Get Indian Girls For Sex

साथ मुठ मारते थे तो चल साथ चूत भी चोदेंगे रंडी दुल्हन नंगी

साथ मुठ मारते थे तो चल साथ चूत भी चोदेंगे रंडी दुल्हन नंगी : दोस्तो,  पास के ही गाँव में एक बहुत बड़े ज़मींदार थे। लोग तो उनको उस पूरे इलाके का राजा ही मानते थे। उनका एक लड़का हिमांशु और एक लड़की सेक्सी कंचन थी। ज़मीन कुछ ज़्यादा ही थी तो इस डर से कि कहीं सरकार कब्ज़ा ना कर ले, काफी ज़मीन बेटी सेक्सी कंचन के नाम पर भी कर दी थी। हुआ ये कि इतने ऐश-ओ-आराम में बच्चे थोड़े बिगड़ गए। चौधरी जी ने भी सोचा इतना पैसा है; ज़मीन-जायदाद है; बच्चे थोड़े बिगड़ भी जाएं तो क्या फर्क पड़ता है।

लेकिन चिंता की बात तो तब सामने आई जब गाँव में काना-फूसी होने लगी कि सेक्सी कंचन का अपने ही बड़े भाई हिमांशु के साथ चक्कर है और वो उससे अपनी चूत मरवाना चाहती है।

यूँ तो चौधरी साहब खुद भी बड़े ऐय्याश किस्म के रंडी चोदु मर्द थे तो उनको कोई फर्क नहीं पड़ता अगर उनके बेटे ने कोई रंडी पाल ली होती या गाँव में किसी और की बीवी से टांका भिड़ा लिया होता और उसकी चूत चोद चोद कर फाड़ डाली होती. लेकिन यह मामला तो अलग ही तरह का था। चौधरी जी ने सोचा की अफवाहों के आधार पर अपने बेटे-बेटी से इन सब के बारे में बात करना सही नहीं होगा लेकिन लोगों का मुँह भी बंद नहीं कर सकते। वैसे भी किसी की इतनी हिम्मत तो थी नहीं कि कोई उनके सामने मुँह खोल सके।

साथ मुठ मारते थे तो चल साथ चूत भी चोदेंगे रंडी दुल्हन नंगी

साथ मुठ मारते थे तो चल साथ चूत भी चोदेंगे रंडी दुल्हन नंगी

आखिर चौधरी जी ने सोचा कि बेटी की शादी करके विदा कर दें, तो न रहेगा बांस और न बजेगी बांसुरी। लेकिन इतनी बदनामी के बाद किसी बड़े ज़मींदार के पास रिश्ता भेजा और उसने मना कर दिया तो यह बड़ी बेइज़्ज़ती की बात होगी इसलिए चौधरी ने यह रिश्ता रंडी चोद गिरीश के लिए भेज दिया। उन्होंने बचपन से उसे अनाज मंडी में या खाद-बीज और कीटनाशक लेते हुए देखा था। उनको हमेशा लगता था कि वो बहुत मेहनती लड़का है। उनको विश्वास था कि जो जमीन उनकी बेटी के नाम है उसका सही उपयोग करके रंडी चोद गिरीश ज़रूर उनकी बेटी को सुखी रख पाएगा।

रंडी चोद गिरीश और उसकी माँ ने भी कुछ उड़ती उड़ती बातें सुनी थीं सेक्सी कंचन के बारे में लेकिन रंडी चोद गिरीश की माँ कौन सी दूध की धुली थी। उस पर जो ज़मीन सेक्सी कंचन अपने साथ लेकर आने वाली थी वो पहले ही उनकी ज़मीन से दोगुनी थी। यह बहू सिर्फ कहने के लिए नहीं बल्कि सच में लक्ष्मी का रूप थी। अब घर आती लक्ष्मी को कौन मना करता है तो रंडी चोद गिरीश की माँ ने तुरंत हाँ कर दी।

चौधरी साहब भी जल्दी में थे तो चट मंगनी पट ब्याह हो भी गया।

बारात वापस आई और सारे पूजा पाठ ख़तम हुए तब दुल्हन रिश्तेदार महिलाओं के साथ एक कमरे में बैठी थी। सुहागरात में अभी समय था तो रंडी चोद गिरीश और प्रमोद पीछे बाड़े में अकेले बैठे गप्पें लड़ा रहे थे।

प्रमोद- भाई, अब तेरी तो शादी हो गई। पहले अपन साथ लंड पकड़ कर मुठ मारते थे किन्तु अब मुझे तो अपने ही हाथ से लंड पकड़ कर मुठ मारनी पड़ेगी।

रंडी चोद गिरीश- अरे नहीं! ऐसा कैसे होगा? पहली बार मुठ मारी थी तब से आज तक हमने हमेशा एक दूसरे की मुठ मारी है लंड चूसा है। ऐसे थोड़े ही कोई शादी होने से दोस्ती में दरार पड़ेगी।

प्रमोद- वो तो सही है, लेकिन अब तुझे चूत मिल गई है तो तू मुठ क्यों मारेगा?

रंडी चोद गिरीश- हम्म! यार जब एक दूसरे के हाथ से लंड पकड़ कर मुठ मार सकते हैं। एक दूसरे का लंड चूस सकते हैं तो एक दूसरे की बीवी की चूत क्यों नहीं मार सकते?

प्रमोद- अरे! ऐसा थोड़े ही होता है।

रंडी चोद गिरीश- अरे तू चल आज मेरे साथ … दोनों भाई साथ में सुहागरात मनाएँगे। वैसे भी छिनाल पता नहीं क्या क्या गुल खिला के बैठी है; बड़े चर्चे थे इसके गाँव में।

प्रमोद- अरे यार तू इतना गर्म मत हो। क्या पता किसी ने जलन के मारे यूँ ही खबर उड़ा दी हो। तू अकेले ही जा और प्यार से चोदना अपनी सेक्सी भाभी की विर्जिन चूत और गांड को अगर पहले कोई गुल खिलाए होंगे तो पता चल ही जाएगा; और नहीं तो जिस दिन मेरी शादी हो जाएगी और अपन दोनों की जोरू राज़ी होंगी तो ही मिल के चोदेंगे। बीवी है यार … अपना हाथ नहीं है कि जो उसकी खुद की कोई मर्ज़ी ना हो।

रंडी चोद गिरीश- हाँ यार, बात तो ये भी तूने सही कही। लेकिन तू अपने हाथ से मुठ नहीं मारेगा। जब तक तेरी शादी नहीं हो जाती तब तक मैं अपनी बीवी और तुझे दोनों को मज़े देने लायक दम तो रखता हूँ।

ऐसे ही बातें करते करते रात हो गई और कुछ औरतें रंडी चोद गिरीश को बुलाने आ गईं। उनमें से एक कहने लगी- काय भैया? मीता संगेई सुहागरात मन ले हो, के जोरू की मूँ दिखाई बी करे हो?

इतना कह के हँसी मजाक करते हुए औरतें रंडी चोद गिरीश को सुहागरात मनाने के लिये दुल्हन वाले कमरे में धकेल आईं। अन्दर गुसते ही रंडी चोद गिरीश ने बल्ब जला दिया जिससे कमरा रोशनी से जगमगा गया। रंडी चोद गिरीश के अन्दर प्रेम और चूत चुदाई की भावना कम थी और गुस्सा ज्यादा था क्योंकि उसने काफी लोगों के ताने सुने थे कि रंडी चोद गिरीश ने ज़मीन के लालच में बदचलन रंडी लड़की से शादी कर ली। वो देखना चाहता था कि सेक्सी कंचन कितनी दुष्चरित्र है? उस ज़माने में गाँव की शादियों में दुल्हनें लम्बे घूंघट में रहतीं थीं तो अभी तक रंडी चोद गिरीश ने सेक्सी कंचन को देखा नहीं था।

रंडी दुल्हन कंचन अपने दोनों पैर सिकोड़े सजे धजे पलंग के बीचों बीच घूंघट में छिपी अपनी गंड और चूत मरवाने को तैयार बैठी थी। रंडी चोद गिरीश सीधे गया और जा कर उसका घूंघट  एक झटके के साथ हटा दिया लेकिन जैसे ही उसकी नज़र सेक्सी कंचन पर पड़ी, उसका आधा गुस्सा तो वहीं गायब हो गया। इतनी सेक्सी और सुन