मुझे मेरे कान पर, होंठ पर बहुत ज़ोर से ऐसे काटा कि वहाँ पर खून आने लगा और वो अपना एक हाथ मेरी पीठ पर ले जाकर नाख़ून मारने लगी,, उसके नाखूनों के निशान मेरी कमर पर दिखने लगे. फिर में उसे चूमते, चाटते हुए धीरे धीरे नीचे उसक कुंवारी लड़की की बुर की तरफ आने लगा.

अब वो कामुकता से भरी वर्जिन लड़की अपनी सील पैक वर्जिन बुर को मेरे लंबे मोटे लंड से चुदवाने के लिए और भी ज्यादा चुदासी सी होकर बैचेन होने लगी और में उस कुंवारी लड़की की सेक्सी जिस्म को चूमते हुए एक हाथ से  उस वर्जिन लड़की के स्तन दबा रहा था..  उस वर्जिन लड़की के स्तन एकदम टाईट हो गए थे और वो बार बार मोन कर रही थी. फिर मैंने उसकी पेंटी उतारी और देखकर दंग रह गया.. छोटी सी चूत और उस पर एक भी बाल नहीं था और मैंने उसकी चूत की खुशबू ली और उसे चूसने लगा.. वो ज़ोर ज़ोर से मोन करने लगी.. एयाया अफउईईइइ माँ अह्ह्ह छोड़ो मुझे और में उसकी चूत के दाने को ज़ोर ज़ोर से चूसता रहा और उसे काट भी लेता और वो छोड़ दो.. में मर जाउंगी उफ़फ्फ़ या हमा उूउउ.. फिर में उसकी चूत में उंगली डालकर चोदने लगा.

उस कामुकता से भरी कुंवारी लड़की की चूत बहुत टाईट थी और बड़ी मुश्किल से मेरी बीच की ऊँगली उसके अंदर जा पा रही थी. उस पड़ोसन लड़की की बुर की कसावट देखकर मैं समझ गया था की ये साली आज तक वर्जिन ही है और इसके साथ सेक्स करने में बड़ा आनंद आयगा. फिर मैंने अपने सारे कपड़े उतारे और मेरा लंड तो पहले से ही लोहे की रोड बना हुआ था तो वो मेरे 8 इंच के लंड को देखकर डर गई और कहने लगी कि में इसे अपनी चूत में नहीं ले सकती.. यह मेरी चूत को एक बार में ही फाड़ देगा.. लेकिन मेरे बहुत समझाने के बाद वो मान गई और उसने मेरे लंड को पहले किस किया और फिर अपने नरम होंठो के बीच में लेकर चूसने लगी.मुझे इतना मज़ा आ रहा था कि में बता नहीं सकता..

वो कामुकता से भरी पड़ोसन मेरे लंबे मोटे लंड को लोलीपोप की तरह चूस रही थी और आख़िरकार ब्लोजॉब करते करते में उस कामुकता से भरी वर्जिन पड़ोसन लड़की के मुहं में ही झड़ गया और वो मेरा सारा का सारा वीर्य पी गई मैंने उससे पूछा की मेरा वीर्य कैसा लगा तुम्हे तो वो बोली कि इसका स्वाद तो बहुत नमकीन है मगर मुझे तुम्हारे वीर्य का स्वाद बहुत अच्छा लगा. अब मैंने उस कुंवारी पड़ोसन लड़की की सील पैक चूत को दोबारा से चाटना शुरू किया और मैंने उसकी चूत को करीब 15 मिनट तक चाटा. 15 मिनट की चूत चटाई के बाद वो भी मेरे मुहं में ही झड़ गई और मैं उसकी बुर से निकला सारा का सारा पानी पी गया. उस जवान और सेक्सी लड़की की बुर का पानी भी बहुत नमकीन था.

फिर वो मेरे लंड को चूस रही थी तो मैंने अपने लंड को उसकी चूत की सील तोड़ने के लिए सेट किया फिर उसकी चूत और अपने लंड पर थूक लगाने के बाद उस कुंवारी लड़की की चूत पर एक जोरदार धक्का मारा. मेरा आधा लंड उसकी चूत में चला गया और वो चुदते चुदते पहली चुदाई के दर्द की वजह से बहुत ही ज्यादा ज़ोर से चिल्लाने लगी तो मैंने उसके होंठो पर अपने होंठ रख लिए और उसकी चूत से खून निकल रहा था लेकिन उसकी चिल्लाने की आवाज बाहर नहीं आई.. क्योंकि मैंने उसके मुहं पर अपना मुहं रखा हुआ था और अब उस कुंवारी लड़की की फटी हुई चूत से निकले खून से चादर भी गीली हो गई थी और 5 मिनट ऐसे करने के बाद में अपना पूरा लंड उसकी खून से संदी चूत में डाल सका.

फिर उसे एक बार और दर्द हुआ और में कुछ देर उसके ऊपर ऐसे ही पड़ा रहा और कुछ देर बाद में धीरे धीरे धक्के देने लगा और अब उसे भी मज़ा आने लगा और वो अपनी गांड को हिला हिलाकर मेरे लंड का मज़ा ले रही थी और ज़ोर ज़ोर से चिल्ला रही थी कि चोदो मुझे अह्ह्ह और ज़ोर से चोदो मुझे.. आआउूउउ और में उसे जोरदार धक्के देकर चोद रहा था और फिर वो मुझे गालियाँ देने लगी.. कुत्ते तू आज मेरी चूत को फाड़ दे.. मुझे और ज़ोर से चोद साले मेरी चूत का भोसड़ा बना दे और हाँ ज़ोर से चोद.. आआउफ़फ्फ़ इस तरह बोल रही थी और में उसे चोद रहा था और में भी उसे बोल रहा था.. ले साली कुतिया मेरा लंड अपनी चूत में पूरा का पूरा अंदर तक ले और शांत कर ले अपनी कामवासना साली छिनाल मैं आज तेरी चूत और गांड को चोद चोदकर फाड़ डालूंग.

फिर मैंने उसे 4-5 बार अलग अलग तरह से 40 मिनट तक लगातार चोदा और वो इस दौरान तीन बार झड़ चुकी थी और उसे अब सहन नहीं हो रहा था तो में और तेज तेज धक्के देने लगा और उसकी चूत में ही झड़ गया लेकिन में उसके ऊपर ऐसे ही लेट गया और उसे बहुत मज़ा आया और उसे ऐसे ही सहलाता रहा और कुछ देर बाद उसने मुझे बोला कि उसे बहुत मज़ा आया.. मैंने भी उसे किस किया और बाथरूम में फ्रेश होने चला गया.. वो भी मेरे पीछे पीछे फ्रेश होने आ गई और उसने भी मेरे साथ सू सू किया.. उसकी चूत से सिटी की आवाज़ आ रही थी सईईइइ. फिर उसने मेरे लंड को और अपनी चूत को साफ किया और पानी डाल कर धोने के बाद उसकी जख्मी चूत और गांड में दवाई लगायी.

उसके बाद हम दोनों बेड पर आकर बातें करने लगे और एक दूसरे को सहलाने लगे तो मैंने बोला कि जान तुम्हारी गांड मुझे बहुत पसंद है तो वो बोली कि चूत की तो सील तुमने पहले ही चोद चोदकर तोड़ डाली है अब मेरी गांड वर्जिन बची है ऐसा करो आज मेरी गांड की चुदाई करके मेरी सील पैक गांड की भी सील तोड़ डालो. मैंने इतना सुनते ही मेरी नंगी पड़ोसन को फिर से किस करना शुरू कर दिया और  उस वर्जिन लड़की के स्तन को दबाने लगा और मसलने लगा और वो धीरे धीरे गरम होने लगी तो मैंने उसकी चूत को एक बार फिर चाटा और उसकी गांड पर हाथ फेरने लगा और वो मेरे लंड को अपने मुहं में लेकर चूसने लगी.. कुछ देर बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और अब मेरा दिल गांड की चुदाई करने का करने लगा.

गांड चुदाई के दौरान वर्जिन पड़ोसन लड़की की फटी हुई गांड से खून निकलने लगा अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरी :- फिर मैंने हमारी नंगी पड़ोसन की गांड चुदाई करने के लिए उसे डोगी सेक्स पोजीशन में कुतिया बना लिया. उसे कुतिया बनाने के बाद मैं उसकी ड्रेसिंग टेबल से तेल लेकर अपने लंड पर लगाया और उसकी गांड के छेद पर और अपने लंड पर लगाकर उसे गांड के छेद पर टिकाकर एक ज़ोर का धक्का मारा और मेरा आधा लंड एक बार में ही उसकी गांड में चला गया. जैसे ही मेरा लंड उस कुतिया बनी हुई लड़की की गांड में गया तो उसे बहुत तेज दर्द हुआ और वो इतनी ज़ोर से चिल्लाई कि में बता नहीं सकता. फिर वो बोली कि प्लीज इसे बाहर निकालो.. मुझे बहुत दर्द हो रहा है लेकिन में कुछ देर रुका रहा और फिर एक और ज़ोर का झटका मारा और इस बार मेरा पूरा लंड उसकी गांड में चला गया.

वो फिर से चिल्लाई और उसकी फटी हुई गांड से बहुत सारा खून निकलने लगा लेकिन मैंने कोई ध्यान नहीं दिया और उसे ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा. चुदते चुदते कामुक पड़ोसन लड़की दर्द के मारे जोर जोर से चीखती चिल्लाती रही और मैं बेदर्दी उसे जोर जोर से चोदता रहा. फिर करीब 30 मिनट की गांड चुदाई के बाद मैंने उसकी फटी हुई गांड में ही अपना वीर्य छोड़ दिया. जैसे ही मेरा वीर्य पड़ोसन लड़की की फटी हुई गांड में गया वैसे ही उसे दर्द से कुछ राहत मिली. फिर जैसे ही मैंने कामुक पड़ोसन लड़की की गांड की चुदाई करने के बाद अपना मुरझाया हुआ लंड उसकी गांड से बाहर निकाला वैसे ही उसकी गांड से मेरा वीर्य बाहर टपकने लगा. गांड में जख्म हो जाने की वजह से उसकी गांड से टपक रहे वीर्य के साथ खून भी टपक रहा था.

दोस्तों मैंने उसे समझाया की आज पहली बार तुमने अपनी गांड मरवाई हैं इस लिए तुम्हारी वर्जिन गांड की सील टूट जाने की वजह से तुम्हारी फटी हुई गांड से खून टपक रहा है मगर इसमें चिंता की कोई बात नहीं है. फिर हम दोनों नंगे ही चिपक कर सो गए और कब हमें गहरी नींद आ गयी पता ही नहीं चला. सुबह चार बजे जैसे ही मेरी आँख खुली वैसे ही मैं जल्दी से अपने कपड़े पहन कर छत के रास्ते से वापस अपने घर आ गया. दोस्तों उम्मीद करता हूँ की आप सभी को मेरी कामुकता से भरी अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरी “सील पैक गांड की चुदाई के दौरान पड़ोसन की फटी हुई गांड से खून निकलने लगा” बहुत पसंद आयी होगी.

RELATED ARTICLES

What's New

Most Popular