antarvasna, desi kahani

अमन और रेनू की शादी को 5 साल हो चुके थे। लेकिन पता नहीं क्यों इनके बीच तनाव रहता था। अमन और रेनू की शादी इनके घर वालों की मर्जी से हुई थी। और वह दोनों इस शादी से खुश नहीं थे। शायद इसीलिये उन दोनों के बीच तनाव रहता था। वह दोनों चंडीगढ में रहते थे। जब अमन ऑफिस से घर जाता था तो थका हुआ रहता था। वह रेनू से ज्यादा बात नहीं करता था और खाना खा कर सीधे अपने कमरे में चले जाता था। जैसे ही रेनू काम निपटा कर कमरे में पहुंचती वैसे ही वह सो जाता था। रेनू भी अपना चुपचाप आकर सो जाती थी। फिर यह दूरियां बढ़ने लगी थी। रेनू भी अमन से खास बात नहीं करती थी। जब भी वह ऑफिस से घर आता था तो रेनू  अपने काम में लगी रहती थी। उसे भी अमन से कोई मतलब नही था। एक बार अमन के दोस्त ने यह सब देखा उसने भी कुछ तो सोचा ही होगा। रेनू खुद को फ्रेश करने के लिए पार्लर चली जाती थी। वह पार्लर उसकी दोस्त का था। इसीलिए वह अधिकतर वहीं  जाया करती थी। जैसे कभी रेनू देर से घर लौटती तब भी अमन रेनू से कुछ नहीं कहता था। कुछ टाइम तक तो ऐसे ही चलता रहा। जब उनके बीच इतनी दूरियां थी तो दोनो एक दूसरे के बारे में सोचना छोड़ दिया था। फिर एक दिन रेनू बैक मसाज के लिए गई। तो वहां उसे एक आदमी मिला। उसका नाम विजय था।

वह दोनों ऐसे ही एक दूसरे को देखने लगे। वह रेनू के पास गया और सबसे पहले उसने रेनू से उसका नाम पूछा। फिर दोनों बाते करने लगे। ऐसे ही उन दोनों के बीच काफी सारी बातें होने लगी। उसके बाद से वह दोनों रोज मिलने लगे थे। दोनो एक दूसरे को पसंद भी करने लगे थे। उस दिन जब रेनू घर गई तो वह बहुत खुश थी। और अपने पति से भी खूब अच्छी तरह से बात की। धीरे धीरे उन दोनो के  बीच का तनाव दूर होने लगा। क्योंकि अमन भी घर से बाहर एक लड़की से मिलता था। जिसका नाम डिम्पल था। डिंपल अमन को एक बार एक एनजीओ के सामने मिली थी वह उसी एनजीओ को चलाती थी। वह उस दिन घर जा रही थी लेकिन उसकी गाड़ी खराब हो गई थी। फिर अमन ने उसे घर ड्रॉप किया। अमन और डिंपल की भी एक दूसरे से बातचीत होने लगी इसीलिए अमन भी खुश था। वह जब भी घर जाता तो उसके चेहरे पर मुस्कुराहट रहती। जब अमन घर जाता तो उसे ऐसे लगता था कि रेनू उसके लिए तैयार हो रही है। लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं था। वह तो तैयार होकर विजय से मिलकर आ रही थी। फिर दोनों आपस में खूब बातें करते हैं। हमेशा रेनू विजय से मिलकर आती थी। इसलिए वह खुश रहती थी और अमन भी डिंपल से मिलकर बहुत खुश रहता था। एक दिन अमन का प्रमोशन हुआ तो उसने अपने बॉस को अपने घर डिनर पर बुलाया।

उसके बॉस और उनकी पत्नी अमन के घर डिनर पर आई। जब अमन को उसके बॉस ने अपनी पत्नी से मिलाया तो वह हैरान हो गया क्योंकि उसके बॉस की पत्नी डिंपल ही थी। फिर अमित ने अपनी पत्नी को अपने बाँस से मिलाया तो वह दोनों भी हैरान हो गए क्योंकि अमन की पत्नी भी अमन के बॉस से प्यार करती थी। उनको बिल्कुल भी पता नहीं था कि वह किन लोगों से मिल रहे हैं। जब उन्हें पता लगा कि वह कौन है। तब उन्हें बहुत शर्मिंदगी हुई। वह एक दूसरे से नज़र नहीं मिला पाए।

जब अमन ने विजय से इस बारे में बात की वह दोनों काफी शॉक्ड हो गए और वह कहने लगे कि यार मुझे तो पता भी नहीं था कि यह तुम्हारी पत्नी है। अमन ने कहा कि मुझे भी नहीं मालूम था कि यह आपकी पत्नी है लेकिन अब इसमें शर्मिंदगी की कोई बात नहीं है। जो होना था तो वह हो ही चुका है। अब हम लोग मिलकर एंजॉय करते हैं और जिसको जो पसंद है। वह उसे उस तरीके से चोदेगा।  विजय ने भी अपनी पत्नी को समझाया कि इसमें कोई शर्माने वाली बात नहीं है। मैं भी तो अमन की पत्नी के साथ  प्यार कर रहा था और अमन भी तुम्हारे साथ अफेयर कर रहा था। तो इसमें कोई शर्माने वाली बात नहीं है। उसके बाद चारों ने खाना खाया और अमन विजय की पत्नी को अपने साथ ले गया। विजय अमन की पत्नी को अपने साथ ले गया।

वह एक ही बेड रूम में एक ही बिस्तर पर थे। अब उन दोनों ने रेनू और डिंपल के कपड़े उतार दिए थे। उन दोनों ने अपने कपड़े उतार दिए थे। वह चारों अब एक ही कमरे में नंगे थे। विजय और अमन को यह सब बहुत अच्छा लग रहा था क्योंकि वह दोनों एक दूसरे की बीवियों को चोद रहे थे ऐसा ही डिंपल और रेनू के मन में भी चल रहा था। कि वह दोनों एक दूसरे के पति के साथ सेक्स कर रही हैं। यह सब उन दोनों के लिए बहुत ही खुशी का पल था। विजय ने रेनू के स्तनों को चूसना शुरू किया और वह बड़े अच्छे से उसके स्तनों को पी रहा था। ऐसे ही अमन भी डिंपल के स्तनों का रसपान कर रहा था। वह दोनों मदहोश हो रही थी और बहुत ही खुश हो रही थी। अमन ने भी डिंपल के मुंह में अब अपना लंड दे दिया था। उसने बड़े अच्छे से अपने मुंह में लेकर अंदर बाहर सकिंग कर रही थी। डिंपल भी बहुत खुश हो रही थी। जब उसने अमन का लंड अपने मुंह में ले रखा था। अमन ने उसके पूरे गले तक अपने लंड को डाल दिया और उसे कहने लगा। मुझे तुम्हारे साथ ओरल सेक्स करने में बहुत ही मजा आ रहा है। तुम बढ़िया  ओरल सेक्स कर रही हो। यह बात सुनकर विजय थोड़ा नर्वस हो गया। विजय ने भी रेनू के मुंह में अपना लंड दे दिया और रेनू भी बड़े ही अच्छे से उसके लंड को अपने मुंह में लेकर चूसना शुरू किया। उसने भी विजय के लंड को अपने मुंह मे लेकर सकिंग करनी शुरू कर दी।

जिससे कि विजय का थोड़ा बहुत वीर्य भी गिरने लगाता।  दोनों ने रेनू और डिंपल को बिस्तर पर लेटा दिया और उन दोनों के कपडे को खोलते हुए अपने लंड को उनकी योनि में डाल दिया। वह दोनों बड़ी ही तेजी से चिल्ला रही थी और कह रही थी।  बहुत ही मजा आ रहा है। विजय और अमन ने उन दोनों की जांघो को चौडा कर दिया और अब उनके पैरों को पकड़ते हुए। बड़ी तेज तेज धक्के मारने शुरू कर दिया। जैसे ही वह दोनो धक्के मार रहे थे। वह दोनों बड़ी ही तेजी से चिल्ला रही थी। जिससे कि विजय और अमन को बहुत ही जोश आ जाता। ऐसा करते हुए विजय का पहले ही  वीर्य पतन हो गया और उसके कुछ ही क्षणों बाद अमन का भी वीर्य पतन हो गया। अब उन दोनों ने अपनी अपनी बीवियों को चोदना शुरू कर दिया और उन्हें बड़े अच्छे से चोदा। कुछ देर तक तो उन्होंने ऐसा ही किया। फिर उन दोनों का दोबारा से वीर्य पतन हो गया। जिसके बाद वह लोग थक चुके थे और एक ही बिस्तर में चारों लोग नग्नावस्था में पड़े हुए थे। अब उन चारों के बीच में सेक्स को लेकर खुलकर बात होने लगी थी।

उनके बीच में कुछ भी ऐसा नहीं बचा था जो छुपाने के लिए था। तो वह चारो एक दूसरे के साथ जब उनका मन करता तो सेक्स कर लेते। जिससे उन चारों की लाइफ अच्छे से चलने लगी थी और उन्हें पहले की तरह कोई टेंशन नहीं थी। अब डिंपल भी अमन के घर आ जाती थी और रेनू भी विजय के घर पर चली जाती थी। तो उन चारों के बीच में अब ऐसा कुछ भी नहीं बचा था। जो कुछ भी ऐसा रह जाए। जिससे वह आपस में बात भी ना कर पाए। उन्हें शर्मिंदगी महसूस हो उन चारों के बीच बॉन्डिंग बहुत ही अच्छी हो गई थी। जिसे वह लोग कई बार घूमने भी निकल जाया करते थे साथ में और ऐसे ही चारों एक साथ सेक्स किया करते थे। वह लोग  सेक्स के प्रति बहुत ही अच्छे नजरिए से देखने लगे थे। विजय और अमन में भी बहुत अच्छी दोस्ती हो गई थी और वह ऑफिस में एक-दूसरे से पूछते थे कि आज तुम डिंपल से मिलने जा रहे हो और विजय से अमन पूछता था कि आज तुम रेनू से मिलने जाओगे या उसे कहां घुमाने ले जा रहे हो।अमन और रेनू को ऐसा लगता था कि वह एक दूसरे से खुश है। तो अब वह दोनों प्यार से रहने लगे थे। दोनों में प्यार हो गया था।