Get Indian Girls For Sex

हिंदी सेक्स स्टोरी मेरे साथ अप्राकृतिक सेक्स करा मेरी गांड मारी पापा की उम्र के अंकल ने

न्यू इंडियन सेक्स स्टोरी मेरे साथ अप्राकृतिक सेक्स करा मेरी गांड मारी पापा की उम्र के अंकल ने : लड़की या महिला की गांड की चुदाई की कहानी Sex Stories : हेल्लो दोस्तों सबका लंड चुकार सलाम और चुत में उंगली कर के नमस्ते… में मेरी गांड की मस्त चुदाई की सेक्स कहानी हिंदी में सुनाने जा रही हु. दोस्तों मेरा नाम बरखा है में इकलौती होने की वजह से मम्मी डैडी के लाड़ प्यार के कारण  बचपन से ही बिगड़ैल थी. स्कूल से कॉलेज पहुँचते पहुँचते मैं लंड चुत गांड गांड चुदाई चुत चुदाई के बारे में सब जन और समझ चुकी थी. मेरे शोक बहुत ज्यादा थे तो में अपने घर से पैसे भी बिना बताये ले लेती थी. अमीर घर से थी तो  मेरी गलतियों को बचपन की शैतानिया समझ सब माफ़ कर दिया करते थे.

यह भी देखे >> भोली मामी की ब्रा के ऊपर से ही बूब्स दबाए मामी के बूब्स के निप्पल को दबाया

में दिखने में बहुत सेक्सी और हॉट थी तो कॉलेज में मेरी दोस्ती अपने से बड़े रंडीबाज सीनियर लड़कों से हो गई वो रंडी छोड़ा करते थे और रोज रोज मुझे अपनी चुदाई के बारे में बताया करते थे उनकी गंदी गंदी रंडी चुदाई की बात सुनकर मुझे भी बहुत मजा आता था. कई लड़के मेरे आगे पीछे रहते थे सब मेरी चुदाई की फ़िराक में थे, मैं उनको अपने इशारों पर नचाती.

Big Dick In Girl Ass XXX Pic Gaand Me Lund Ki Photos गांड फोटो कुवारी गांड में लंड की फोटो (7)

धीरे धीरे उन्होंने मेरा एक नई दुनिया से एहसास कराया. एक दिन उन्होंने मुझे एक पुरानी भूतिया बिल्डिंग में चलने को कहा और कहा की अगर मैं वहां रुक जाती हूँ, तो मुझे वह सब दोस्त मिलकर एक एक चॉकलेट देंगे.. वरना मैं एक दूंगी.

मैं राज़ी हो गई. मैं समझी कि वह लोग मुझे भूत से डराना चाहते हैं. मैंने कहा कि मैं किसी भूत वूत से नहीं डरती. जब उन लोगों में मुझे उकसाया तो मैंने गुस्से से कह दिया कि ‘ भूत की माँ की चूत और भूत के बाप का कटा लंड ’ मेरी यह बात सुन वे सब हंस दिए. शर्त के अनुसार मुझे 10 मिनट रुकना था. मैं उनके साथ हो ली.

पुरानी भूतिया बिल्डिंग हमारे पुराने कॉलेज की थी कॉलेज के पुराने टूटे क्लासों के पीछे वहां अन्दर का नज़ारा ही कुछ और था. कुछ रंडीबाज सीनियर लड़के  लड़की की सलवार में उसके हिप को मसल रहा था तो कोई किसी लड़की के सामने बैठकर उसकी चूत चाट रहा था. कोई लड़की की टी-शर्ट में हाथ डाले उसके मम्मों को मसल रहा था. तो कोई लड़की के बूब्स में से दूध पी रहा था

यह भी देखे >> बहनचोद भाई ने मेरे पूरे शरीर पर वीर्य की बारिश करी मेरे भाई ने मेरी चूत गांड को खूब चोदा

मैंने सेक्स का ऐसा आलम पहली बार देखा था किसी को भी मेरे वहाँ होने से कोई फर्क नहीं था. एक लड़की झुक कर एक लड़के का लंड मुँह में लेकर चूस रही थी. वह सब वैसे ही लगे हुए थे. उनकी ऐसी सेक्सी गंदी गंदी हरकतों को देख मुझे बहुत अच्छा लग रहा था.
वहां कॉलेज की कम से कम आठ दस लड़कियां लड़कों से जम के चुदवा रही थीं. कुछ पैसे के लिए चुत और गांड चुदवाती थीं कुछ मज़े के लिए सेक्स करती थी.

इस तरह से कॉलेज के बंद पड़े क्लास में ही उन्होंने मेरे नाज़ुक जिस्म को मसल कर मुझे धीरे धीरे सेक्स की एक मशीन बना दिया. वह मुझे पकड़ लेते और मेरी सफ़ेद शर्ट को खोलकर उभरती हुई निम्बू जैसी चूचियों को मसलते और उसको बारी बारी से चूसते. मैं बस सिसकारी भरती रहती. मुझे बेहद आनन्द आता.

“रंडी सपना चल न चलते हैं. एक क्विक वाला बस..” कोई भी दोस्त हाथ पकड़ कर बोलता.
“अभी नहीं शहनाज़ मैडम की क्लास होने वाली है.. क्लास के बाद.”
“अरे वह ख़ुद एक नंबर की चुदक्कड़ औरत है. अच्छा चड्डी में हाथ तो डालने दे यार..”

बेंच पर साथ बैठा कोई न कोई लड़का मेरे स्कर्ट के नीचे से मेरी चड्डी में हाथ डालकर मेरी चूत को सहलाता रहता. कभी कभी तो एक साथ दो दो लड़कों के हाथ मेरी चड्डी में घुसे हुए मेरी चूत को सहलाते मसलते रहते. सामने मैडम क्लास लेती रहतीं.
धीरे धीरे मैं उनसे इतनी खुल गई कि मैं अब उस बंद पड़े टूटे क्लास में सबके सामने हँसते हुए अपनी चड्डी घुटनों पर बूढ़े पापा की उम्र के अंकलका देती.
“झुक जा रंडी सपना सेक्सी लड़की.”
और कोई भी रंडीबाज सीनियर रंडी बाज लड़का मेरी स्कर्ट उठाकर, मेरे छोटे छोटे गोरे चूतड़ों को थपकी देते हुए मुझे दीवार के सहारे झुका देता.

मेरे ही क्लास का एक लड़का चोदू सीनियर मुझे लाइन मारता था. मैंने शुरू शुरू में तो उसको मना कर दिया. वह पीछे पड़ा रहा, मैं भाव खाती रही. लेकिन फिर मुझे एहसास हुआ कि मैं अभी बहुत छोटी मासूम सी हूँ जिस कारण रंडीबाज सीनियर लड़कों का मुझे चोदने के अलावा किसी बात में कोई इंटरेस्ट नहीं है. जिसको मैं रंडीबाज सीनियर लड़कों को उंगलियों पर नचाना समझती थी, वह अब समझ आ रहा था. मैं उनको उंगलियों पर नहीं नचाती थी, वह सब मुझे अपने लंड पर बिठाते थे. जबकि चोदू सीनियर मुझे प्यार करता था. मैंने उसका प्रोपोज़ल स्वीकार कर लिया.

यह भी देखे >> सौतेली माँ को नंगा कर के गांड और चुत में लंड फसाया ; माँ चुदाई की सेक्स स्टोरी

अब मैं रंडीबाज सीनियर लड़कों से दूर रहने लगी. लेकिन चार दिन से ज्यादा न रह सकी. मेरी मासूम सी नाज़ुक विर्जिन चूत में जैसे चीटियाँ रेंगने लगी थीं. मुझे कच्ची उम्र में ही अलग अलग लंड लेने की आदत सी लग गई थी.

उस दिन मैं तुरंत चोदू सीनियर के साथ बाइक से एक पार्क में गई और वहां झाड़ियों की आड़ में उसके लंड को निकाल कर चूसने लगी. पहले तो वह घबरा गया, लेकिन फिर वह भी शुरू हो गया. उसने मुझे वहीं लिटा दिया और मेरी लेग्गिंग को जांघ तक बूढ़े पापा की उम्र के अंकलका कर मेरी नन्हीं सी प्यासी चूत को वहीं गिरा कर चूसने लगा. सर्दी का दिन था मैं चश्मा लगाए दो चोटी बांधे कुरते पर जीन्स का जैकेट पहने, वहीं पत्तों पर लेटी थी. चोदू सीनियर मेरे दोनों पैरों को ऊपर उठा कर मेरी चूत को चाट रहा था. मैं कच्ची उम्र से ही अपनी विर्जिन चुत को चुदवा रही थी,  मैं कहीं भी होती चोदू सीनियर के लंड पर अपनी चूत रगड़ने लगती. वह समझ जाता कि मैं चुदासी हूँ.

धीरे धीरे एक साल गुज़र गया. अब मेरा जिस्म भर चुका था मेरी गांड फुल कर मस्त हो चुकी थी. अब तक मुझे पांच छह लड़के चोद चुके थे दोस्तों की एक साल की मेहनत मेरे जिस्म पर साफ़ दिख रही थी.

फिर एक दिन अचानक मेरे पापा ने आत्महत्या कर ली. इस सदमे से उबरने के लिए मैं शराब पीने लगी. पार्टी में जाकर चोदू सीनियर से जम कर अपनी चुत चुदवाती जेंट्स वाशरूम में अनजान लड़कों से भी चुदवा लेती. नशे में धुत्त पार्टी में कोई भी लड़का मुझे लाइन देता, मैं बहाना करके उसके साथ कभी कार में, तो कभी वाशरूम में चली जाती और सेक्स करती.

यह भी देखे >> Gaand me Lund ki Photos गांड फोटो कुवारी गांड में लंड की फोटो

मैं बड़ी हो चुकी थी लेकिन कम उम्र की मासूम सी दिखती थी, इस लिए हर कोई मुझे ही चोदना चाहता था. एक दिन नाईट पार्टी में एक मुझसे दुगनी उम्र के एक व्यक्ति ने मुझे इशारा किया, मैं उस के साथ चली गई,  मैं उसके सामने उसकी बेटी की उम्र की थी. उसने पार्किंग में खड़ी अपनी कार में मुझे ले जाकर मेरी लाल चड्डी खींच दी और स्कर्ट ऊपर करके अन्दर ही झुका दिया.

“झुक जाओ सेक्सी लड़की.. तुम बहुत प्यारी हो.” मेरी चूत गीली होने लगी और उसके मोटे लंड को लेने के लिए मचल उठी. मैं कार में झुकी कुतिया