Get Indian Girls For Sex

बचपन के प्यार को चोदा – मुफ्त देसी चुदाई की कहानिया हिंदी सेक्स

Bachpan ke pyar ko choda: desi porn tales, hindi intercourse kahani हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम रितेश है और मैं एक एफ.एम.सी.जी. कंपनी में प्रोडक्शन मेनेजर हूँ | दोस्तों ये मेरी पहली कहानी है तो इसमें हुई गलती के लिए माफी मांगना चाहता हूँ | मैं दिखने में हेल्दी हूँ, और मेरी हाईट 5 फुट eleven […]

Bachpan ke pyar ko choda:

desi porn tales, hindi intercourse kahani

हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम रितेश है और मैं एक एफ.एम.सी.जी. कंपनी में प्रोडक्शन मेनेजर हूँ | दोस्तों ये मेरी पहली कहानी है तो इसमें हुई गलती के लिए माफी मांगना चाहता हूँ | मैं दिखने में हेल्दी हूँ, और मेरी हाईट 5 फुट eleven इंच है | मेरा रंग सांवला है और मेरे लंड का साइज़ 7 इंच लम्बा और 2.5 इंच मोटा है | मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ और मेरे घर में मेरे पिताजी ( महेश ), मम्मी ( सुनीता ), छोटा भाई ( दुर्गेश ) रहते हैं | मेरे पापा सरकारी नौकरी करते हैं और मम्मी हाउसवाइफ हैं | मेरा छोटा भाई मुंबई में रह कर क्लासिकल सिंगिंग का कोर्स कर रहा है | ये घटना कुछ समय पहले की है | जब मुझे मीटिंग में जाना था | हमारी मीटिंग इंदौर में सेट हुई थी और वहां पर हमारा टूर कुछ 15 दिनों का था | हमें एक कोर्स भी करना था साथ ही मीटिंग भी अटेंड करना था | ये सिर्फ प्रोडक्शन मेनेजर के ही लिए था | जितने भी कंपनी के प्रोडक्शन मेनेजर थे सभी के लिए ये कोर्स करना बहुत जरुरी था लेकिन अगर कोई नहीं भी करना चाहता तो जबरजस्ती भी नहीं थी | मुझे जॉब करते हुए 2 साल ही हुए थे | मैं एक हिंदी मध्यम स्कूल में पढता था लेकिन मैं भी पढ़ाई में अच्छा था इसलिए मुझे जॉब भी जल्द्दी और अच्छी मिल गई |

मैंने ग्रेजुएशन के साथ साथ पोस्ट ग्रेजुएशन भी किया है | मैं अपना काम बहुत ही इमानदारी  से करता हूँ और मुझे हर काम सही समय पर करने की आदत है | इसी वजह से मेरे कंपनी के जो सिईओ हैं उन्हें मैं बहुत पसंद हूँ | खैर ये तो रही आम बात | अब मैं आप लोगो को बताता हूँ कि कैसे मेरी जिन्दगी में चुदाई करने का मौका मिला | स्कूल और कॉलेज में मैंने सिर्फ पढ़ाई पर ही ध्यान दिया और बाकी दंद फंद काम में ध्यान नहीं दिया | मेरा भी बहुत मन करता था कि मैं ये सब करूँ लेकिन मैंने अपने आप में बहुत कण्ट्रोल किया और इन सब से तौबा तौबा किया | स्कूल के समय में मुझे एक लड़की पसंद आई थी जिसका नाम शाइना था और वो बहुत सुन्दर थी | पर मैं उससे कहने में डरता था और कभी उससे अपने प्यार का इजहार नहीं कर पाया | तब से लेकर मैं सिंगल ही था | हम सब मीटिंग में गए हुए और सभी को पर्सनल रूम आल्लोट हुए थे | हम सभी को वहां पंहुच कर अपनी अटेंडेंस लगवानी थी की हम वहां पंहुच चुके हैं | इसके बाद सभी सभी अपने रूम में चले गए और मैं भी अपने रूम में आ गया | मैंने अपने घर में फ़ोन कर के बता दिया कि मैं पंहुच गया इंदौर | उस समय दोपहर के 2.30 बज रहे थे और मुझे भूख भी लगी थी |

मैंने नीचे आर्डर दिया खाने का | उसके बाद खाना भी आ गया | खाना खाने के बाद मेरी टहलने कि आदत है |  तो मैं बाहर टहलने निकला | मैं ऐसे ही टहल रहा था तभी मेरी नजर शाइना पर पड़ी | मैंने उसे आवाज़ दिया और रुकने को कहा | उसने मुझे हाय किया और पुछा यहाँ कैसे ? मैंने बताया यार मैं यहाँ मीटिंग और ट्रेनिंग के लिए आया हूँ और तुम ? उसने कहा ओह अरे मैं यहाँ रिसेप्शनिस्ट कि जॉब कर रही हूँ | मैंने कहा अच्छा | फिर हम दोनों में ऐसे ही बात होने लगी | वैसे तो मेरे वहां पर कोई दोस्त तो थे नहीं इसीलिए मैं ज्यादातर समय शाइना के साथ ही बिताया करता | एक दिन हम सब कि ट्रेंनिंग जल्दी खत्म हो गई तो वापस हम सब होटल आये | शाइना से मैंने हेल्लो कहा और उसने भी हेल्लो किया | मैं अपने रूम में सामान रखा और थोड़ी देर के लिए लेट गया | उसके बाद दरवाजे पर नॉक हुआ तो मैंने दरवाजा खोला | देखा सामने शाइना है तो मैंने उसे अन्दर आने को कहा और पुछा अरे यहाँ कैसे ? तो उसने कहा यार कुछ नहीं बस ऐसे ही आ गई | मैंने उसे बैठने के लिए कहा और दो कप चाय का आर्डर दिया | फिर हम दोनों बात करने लगे |

कुछ ही देर में चाय भी आ गई और हम चाय पीते पीते बात करने लगे | उसने मुझसे पुछा की क्या तुम्हारी शादी हो गई ? मैंने कहा नहीं यार अभी तो नहीं हुई है | फिर मैंने पुछा कि तुम्हारी हो गई क्या ? उसने कहा नहीं यार वैसे बात तो चल रही है शादी की पर मैं अभी शादी करना नहीं चाहती | मैंने पुछा क्यूँ ? तो उसने कहा यार मैं किसी अनजान के साथ कैसे अपनी पूरी जिन्दगी काट सकती हूँ | मैंने मन में सोचा कि यही मौका है आज बोल दे अपने दिल कि बात वरना क्या पता फिर मौका मिल पाता है या नहीं | वो अपनी बात बता ही रही थी कि मैंने उसे बीच में ही टोकते हुए बोला शाइना मुझे तुमसे कुछ कहना है | उसने कहा हाँ बोलो | मैंने कहा शाइना मैं तुम्हे स्कूल के समय से बहुत प्यार करता था | मैं कभी डर की वजह से तुमसे अपने प्यार का इजहार नहीं कर पाया | पर आज मुझे मौका मिल रहा है तो मैं अपने दिल की बात कर  रहा हूँ | क्या तुम मुझसे शादी करोगी ? उसने कहा यार इतनी जल्दी तो मैं फैसला नहीं कर सकती | मुझे थोडा समय चाहिए | मैंने कहा ठीक है | फिर उसने पुछा तुम कब तक रुके हो यहाँ ? मैंने कहा अभी Four दिन है मेरे पास | उसने कहा ओके और चले गई | रात को करीब उसने मुझे 10 बजे फ़ोन किया और कहा यार क्या मैं तुम्हारे रूम आ सकती हूँ | मैंने कहा हाँ आ जाओ क्या प्रॉब्लम है | उसने कहा ठीक है मैं नीचे ही हूँ आती हूँ ऊपर |

मैंने कहा ठीक है | 5 मिनट बाद वो आई तो मैंने उससे पुछा यार आज तुम इतनी रात में आई ? तो उसने कहा हाँ बात ही कुछ ऐसी थी | मैंने पुछा क्या ? तो उसने दरवाजा लगा दी और सीधा मेरे होंठ को अपने होंठ में जकड कर किस करने लगी | मैंने उसे अलग करते हुए कहा यार अभी तुम ये सब ? उसने कहा मतलब क्या मैं तुम्हे पसंद नहीं ? तो मैंने कहा हाँ हो पसंद पर ? बस इतना सुनते ही वो फिर से मेरे होंठ पर किस करने लगी | अब मैं ही उसका साथ देते हुए उसके होंठ को चूसने लगा | कुछ देर किस करने के बाद मैंने उससे कहा यार अब रुको नहीं बस बढ़ते ही चलो | उसने मेरी टी-शर्ट को उतार दी | अब मेरे सीने के बाल को हाँथ से सहला कर मेरे सीने को पर किस करने लगी और मैं उसके हाँथ को सहला रहा था | अब वो चूमते हुए धीरे धीरे नीचे जाने लगी | अब वो अपने घुटनों के बल जमीन पर बैठ गई और मेरे बॉक्सर को उतार कर मुझे बेड पर बैठा दी | अब वो मेरे लंड को हाँथ में ले कर हिलाने लगी | अब मेरा लंड खड़ा हो गया और वो मेरे लंड को अपनी जीभ से ऊपर नीचे करते हुए चाटने लगी तो मेरे मुंह से सिस्कारियां निकलने लगी | वो मेरे लंड को बड़े मजे से चाट रही थी और मैं सिस्कारियां लेते हुए उसके बदन को सहला रहा था | उसके बाद उसने मेरे लंड को अपने मुंह में ले कर लंड के टॉप को चूसने लगी | हाय क्या मजा आ रहा था |

वो मेरे लंड को अपने मुंह में पूरा भर ली और चूसने लगी ऊपर नीचे करते हुए और मैं सिस्कारियां लेते हुए उसके ब्लेजर को उतार दिया | मेरे लंड को चूसने के बाद मैंने उसे खड़ा किया और उसके शर्ट के बटन को खोल कर शर्ट को अलग कर दिया | अब वो मेरे सामने ब्रा में थी | मैंने पीछे हाँथ कर के उसके ब्रा को भी उतार दिया और उसके बड़े बड़े दूध मेरे सामने थे | मैं उसके दोनों दूध को अपने मुंह में ले कर बारी बारी से चूसने लगा तो उसके मुंह से भी सिस्कारियां निकलने लगी | मैं उसके दूध को जोर जोर से मसलते हुए चूस रहा था और सिस्कारियां भरते हए मेरे गाल को सहला रही थी | फिर मैंने उसकी स्कर्ट और पेंटी दोनों को साथ में उतार कर नंगी कर दिया | अब हम दोनों नंगे थे | मैंने उसे लेता दिया और अपने लंड को उसकी चूत में डाल कर चोदने लगा और वो सिस्कारियां भरते हुए मजे लेने लगी | मैं जोर जोर से उसकी चूत को चोद रहा था