Get Indian Girls For Sex

देवर के लंड का फव्वारा मेरी चूत के अंदर चला – सेक्स स्टोरी हिंदी में

देवर के लंड का फव्वारा मेरी चूत के अंदर चला – सेक्स स्टोरी हिंदी में : हैल्लो मेरे रंडी चोद दोस्तों मेरा नाम सविता है और में एक शादीशुदा औरत हूँ मेरे रंडी चोद दोस्तों में ही सविता भाभी हूँ जो इंडिया में सेक्स स्टोरी के लिये बहुत फेमस हूँ। मेरे रंडी चोद दोस्तों मेरे देवर ने मुझे एक रंडी की तरह चोदा था यह मेरी शादी के एक साल बाद की एक सच्ची घटना जिसको में आज आप सभी   को सुनाने जा रही हूँ।

मेरे रंडी चोद दोस्तों मेरी मेरे पति के साथ सेक्स लाइफ बहुत शानदार चल रही थी वो मुझे रोज चोदा करते थे मुझे भी उनके लंड से अपनी चूत चुदवाने में बहुत मजा आया करता था. हमारे उस घर में बस हम दोनों ही रहते, वैसे में बहुत हॉट और सेक्सी हूँ और मुझे सेक्स करना बहुत अच्छा लगता में एक रंडी जैसी दिखती हूँ। मुझे शुरू से ही सेक्स के प्रति बहुत रूचि रही है और जब में शादी होकर अपने पति के पास आई, तब मैंने अपने चुदाई के उस सपने को पूरा करने के बारे में सोचा, लेकिन वो तब भी अधुरा ही रह गया।

मेरे रंडी चोद दोस्तों क्योंकि में आज भी अपने पति के साथ अपनी चुदाई में उनकी तरफ से पूरी तरह संतुष्ट नहीं थी, वैसे मेरे पति भी सेक्स में अच्छे है, लेकिन वो मुझे वो कभी भी उतना मज़ा नहीं दे सके जिसकी मुझे उनसे उम्मीद थी। एक दिन एक पत्र को पढ़कर वो मुझसे बोले कि सविता मेरा एक चचेरा भाई जो नज़दीक के एक छोटे गाँव में रहता है, उसके स.स.सी. के पेपर का सेंटर इस शहर में आया है।

Savannah Secret From WeAreHairy.com

Savannah Secret from WeAreHairy.com

देवर के लंड का फव्वारा मेरी चूत के अंदर चला – सेक्स स्टोरी हिंदी में

अब वो अपनी आगे की पढ़ाई करने और अपने पेपर देने के लिए इसी शहर में आ रहा है और वो अगर कुछ दिन यहाँ पर रहे तो तुम्हे कोई ऐतराज़ तो नहीं है? फिर मैंने उनको कहा कि भला मुझे इसमे क्या ऐतराज़ होगा? वो आपका भाई है, तो मेरा भी तो रिश्ते में देवर हुआ ना और इसलिए देवर के आने से भाभी को क्या ऐतराज़ हो सकता है? मेरे रंडी चोद दोस्तों उसका नाम सचिन था और फिर वो आ गया, तब उसकी उम्र करीब 18 साल होगी.

मेरे रंडी चोद दोस्तों अब सुबह का नाश्ता हम तीनो साथ में करने लगे थे। पहले मेरे पति के ऑफिस चले जाने के बाद में घर में हमेशा अकेली हुआ करती थी, लेकिन अब मेरे साथ सचिन भी था और सचिन पूरा दिन अपना मन लगाकर पढ़ाई करता।

मेरे रंडी चोद दोस्तों एक दिन दोपहर को जब में नींद से उठती, तब में सचिन के कमरे की तरफ चली गयी… फिर मैंने देखा कि उसके कमरे का दरवाज़ा अंदर से बंद था और मुझे उसके कमरे से कुछ अजीब सी आवाजे भी आ रही थी। अब में तुरंत वहीं पर रुक गयी और उन आती हुई आवाजो को में बहुत ध्यान से सुनने लगी थी।

अब मुझे कमरे के अंदर से आह्ह्ह्ह आह्ह्ह्हह की आवाज़ आती हुई सुनाई दे रही थी, लेकिन मुझे बिल्कुल भी समझ नहीं आया कि अंदर क्या हो रहा है? अब में दरवाज़ा बजाने ही वाली थी कि उसी समय मुझे ध्यान आया कि में पहले खिड़की से देख लूँ क्योंकि उस कमरे की एक खिड़की बाहर बरामदे में थी।

अब मैंने देखा कि वो पूरी लगी हुई नहीं थी और इसलिए मैंने हल्का सा धक्का दे दिया और उसको थोड़ा सा खोल दिया। मेरे रंडी चोद दोस्तों उसके बाद मैंने कमरे के अंदर का वो द्रश्य देखा और बस में देखती ही रह गयी, उस समय सचिन अपने सारे कपड़े उतारकर बिल्कुल नंगा खड़ा था और उसका लंड पूरा तना हुआ था।

अब मैंने देखा कि सचिन अपने लंड को एक हाथ में लिए हुए था और वो अपने लंड से खेल रहा था और वो सब देखकर मेरी आंखे भी अब झपकना भूल गई थी। अब मेरे दिल की धड़कने पहले से ज्यादा बढ़ चुकी थी, क्योंकि अब मेरे सामने एक 18 साल का जवान लड़का अपने हाथ में तना हुआ लंड लेकर मुठ मार रहा था।

मेरे रंडी चोद दोस्तों वैसे मैंने मर्दों के मुठ मारने के बारे में कई बार सुन रखा था, लेकिन आज में उस काम को अपनी आँखों से पहली बार देख रही थी, ओह्ह्ह वाह क्या मस्त मज़ेदार द्रश्य था? क्योंकि आज एक पूरी जवानी से भरा हुआ कसरती बदन वाला नवयुवक मेरे सामने पूरा नंगा खड़ा हुआ था। मेरे रंडी चोद दोस्तों उसकी खुली हुई छाती ही किसी लड़की को व्याकुल करने और उसको अपनी तरफ आकर्षित करने के लिए बहुत थी, लेकिन यहाँ तो उसकी सुद्र्ड़ जांघे भी मेरी आँखों के सामने थी, वाह क्या मस्त भरी हुई जांघे थी उसकी?

मेरे रंडी चोद दोस्तों उसकी दोनों जांघो के बीच में पूरे जोश से उठा हुआ उसका लंड था, जिसको देखकर मेरे दिल की धड़कने तेज़ हो चुकी थी और अब मेरे संस्कार मुझसे कह रहे थे कि मुझे तुरंत वहाँ से हट जाना चाहिए, लेकिन मेरा मन नहीं मानता था इसलिए में रुक ही गई। फिर में वो दिलकश द्रश्य देखती ही रही और वो खिड़की थोड़ी ही खुली थी, इसलिए उसका ध्यान मेरी तरफ बिल्कुल भी नहीं था।

फिर उस समय सचिन तो अपने उस काम में एकदम मगन होकर लगा हुआ था और उसके चेहरे से सेक्स की तड़प स्पष्ट रूप से झलक रही थी। अब धीरे धीरे उसका लंड और भी ज्यादा मोटा और कड़क होता जा रहा था, थोड़ी देर के बाद सचिन के लंड से पानी निकल गया और सचिन बिल्कुल ढीला हो गया, तब में मौका पाकर वहाँ से चली गयी।

फिर मुझे ध्यान आया कि अब मेरी पेंटी भी वो द्रश्य देखकर गीली हो चुकी थी और फिर मैंने अपने कमरे में जाकर उसको बदल लिया, लेकिन वो द्रश्य अब भी मेरे दिमाग़ से हटता ही नहीं हर बार वही सब मेरे सामने आ रहा था। फिर रात को में अपने पति देव के साथ सोने लगी, लेकिन तब भी मेरे दिमाग़ में वही सब मंडरा रहा था, इसलिए उस रात को में बहुत गरम हो चुकी और में जोश में आकर अपने पति के ऊपर चड़ गयी।

अब मैंने उनको चूमना अपने हाथों से सहलाते हुए सेक्स करने के लिए तैयार करना शुरू किया क्योंकि मुझे अब अपनी गरम चूत को ठंडा करना था और कुछ देर बाद अपने पति से भी मैंने बहुत जमकर अपनी चुदाई के मज़े लिए। फिर वो भी मुझसे बोल उठे क्या बात है? आज तुझे क्या हुआ है कोई ब्लू फिल्म तो नहीं देख ली? मेरे रंडी चोद दोस्तों में मेरे बहनचोद पति से क्या कहती? अब मैंने भी उनको कह दिया कि नहीं यह तो आप कल से दस दिन के लिए बाहर जाने वाले है ना इसलिए। फिर वो मेरी उस बात को सुनकर हंस पड़े और दूसरे दिन सुबह जल्दी ही मेरे पति अपने काम से बाहर निकल गये…

अब मेरा मन अपनी चूत चुदवाने का करने लगा किन्तु मेरे पति तो बहार गए हुए थे तो अब  मेरा मन सचिन के लंड में अटका हुआ था और मेरा पूरा बदन उसके साथ अपनी चुदाई करवाने के लिए बड़ा ही तड़प रहा था। मेरे रंडी चोद दोस्तों में उसको अपने मन की यह बात कहूँ भी तो कैसे? क्योंकि उसमे बड़ा ख़तरा था और सचिन बहुत सुशील लड़का था, वो मुझे ठुकरा देगा और मेरी इज़्ज़त पर ख़तरा हो जाएगा।

फिर यह बात सोचकर में चुप थी और कुछ देर बाद मुझ रंडी ने सोचा कि मुझे कुछ ऐसा करना होगा जिसकी वजह से सचिन ही मुझे चोदने के लिए तरस जाए? फिर मुझ रंडी ने बड़े धीरज से काम लेना उचित समझा और में विचार बनाते हुए स्नान करके बाथरूम से बाहर निकली।

अब तक मेरे दिमाग़ में एक योजना बन चुकी थी और वो बात सोचकर मुझ रंडी ने अपने कपड़ो में बड़ा परिवर्तन करना शुरू किया। अब मुझ रंडी ने एक गहरे गले का मेरी शादी के समय का पुराना ब्लाउज निकला उस समय की अपेक्षा अब मेरे बूब्स ज्यादा बड़े हो चुके थे क्योंकि वो हर दिन मेरे पतिदेव के हाथों से मसले जो जाते थे।

  मेरी जवान और सेक्सी बहन जिस्म बेचने वाली रंडी निकली हिन्दी सेक्स स्टोरी

फिर जैसे तैसे करके अपने बड़े आकार के बूब्स को दबाकर मुझ रंडी ने उस कसे हुए ब्लाउज को पहन लिया वो गहरे गले का था इसलिए मेरे उभरे हुए बूब्स का पूरा मस्त द्रश्य साफ दिख रहा था और बूब्स को दबाकर अंदर डालने से निप्पल भी उभरकर बाहर से दिख रहे थे। फिर मुझ रंडी ने अपनी साड़ी भी इस तरह पहनती थी कि मेरी पूरी छाती खुली ही रहे मेरे बूब्स कहीं आँचल के पीछे ना छुप जाए।

फिर मुझ रंडी ने कांच में अपने बदले रूप को देखा और में बहुत खुश संतुष्ट हो गई, उसके बाद मुझ रंडी ने नाश्ते की तैयारियाँ कि उसके बाद खाने की टेबल पर वो सभी चीज़े सजाकर रखी। फिर नाश्ता करने के लिए मुझ रंडी ने सचिन को आवाज देकर बुला लिया और सचिन आकर बैठ गया, लेकिन उसका ध्यान मेरी छाती की तरफ बिल्कुल भी नहीं गया, क्योंकि वो तो हमेशा अपनी पढ़ाई के विचारों में ही व्यस्त था।

मेरे रंडी चोद दोस्तों मुझ रंडी ने जानबूझ कर खाना उसको कम ही दिया था और उतना वो झट से खा गया, उसने मुझसे अब और माँग लिया। अब में अपने प्लान के पूरा होने पर मन ही मन मुस्कुराई और में उठकर खड़ी हो गई और अब में उसको खाना परोसने के लिए सचिन के बिल्कुल पास आ गई, उस समय में उसके एक तरफ खड़ी हुई थी। फिर में वहीं खड़े होकर आगे झुककर खाना उठाने लगी, स्वाभाविक है कि मेरे बूब्स सचिन के मुहं के एकदम पास आ गये। अब उसकी नज़र मेरी छाती पर चली गई और वो मेरे खुले हुए गोरे गोरे बूब्स को अपनी चकित नजरो से घूर घूरकर देखता ही रह गया। मेरे रंडी चोद दोस्तों बड़े आकार के गले से वो मस्त द्रश्य उसको बिल्कुल साफ दिखने लगा था और मेरे बूब्स पर उसकी नज़र चिपकी ही रह गई। अब में उसके सामने जानबूझ कर ऐसा व्यहवार कर रही थी, जैसे कि मुझे कुछ पता ही नहीं हो।

फिर मुझ रंडी ने एक लंबी साँस भरी और हल्के से छोड़ी जिसकी वजह से मेरे बूब्स पहले से ज्यादा बाहर आ गए और बूब्स में हलचल भी हुई। अब उसको बिल्कुल भी ध्यान ही नहीं रहा कि मुझ रंडी ने उसकी प्लेट में खाना परोस दिया है और मुझ रंडी ने मुस्कुराते हुए उसको कहा कि देवरजी अब आप नाश्ता भी कर लो क्या इनको देखकर ही आज अपना पेट भरने का इरादा है?

अब वो मेरे मुहं से यह बात सुनकर एकदम से चौंक गया और वो अपनी नजर मेरी छाती से तुरंत हटाकर खाने लगा, लेकिन मेरी नज़र अब उसी पर लगी हुई थी और वो बार बार अपनी चोर नजर से मेरे बूब्स को देख रहा था।

मेरे रंडी चोद दोस्तों में अपने उस प्लान में एकदम सफल रही जैसा मुझ रंडी ने सोचा था, ठीक वैसा ही हुआ आज मुझ रंडी ने सचिन के मन में मेरे नाम का बीज बो दिया था। फिर दूसरे दिन से में हर दिन अपने कपड़ो में एक कदम आगे जाने लगी थी और दूसरे दिन भी मुझ रंडी ने ऐसा ही गहरे गले का और बिना बाह का ब्लाउज पहन लिया, जिसकी वजह से अब उसको मेरी गोरी बाहें भी साफ दिखने लगी थी और उसने बड़े मस्त मज़े किए।

फिर तीसरे दिन मुझ रंडी ने एकदम पारदर्शक जालीदार ब्लाउज पहन लिया और उस ब्लाउज से मेरी काले रंग की ब्रा भी एकदम साफ दिखाई दे रही थी। अब सचिन हर दिन चोरीछिपे मेरे दूध से भरे बूब्स को देखने लगा था और उसको ऐसा करने में बड़ा मज़ा आ रहा था और मेरा मन भी बहुत खुश हो रहा था। फिर चौथे दिन से मुझ रंडी ने अब ब्रा ही पहनना छोड़ दिया था, मेरा ब्लाउज तो पहले से ही पारदर्शक बिना बाह का और गहरे गले का था।

फिर उस रात को मुझ रंडी ने अपने ब्लाउज को भी एक तरफ से आकार देकर ऐसा बना दिया था कि उसको मेरे बूब्स के सामने के अलावा अब साइड से भी मेरे बूब्स के दर्शन होने लगे थे और पाँचवे दिन मुझ रंडी ने उस ब्लाउज को पहना।

मेरे रंडी चोद दोस्तों अब जब में उसको खाना परोस रही थी, तब दूसरी तरफ रखे हुए सामान को उठाने के लिए में उसके सामने इतना नीचे झुक गई कि उसकी तेज गति से चलती हुई गरम सांसे मेरे दूध से भरे बूब्स को छु रही थी कभी कभी तो उसका चेहरा भी मेरे बूब्स को छु जाता में इतना ज्यादा उसके ऊपर झुक रही थी। अब मुझे उसकी आँखों में एक प्यास साफ नज़र आ रही थी और में बहुत अच्छी तरह से जानती थी कि में अपने काम में कामयाब होती जा रही हूँ। फिर छ्टे दिन मुझ रंडी ने अपनी सारी को भी एकदम नीचे पहना था और में उस दिन अच्छी तरह से सजधजकर तैयार हुई और अब हर दिन की तरह सचिन आज भी मेरे उभरे हुए दोनों बूब्स को अपनी आंखे फाड़ फाड़कर देखता रहा और में उन्हे लंबी लंबी साँस लेकर ऊपर नीचे करती रही। मेरे रंडी चोद दोस्तों मुझ रंडी ने अपने ब्लाउज का एक हुक पहले से थोड़ा ढीला कर दिया था जो थोड़ी देर बाद मेरे तेज साँस लेने की वजह से खुल गया और अब मेरे दबे हुए दूध से भरे बूब्स एक ही बार में पूरे उछलकर उसके सामने आ गये।

अब मुझ रंडी ने उसके सामने थोड़ा सा शरमाने का ढोंग किया और में अपने नज़ारा में जाकर हुक को ठीक तरह से लगाकर वापस उसके पास आ गयी, उस समय उसकी हालत तो देखने लायक हो चुकी थी। फिर उसी दिन दोपहर के समय में हॉल में ही सो गयी और मुझ रंडी ने एक सेक्सी किताब अपने पास लाकर रखी हुई थी जो देवर रंडी चूत चुदाई की भूखी भाभी के नाज़ायज़ संबंध पर थी।

मेरे रंडी चोद दोस्तों उस किताब में दोनों के सेक्स संबंध का खुला ब्योरा था वहाँ तक मुझ रंडी ने पेज को खोलकर उल्टी करके उस किताब को रख दिया और जैसे में वहाँ तक उस किताब को पढ़ते हुए सो गयी हूँ। अब में सोने का ढोंग करते हुए लेटी हुई थी, मुझ रंडी ने अपनी साड़ी को घुटनों तक सरका रखा था। फिर हर दिन की चाय का समय हुआ, लेकिन में उस दिन जानबूझ कर नहीं उठी और थोड़ी देर के इंतज़ार के बाद सचिन चाय के लिए बताने अपने कमरे से बाहर आया।

फिर उसने आकर देखा कि में सोई हुई हूँ, सचिन मेरे पास आ गया और उसने वो किताब उठाई और जैसे ही वो उसको पढ़ने लगा वो जोश से भरने लगा क्योंकि उस किताब में देवर रंडी चूत चुदाई की भूखी भाभी के बीच सेक्स का खुला ब्योरा था। अब उसको पढ़कर उसकी कामवासना भड़क उठी और उतने में मुझ रंडी ने करवट बदलने का बहाना किया और करवट बदलते हुए मुझ रंडी ने मेरे एक पैर को भी घुटनों से ऊँचा उठा लिया जिसकी वजह मेरी साड़ी जो घुटनों तक थी।

अब कमर तक आ चुकी थी और उस वजह से मेरी गोरी जाँघ अब पूरी तरह से दिख रही थी, मुझ रंडी ने हल्की सी अपनी आंख खोली। अब मुझ रंडी ने देखा कि उसका लंड एकदम खड़ा हो चुका था उसने अंडरवियर पहन रखी थी, वो अपने एक हाथ में किताब पकड़े हुए था और दूसरा हाथ अब उसने अपनी अंडरवियर में डाल दिया और उसने अपने खड़े लंड को मजबूती से पकड़ लिया, थोड़ी देर वो उसको पढ़ता रहा और मेरी जाँघ और बूब्स की तरफ वो देखता रहा।

फिर मुझ रंडी ने देखा कि उसने अपना दूसरा हाथ बाहर निकालकर मेरी तरफ बढ़ा दिया, में एकदम खुश हो गयी और में अपनी दोनों आँखों को बंद करके इंतज़ार करने लगी, लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। फिर मुझ रंडी ने अपनी आंखे खोली और देखा तो सचिन उस समय वहाँ पर नहीं था शायद उसकी हिम्मत नहीं बनी थी इसलिए वो अब अपने कमरे में चला गया था हाँ, लेकिन वो किताब को अपने साथ जरुर ले गया था।

  मासूम आलिया भट्ट की वर्जिन चुत से खून का बहाव हो रहा था हिंदी सेक्स स्टोरी

अब में उठी और सचिन के कमरे की तरफ चली गयी, मुझ रंडी ने देखा कि सचिन अब अपने कमरे के दरवाज़ा बंद करके एक बार फिर से मुठ मार रहा था आज तो उसने अपना घोड़े जैसा लंड खड़ा किया हुआ था। अब मुझे बहुत अफ़सोस हो रहा था क्योंकि जिस लंड को आज मेरी चूत में होना चाहिए था आज वो लंड सचिन के हाथों में था, लेकिन मुझे भी तो उसके सामने नहीं आना था यह बात सोचकर में मजबूरी में उसको देखती रही।

फिर थोड़ी देर बाद सचिन के लंड से वो फव्वारा निकला और उसका लंड शांत हो गया और उसी रात को मुझ रंडी ने सातवे दिन का प्लान पहले से ही बना लिया था क्योंकि इतना सब कुछ देखने के बाद सचिन के दिल में कामवासना तो में पहले से ही जगा चुकी थी। अब तो मुझे उसकी उस हिम्मत को थोड़ा सा बढ़ाना ही बाकी था इसलिए मुझ रंडी ने सातवे दिन सुबह अपने कमरे का फ्यूज़ बाहर निकाल दिया और गीजर खराब है कहकर मुझ रंडी ने सचिन के साथ बाथरूम में नहाने का प्लान बना लिया था।

अब में अपने कपड़े लेकर बाथरूम के अंदर चली गयी, तभी थोड़ी देर नहाकर बाहर निकली उस समय मुझ रंडी ने अपने बदन पर सिर्फ़ टावल को लपेटा हुआ था, ऊपर मेरे बूब्स की निप्पल से शुरू करके चूत तक टावल से मुझ रंडी ने अपने गोरे सेक्सी बदन को ढाका हुआ था।

अब मेरे निप्पल से ऊपर के बूब्स का हिस्सा और चूत के नीचे की जांघे सब खुली हुई थी, मेरे सर के बाल गीले थे और मेरे गोरे बदन पर पानी सरककर नीचे आ रहा था, में उस रूप में बड़ी सेक्सी लग रही थी। मेरे रंडी चोद दोस्तों उन दिनों गरमी भी बहुत थी इसलिए सचिन सिर्फ़ अंडरवियर पहनकर पंखे के नीचे खड़ा हुआ था, जब उसने मुझे देखा तो बस वो देखता ही रह गया क्योंकि इतना नंगा मुझे उसने आज पहली बार ही देखा था में उधर ही खड़ी रही।

अब सचिन भी अपनी सारी शरम को छोड़कर मुझे लगातार अपनी खा जाने वाली नजरो से देख रहा था और मुझ रंडी ने उसके पलंग पर वो किताब पड़ी हुई देखी। फिर मुझ रंडी ने उसी समय उसको पूछ ही लिया क्यों कैसी लगी तुम्हे यह कहानी? उसने कहा कि यह तो बड़ी ही मजेदार रोचक है, लेकिन ऐसा तो बस कहानियों में ही होता है ना? अब मुझ रंडी ने उसको कहा कि कहानियाँ भी तो हमारे समाज से ही मिलती है ना और अब सचिन ने मेरे मुहं से वो बात सुनकर थोड़ी हिम्मत कि तब जाकर वो हंस सका। मेरे रंडी चोद दोस्तों वो हंसा इसलिए था क्योंकि किस्मत से उस किताब में देवर रंडी चूत चुदाई की भूखी भाभी के नाम भी हम दोनों के थे। अब मुझ रंडी ने उसको कहा कि आख़िर शुरुआत तो मर्द को ही करनी पड़ती है और वो यह बात सुनकर मंद मंद हंसा और मेरी उस बात का मतलब भी वो तुरंत ही समझ गया और अब वो मेरे पास आ गया।

फिर में भी तुरंत समझ गयी कि आज मेरा काम पूरा हो गया है, उसने मेरे पास आकर अपने दोनों हाथ उठाए और मेरे पूरे खुले हुए गीले बालो में फंसाते हुए हाथों को दोनों कान पर रखा और फिर उसने मेरा चेहरा ऊँचा किया। अब में भी कामवासना से भरी नज़र से उसको देख रही थी, वो थोड़ा नीचे झुका और उसने मेरे होठों पर अपने होंठ रख दिए।

मेरे रंडी चोद दोस्तों उसके ऐसा करने से में एकदम रोमांचित हो उठी मुझ रंडी ने उसको अपने होठों को कुछ देर चूसने दिया, अपनी तरफ से कोई भी विरोध नहीं किया जिसकी वजह से उसकी हिम्मत पहले से ज्यादा बढ़ गई और उसने मुझे अपने पास खीच लिया। अब में भी झट से उसके पास जा सरकी, लेकिन सरकने से पहले ही मुझ रंडी ने अपने एक हाथ से बड़ी सफाई के साथ उस टावल को खोल दिया था, जिसके खुलते ही वो टावल तुरंत नीचे गिर पड़ा।

मेरे रंडी चोद दोस्तों अब में पूरी नंगी खड़ी थी और वो सिर्फ़ अंडरवियर पहने हुए था में एकदम पास जाकर उसके बदन से एकदम चिपक गयी। अब उसने जोश में आकर मुझे थोड़ी तेज़ चूम लिया, लेकिन वो इस काम में नया नया था इसलिए उसको इतना नहीं आता था और इसलिए अब मुझ रंडी ने भी अपना काम करना शुरू कर दिया।

अब मुझ रंडी ने अपने होंठो और जीभ से उसका पूरा साथ दिया, सचिन किसी भी काम को सीखने में बड़ा तेज था, उसने मेरे साथ वो सब करना तुरंत ही सीख समझ लिया था और अब हम दोनों ही एक लंबी अच्छी चुम्बन में खो गये। अब हम दोनों के होंठ से होंठ और जीभ से जीभ मिल चुके थे हम दोनों एक दूसरे का रसपान करते रहे। फिर मुझ रंडी ने उसी समय अपनी गोरी बाहों को सचिन के गले में डाल दिया और अब उसकी बाहें मेरी पीठ पर घूम रही थी, मुझ रंडी ने उसको कहा दोनों हाथों को सिर्फ़ ऐसे ही मत घुमाओ।

अब उनसे मुझे अपनी तरफ दबाया साथ ही उसने ज़ोर भी बढ़ाया और फिर मेरे बूब्स और निप्पल सचिन की छाती से चिपक गये, उसको भी ऐसा करने में बड़ा मस्त मज़ा आ गया और उसने ज़ोर बढ़ा दिया था, जिसकी वजह से उसको भी आनंद आने लगा था। अब में उसको बोल उठी दबा दो मुझे सचिन दबा दो, यह बात सुनकर उसने एकदम अपना जोश पहले से ज्यादा बढ़ा दिया और मुझे ज़ोर से दबा दिया जिसकी वजह से मेरे दूध से भरे बूब्स तो सचिन की छाती से दबकर मानो चौपट ही हो चुके थे और उठे हुए निप्पल भी अब उसके बदन से चिपक रहे थे। अब मुझे भी बड़ा मस्त मज़ा आ रहा था मेरे मुहं से आहह्ह्ह उफ्फ्फ वो आवाज निकल गई और वैसे भी मुझे यह बहुत पसंद है। अब में किसी दमदार मर्द की बाहों में दबकर चूर चूर होने का नशा लेने लगी थी, कोई भी अनुभवी औरत ही समझ सकती है कि सचिन मुझे उस समय कैसे पिसता रहा और वो मेरे होंठो को चूसता बभी रहा।

फिर थोड़ी सी अपनी पकड़ को ढीली करके सचिन मेरे होठों को छोड़कर अब नीचे भी आने लगा था वो अब मेरी गर्दन पर फिर कंधो पर भी चूमने लगा था। अब उसको कुछ सीखने की ज़रूरत नहीं थी क्योंकि सचिन के अंदर का असली मर्द अब नींद से जाग उठा था और वो अपना आगे का काम बड़ी अच्छी तरह से करना जानता था।

फिर सचिन नीचे उतरा और उसने मेरे स्तानो को चूमना शुरू किया और उनको सहलाने दबाने भी लगा था और बड़े जोश के साथ मसलने भी लगा था। अब वो मेरी छाती से खेलता रहा मेरे दोनों निप्पल को चूसता रहा और अंत में एक निप्पल को अपने मुहं में लेकर ज़ोर से चूसने लगा और दूसरे दूध से भरे बूब्स को बुरी तरह से मसलने लगा था आऊच उफ्फ्फ मुझे बड़ा दर्द होने लगा था और मुझ रंडी ने दर्द की वजह से सिसकियाँ भी भरी, लेकिन सचिन अब कहाँ कुछ सुनने वाला था…

में उसको रोकूँ तो भी वो रुके नहीं, बड़ी ही बेरहमी से मेरे देवर ने मेरे दोनों बूब्स को मसल डाले आहह्ह्ह् मुझ रंडी ने उसको कहा आईईईई हाँ तुम आज अपनी रंडी चूत चुदाई की भूखी भाभी के बूब्स को ऐसे ही दबाओ मुझे बहुत मज़ा आ रहा है उफफ्फ्फ्फ़ मेरे अंग अंग में आग लगी हुई है मेरा पूरा बदन गरम हो गया है। अब सचिन मुझे चूमते हुए और नीचे उतरने लगा था, लेकिन उसके हाथ तो उसने मेरे बूब्स पर ही टीका रखे थे, वो अब मेरी कमर को चूमते हुए जांघो को छुते हुए मेरी चूत के निकट जा पहुँचा, लेकिन वहाँ पर जाकर वो थोड़ा सा उलझ गया और फिर रुक गया क्योंकि यह उसके लिए एक नई जगह थी। अब मुझ रंडी ने बड़े ही प्यार से सचिन के सर पर अपना एक हाथ फिराया अपने दोनों पैरों को पूरा फैलाया और सचिन के सर को पकड़कर सचिन के होंठो को अपनी चूत के होंठो पर जाकर ठहरा दिया।

  पैसे लेकर सुन्दर शादी शुदा औरत की चुदाई करी और प्रेग्नेंट करा हिन्दी सेक्स स्टोरी

अब सचिन चूमने लगा, थोड़ी देर उसने लगातार चूमा और मुझ रंडी ने उसको अपनी तरफ से इशारा किया जिसके बाद हम दोनों पलंग पर चले गये। अब में अपने पैरों को पूरा फैला सकती थी, सचिन फिर से मेरी चूत के पास आ गया और मुझ रंडी ने उसको कहा कि तुम अब अपनी जीभ से काम लो होंठो से नहीं उसके लिए इतना इशारा बहुत था।

अब सचिन अपने काम को बड़े अच्छे से करने लगा था वो मेरी चूत को अपनी जीभ से चाटने चूसने लगा और मुझ रंडी ने अपने हाथ से मेरी चूत के होंठो को थोड़ा सा फैलाकर उसकी जीभ को चूत के अंदर डलवाया, सचिन सब कुछ करना सिख गया और उसने मेरे हाथ हटाए और बागडोर को एक बार फिर से संभाल लिया। अब सचिन मेरी चूत के बहुत अंदर तक बड़ी सफाई से चाटे जा रहा था और में अहह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ्फ़ सचिन जी मेरे प्यारे देवर जी अपनी जवान रंडी चूत चुदाई की भूखी भाभी को आईईईई आज बड़ा मस्त मज़ा आ रहा है।

मेरे रंडी चोद दोस्तों में तो पहले से ही गरम हो चुकी थी और अब में पूरी तरह से जोश में आ चुकी थी इसलिए मेरा पूरा बदन अब सचिन के साथ उस मस्त मजेदार चुदाई के लिए बड़ा तड़प रहा था। अब मुझे उसका लंड मेरी चूत के अंदर चाहिए था, मेरे बदन में एक करंट सा पैदा हो रहा था। फिर मुझ रंडी ने एक कड़क अंगड़ाई ली, उसका मुहं अपनी चूत से दूर हटा दिया और उसको कहा कि अब मेरी बारी है और में अब तक नीचे लेट चुकी थी।

अब उठकर बैठ गई और मुझ रंडी ने उसकी अंडरवियर को उतार दिया, उसके बाद देखकर में पूरी तरह जोश से भरकर पागल हो गई क्योंकि उसका वो कितना मस्त पूरा तनकर खड़ा लंड स्प्रिंग की तरफ उछलकर तुरंत बाहर मेरे सामने आ गया। फिर मुझ रंडी ने उसको आंड के पास से चूमना शुरू किया उसके बाद चारो तरफ से मुझ रंडी ने उसको चूमा और फिर में लंड के टोपे के पास पहुँच गई और उसी समय उसके लंड को अपनी दोनों हथेलियों के बीच में लेकर मुझ रंडी ने उसको रगड़ डाला, जैसे कि हम लस्सी बनाते समय घूमते है ठीक वैसे ही मुझ रंडी ने उसके लंड के साथ किया।

मेरे रंडी चोद दोस्तों मेरे यह सब करने की वजह से लंड एकदम जल्दी से तैयार हो गया और मुझे भी तो अब उस लंड से अपनी चुदाई करवाने की जल्दी लगी हुई थी, उसका लंड पहले से भी ज्यादा बड़ा हो गया। अब मुझ रंडी ने लंड के टोपे की चमड़ी हटाई और सचिन के लंड का वो गुलाबी आकर्षक टोपा मुझ रंडी ने अपने मुहं में ले लिया, लेकिन सचिन तो मेरे ऐसा करने से बिल्कुल पागल हो गया और वो मुझसे बोला ओह्ह्ह्ह सविता आईईईई रंडी चूत चुदाई की भूखी भाभी मेरी जान और चूसो ऊऊह्ह्ह्ह अपने प्यारे देवर का लंड और ज़ोर से चूसो मेरी रंडी भाभी उऊईईईईई

अब यह सब कहकर वो अपने लंड को मेरे मुहं में धक्के मारना लगा था, मुझ रंडी ने थोड़ी देर उसका लंड चूसा और महसूस किया कि उसको कोई इतना चूसने की ज़रूरत नहीं है इसलिए मुझ रंडी ने उसको नीचे चूत की तरफ धकेल दिया। अब में वापस नीचे लेट गयी और उसको मुझ रंडी ने अपने ऊपर खीच लिया मुझ रंडी ने अपने दोनों पैर पूरे खोल दिए और उसका लंड अपनी चूत के मुहं पर रख लिया।

अब उसने अपनी तरफ से एक ज़ोर का धक्का मारा और फिर उसका पूरा लंड मेरी गीली चूत के अंदर चला गया आह्ह्ह्हह्ह उफ्फ्फ्फ सचिन जी प्लीज थोड़ा धीरे करो ऊऊईईईइ इसी के लिए तो मुझ रंडी ने यह सारा खेल खेला था। अब उसने मुझे लगातार धक्के देकर चोदना शुरू कर दिया, उसका लंड वैसे ज्यादा बड़ा और गरम था में अंदर कुछ अलग ही मज़ा महसूस कर रही थी वैसे मुझे हल्का सा दर्द भी हो रहा था और मज़ा भी बहुत आ रहा था।

फिर कुछ देर बाद उसकी धक्के देने की गति पहले से ज्यादा बढ़ गई और में दर्द की वजह से ज़ोर से चिल्लाने लगी ओह्ह्ह् सचिन जी उफ्फ्फ् हाँ ऐसे ही चोदो मुझे और ज़ोर से चोदो आज तुम मेरी चूत को पूरा फाड़ दो हाँ सचिन आज तुम मुझे बुरी तरह से धक्के देकर चोदो आईई फाड़ डालो इस चूत को चोदो ऊह्ह्ह्हह सचिन चोदो।

फिर मेरे मुहं से ऐसे जोश भरे शब्द सुनकर सचिन बहुत चकित हो गया, लेकिन फिर वो मेरी तरफ देखकर मुस्कुराया और बोला कि तुम बिल्कुल भी चिंता मत करो मेरी रानी आज में इस चूत को फाड़े बिना नहीं छोडूंगा क्योंकि पिछले एक सप्ताह से मेरी नींद हराम कर रखी है साली आईईईई तू कभी मुझे अपने बूब्स दिखाती है, तो कभी अपनी चूत आज तो में इस चूत को फाड़कर ही रहूँगा और फिर सचिन मेरी चूत में तेज तेज लगातार धक्के देकर मुझे वैसे ही चोदता रहा चोदता रहा और चोदता ही गया।

अब उसने जोश में आकर मुझे बड़े ज़ोर से धक्के दे देकर चोदा इसलिए हम दोनों को बड़ा मज़ा आया और चुदाई के पूरा हो जाने के बाद तक भी हम वैसे ही लेटे रहे। फिर उसने अपना पूरा वीर्य मेरी चूत में डाल दिया था जो अब हम दोनों का एक साथ मिलकर मेरी चूत से सरककर बाहर आने लगा था, लेकिन में उसकी उस मस्त मजेदार धक्कों वाली चुदाई से पूरी तरह से खुश बड़ी संतुष्ट थी क्योंकि उस दिन पहली बार मेरी चूत ने किसी दमदार लंड को अपने अंदर लिया था, इसलिए मेरा पूरा जिस्म आज सचिन से चुदाई करवाकर ठंडा हो चुका था।

मेरे रंडी चोद दोस्तों उस पहली जोश भरी चुदाई के बाद तो अब हम दोनों के पास पूरे तीन दिन और तीन राते भी थी जिसका हमे पूरा पूरा फायदा उठाना था और अब तो अपने देवर को मुझे कोई भी बात बताने या समझाने की जरूरत ही नहीं थी। फिर हम दोनों ने वो सारा समय एक साथ ही रहकर गुजारा और उन दिनों ना जाने कितनी बार उसने मुझे वैसे ही पूरी तरह जोश में आकर किसी जानवर की तरह चोदा और हर बार मेरी चूत को ठंडा किया और में सच कहूँ तो मेरी चूत ने अब उसके लंड के सामने अपने घुटने टेक दिए थे, मेरी चूत में उसको अब ज्यादा लेने की शमता पूरी तरह से खत्म हो चुकी थी क्योंकि वो तो अब मुझे जानवरों की तरह हर एक तरह से नये नये तरीको से चोदने लगा था।

मेरे रंडी चोद दोस्तों यह थी मेरी सच्ची चुदाई की कहानी जिसमे मेरे साथ क्या हुआ, कैसे मेरे देवर के लंड का फव्वारा मेरी चूत के अंदर चला मुझ रंडी ने अपनी चुदाई अपने देवर से कैसे करवाई उसके मज़े कैसे लिए वो सब मुझ रंडी ने लिखकर बताया है…