Get Indian Girls For Sex

क्लासमेट की वर्जिन चूत के मजे

intercourse tales in hindi, desi porn kahani

मेरा नाम युवराज है मैं कॉलेज का फाइनल ईयर का स्टूडेंट हूं। हमारी उसी क्लास में हमारे साथ हिमानी नाम की एक लड़की भी पड़ती है। हम दोनों में बहुत कंपटीशन होता है क्योंकि हम दोनों ही पढ़ने में बहुत अच्छे हैं इसलिए हम दोनों बहुत कॉन्पिटिशन करते हैं। कॉलेज में टॉप करने के लिए हम बहुत मेहनत कर रहते है। हिमानी के पापा एक बिजनेसमैन है और मेरे घर में मेरी मां और मेरी बहन है। मैं क्लास में किसी भी सवाल का जवाब दे देता था और गरीब घर से होने के कारण मैं सिर्फ पढ़ाई में ही अपना ध्यान देता था। टीचर जो कुछ भी पूछते मैं उसका तुरंत ही जवाब दे देता था इसलिए टीचर मुझसे बहुत खुश थे।

एक दिन हिमानी ने मुझसे कहा कि तुम मुझे पढ़ा सकते हो लेकिन मैंने उसे मना कर दिया। मुझे लगा की वह यह चाहती है कि उसके मुझसे ज्यादा नंबर आए और वहीं कॉलेज में टॉप कर दे इसलिए मैंने उसे पढ़ाने से मना कर दिया। उसने मुझसे बहुत रिक्वेस्ट की लेकिन मैं नहीं माना। फिर उसने कहा कि वह मुझे अपने पापा से कह कर पार्ट टाइम जॉब दिलाएगी। मैंने सोचा घर में थोड़े पैसे आ जाएंगे इसलिए मैं उसे पढ़ाने के लिए तैयार हो गया। मैंने उससे कहा कि तुम अपने पापा से कब बात करोगी। उसने कहा अभी मेरे पापा घर पर नहीं है मैं एक-दो दिन में अपने पापा से बात कर लूंगी लेकिन तुम मुझे मैथ्स में अपनी तरह बना दो। मैं उसे पढ़ाने के लिए तैयार हो गया और मैंने कहा कि तुम्हें कहा पढ़ाना है तो उसने मुझे अपने घर पर आने के लिए कहा।

अब मैं उसके घर पर पढ़ाने के लिए जाता। पढ़ाते हुए मुझे काफी दिन हो गए थे और उसने अपने पापा से कह कर मुझे कॉलेज के बाद एक पार्ट टाइम जॉब भी दिला दी थी।

एक दिन मैं देरी से घर लौटा और अपनी मां को वह पैसे दिए फिर मेरी मां ने मुझसे पूछा कि तुम्हारे पास इतने सारे पैसे कहां से आए। मैं थोड़ा घबरा सा गया मैं सोचने लगा कि अब मां को क्या जवाब दूं। फिर मैंने मां से कहां की मैं कॉलेज के बाद एक पार्ट टाइम जॉब कर रहा हूं। यह पैसे वहीं से आए हैं, लेकिन मैंने मां को यह नहीं बताया कि यह जॉब मुझे कैसे मिली नहीं तो मेरी मां को बहुत बुरा लगता क्योंकि हम उसकी बराबरी नहीं कर सकते थे। वह बहुत बड़े घर से थी इसलिए मैंने अपनी मां को कुछ नहीं बताया। हम दोनों को एक साथ पढ़ते पढ़ते काफी समय हो गया था। मैं हमेशा  हिमानी के पापा से छुपकर उसके घर में आता था। हम दोनों घर के बाहर गार्डन में पढ़ते थे ताकि  उसके पापा को पता ना चले। उसके पापा से छुपकर मैं उसे पढ़ाता था।

एक दिन जब मैं हिमानी को पढ़ा रहा था तो अचानक से उसके पापा आ गए। उसके पापा ने हमें देख लिया मैं डर गया। उसके पापा ने हिमानी से पूछा कि यह कौन है उसने बताया कि यह मेरा कॉलेज का दोस्त है। हम दोनों  एग्जाम की तैयारी कर रहे हैं इसलिए यह हमारे घर आया है। उसके पापा ने हमें अंदर आने के लिए कहा और कहा कि अंदर कमरे में बैठकर अच्छे से पढ़ाई करो। पढ़ाई अंदर बैठकर एकांत में होती है ऐसे बाहर गार्डन में बैठकर नहीं उसके पापा ने हमें अंदर भेज दिया। यह कहकर उसके पापा वहां से चले गए। उस दिन हम तो डर ही गए थे। मुझे तो लगा कि उसके पापा मेरी जान ही ले लेंगे लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। कुछ समय बाद हमारे एग्जाम थे हम दोनों को कॉलेज में टॉप करना था।

हम दोनों ने कॉलेज में टॉप किया लेकिन हिमानी के मुझ से कुछ ही नंबर ज्यादा थे तो वह क्लास में फर्स्ट आई। मुझे इस बात का थोड़ा बुरा तो लगा लेकिन मैंने कहा चलो छोड़ो जाने दो अब आ गए तो आ गए। मैं इस बात को भूल गया। हिमानी मेरे पास आई और कहने लगी कि तुम्हारी वजह से मेरे नंबर आए हैं तो मैं तुम्हें थैंक्यू कहना चाहती हूं। उसने मुझे धन्यवाद दिया और कहने लगी कि घर पर तुम मुझे मिलना।

मैं जैसे ही हिमान के घर पहुंचा उसने शाम को मेरे लिए पिज़्ज़ा ऑर्डर किया। हम दोनों बैठकर पिज़्ज़ा खा रहे थे तभी अचानक से वह फिजा मेरे मुंह से गिरकर उसकी फ्रॉक में जा गिरा। जैसे ही मैने पिज़्ज़ा को उठाने के इरादा से उसकी फ्रॉक में हाथ लगाया तो उसकी चूत मे मेरा हाथ लग गया। लेकिन वह गलती से उसकी लग गया उसे एकदम से कुछ करंट सा लगा और वह कहने लगी तुमने मेरे चूत मे अपना हाथ लगा दिया। मैंने उसे सॉरी कहा लेकिन वह कहने लगी कोई बात नहीं मैं भी तुम्हारे लंड पर हाथ लगा देती हूं। उसने जैसे ही मेरा लंड पर हाथ लगाया तो वह एकदम से खड़ा हो गया। मुझे लग गया था कि वह मेरे साथ मस्ती कर रही है।

मैंने भी उससे पकड़ कर वही सोफे पर पटक दिया। जैसे ही मैंने उसे सोफे पर पटका तो वह समझ गई और  वह मचलने लगी उसके स्तन मुझसे टकरा रहे थे। मैंने उसके स्तनों को अपने हाथ से दबाना शुरू किया। थोड़ी देर में मैंने उसकी चूत को भी अपने हाथों से दबाना शुरू किया। वह बड़ी तेजी से चिल्लाने लगी और मुझे कहने लगी कि तुम  यह क्या कर रहे हो। मैंने उसे कहा कि तुम्हें अच्छा नहीं लग रहा तो वह कहने लगी कि नहीं मुझे बहुत अच्छा लगा। मैंने उसकी स्कर्ट को उठा दिया तो मैंने देखा कि उसने लाल रंग की पैंटी पहनी हुई है। मैंने उसे कहा तुमने बहुत ही अच्छी पैंटी पहनी हुई है मुझे बहुत अच्छी लग रही है। जैसे ही मैंने उसकी पैंटी को उतारा तो मैंने देखा कि उसकी चिकनी चूत मे एक भी बाल नहीं है। मैंने जल्दी से उसकी चूत मे अपनी जीभ को लगा दिया। उसे चाटना शुरु कर दिया। मैंने बहुत ही अच्छे से उसकी चूत को चाटा और उसे बहुत ही अच्छा लग रहा था। वह बहुत मचल रही थी और मुझे कहती कि मुझे बहुत खुशी हो रही है और मजा भी आ रहा है। मैंने उसकी फ्रॉक को उतार दिया जैसे ही मैंने देखा उसने ब्रा नहीं पहनी हुई है। उसके स्तन पर है दो-तीन तिल थे मैं उन तिलो को देखकर उनकी तरफ आकर्षित होने लगा और मैंने उसके स्तनों को बहुत ही अच्छे से चाटना शुरू कर दिया। मैं उसके स्तनों को जैसे ही अपने मुंह में लेता, तो वह बड़ी तेजी से मचलाती।

मैंने उसकी योनि में अपने हाथ से रगडता जा रहा था फिर मैंने अपने लंड को उसकी चूत में लगाकर रगडना शुरू किया। उसकी योनि से धीरे-धीरे पानी जैसा निकल रहा था और वो गीली हो रही थी। मैंने जैसे ही उसकी चूत मे डालने का प्रयास किया तो वह बहुत टाइट थी मेरा अंदर तक नहीं गया। मुझे बहुत तेज दर्द हुआ लेकिन मैंने फिर भी कोशिश की और बड़ी तेज धक्का मारकर उसकी चूत के अंदर तक डाल दिया। जैसे ही मैंने उसकी चूत के अंदर डाला तो उसकी बड़ी तेज चिख निकल पड़ी। मैं एक बार डर गया मुझे लगा पता क्या हो गया।

अब मैं उसे ऐसे ही धक्के मारे जा रहा था मैं बहुत तेज तेज धक्के मार रहा था। उसकी मादक आवाज मुझे सुनाई दे रही थी जिसे मैं उत्तेजित हो जाता मजे में आ जाता। मैं ऐसे ही उसके साथ संभोग करता रहा। मेरा भी यह पहला मौका था इसलिए मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। मैंने पहली बार किसी लड़की की चूत मे अपना लंड डाला था उससे पहले तो मै सिर्फ मुट्ठ मार कर ही काम चलाया करता था। मैं बहुत तेजी से उसे चोद रहा था। उसका पूरा बदन कांपने लगा और वह मुझे कहती कि मुझे ऐसा लग रहा है जैसे मेरे अंदर से करंट निकल रहा हो। मैं उसे बहुत देर से झटका मार रहा था लेकिन मैंने उसे छोड़ा नहीं ऐसे ही उसके साथ संभोग करता रहा। कुछ समय बाद उसका झड़ गया और मेरा भी झड़ने को हो गया। मैंने अपने वीर्य को उसके स्तनों पर गिरा दिया और उसने अपने स्तनों को कपड़े से साफ किया।

हम दोनों ने अपने कपड़े पहने जैसे ही मैंने कपड़े पहने तो मैंने सोफे में देखा तो खून लगा हुआ था। मैंने उसे कहा कि यह खून कहां से निकाल रहा है। उसने जब अपनी चूत पर हाथ लगाया तो उसको ब्लीडिंग हो रही थी। उसने मुझे बताया कि तुमने मेरी वर्जिन चूत मारी है। जिसे हम दोनों बहुत ही खुश हुए और मै अपने घर चले गया। मैं जब भी हिमानी को पढ़ाने जाता तो उसे हमेशा ही उसी सोफे पर  चोदता था।

loading...