Get Indian Girls For Sex

रात पूनम आंटी के साथ – one hundred% valid intercourse reports by mastram

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विशाल और में कोलकाता का रहने वाला हूँ। दोस्तों में एक बार फिर से आ गया हूँ अपनी एक और नयी कहानी सच्ची चुदाई की घटना लेकर। दोस्तों में 31 दिसंबर को में अपने एक दोस्त के साथ करीब Eight बजे नाईट क्लब गया हुआ था और मेरा दोस्त मोहित मेरा […]

The submit रात पूनम आंटी के साथ regarded first on Gandi Kahaniya.

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विशाल और में कोलकाता का रहने वाला हूँ। दोस्तों में एक बार फिर से आ गया हूँ अपनी एक और नयी कहानी सच्ची चुदाई की घटना लेकर। दोस्तों में 31 दिसंबर को में अपने एक दोस्त के साथ करीब Eight बजे नाईट क्लब गया हुआ था और मेरा दोस्त मोहित मेरा एक स्कूल का दोस्त है। हमारे यहाँ पर बहुत सारे बड़े बड़े नाईट क्लब है और हम दोनों दोस्त क्लब में गये और हम दोनों पार्टी कर रहे थे। फिर कुछ देर बाद मुझसे मेरे दोस्त ने डांस करने के लिए कहा, लेकिन मैंने साफ मना कर दिया। करीब 9.30 या 10 के टाईम मुझे फोन आया, में अपने दोस्त को यह बात बोलकर बाहर गया और फोन पर बात कर रहा था, वो मेरी माँ का फोन था। उन्होंने मुझसे पूछा कि तुम कितने बजे तक आ जाओगे? तो मैंने उनसे कहा कि मुझे सुबह हो जाएगी।

अब में यह बात करके थोड़ा आगे की तरफ बढ़ गया। मैंने वहां पर एक पास की दुकान पर गया और जैसे ही में पीछे मुड़ा तो मेरे सामने एक आंटी, जिनकी उम्र करीब forty साल की होगी, उनकी 36 गांड भी बहुत बड़ी और उनकी लम्बाई कम से कम 5.Eight इंच की होगी। में उनको देखकर पागल हो गया और में एक तरफ हटा और लगातार उसको ही देखता रहा। फिर करीब दस मिनट के बाद में क्लब के अंदर चला गया और दोबारा ड्रिंक करने लगा। मैंने इतना ड्रिंक किया कि पिछवाड़े का होश ही नहीं था। फिर मैंने बहुत डांस किया और उस समय करीब रात के eleven बज रहे थे। में वाईन लेकर एक सोफे पर बैठा हुआ था और म्यूज़िक का मज़ा ले रहा था, मेरा दोस्त अब तक पीकर एकदम हो गया था और क्लब में लड़कियां और आंटी को देखकर नशे में मेरा लंड गरम हो रहा था और में सोच रहा था कि काश मुझे कोई मिल जाती तो मज़ा आ जाता।

अब थोड़ी देर बाद मुझे भूख लगी तो मैंने खाना खाया और मैंने देखा कि मेरा दोस्त तो मुझसे भी ज्यादा टुन हो गया था। करीब eleven.30 या 12 बज रहे थे और अब में बोर होने लगा था, इसलिए मैंने अपने दोस्त को कहा कि चल अब हम घर चलते है, लेकिन वो इतने नशे में था कि वो मुझसे कुछ भी नहीं बोल पा रहा था। मैंने क्लब में खाने पीने के पैसे दिए और एक बआउनसर्स को बोला कि वो मेरे दोस्त को मेरी कार तक छोड़ दे। मैंने उसको 500 रूपये दिए और उन दो लोगों ने मेरे नशे में धुत दोस्त को कार के पीछे वाली सीट पर लेटा दिया। दोस्तों वो तो ऐसे मज़े से सोया था, हरामखोर जैसे कोई कुत्ता रास्ते में बिना चिंता के सोया हो। फिर मैंने कार को स्टार्ट किया और हम दोनों वहां से निकल गये। करीब पांच मिनट रास्ता बदलने के बाद मैंने देखा कि बस स्टॉप पर कोई खड़ा है। में अपनी कार को उसके पास लेकर गया और मैंने कार को उसके सामने रोकी देखा तो यह वही आंटी है, जो कुछ देर पहले मुझे दिखी थी। में अपनी कार से उतरकर बाहर आया तो मैंने उनसे कहा कि क्यों आंटी आप अभी पास वाली दुकान में थी ना? उन्होंने कहा कि हाँ, तो मैंने उनसे कहा कि आप इतनी रात को यहाँ पर अकेली क्या कर रही हो? तो उन्होंने कहा कि वो इस सेक्टर में नौकरी करती है और आज काम कुछ ज्यादा था, इसलिए वो लेट हो गई, लेकिन तुम कौन हो? मैंने कहा कि में सिनेमा के पास वाले क्लब में आया था, जो सेक्टर 5 में है। मैंने फिर से उनसे पूछा कि आप कहाँ रहती है? तो उन्होंने मुझसे कहा कि आप अपने घर पर चले जाओ। मैंने पूछा कि क्या हुआ आंटी? तो वो बोली कि कुछ नहीं बस आप अपने घर पर जाओ, में आपको अच्छी तरह से जानती भी नहीं तो में आपसे किस हिसाब से बात करूं? मैंने कहा कि हाँ यह बात तो आपकी सही है, लेकिन रात के 12 बज रहे है और एक औरत अकेली बस स्टॅंड में खड़ी है, यह बिल्कुल भी ठीक नहीं है चलो आपको जब तक कोई साधन नहीं मिलता में यहीं पर हूँ। फिर आंटी ने मुझसे कहा कि इसकी कोई ज़रूरत नहीं है, आप अपने घर पर चले जाओ। मैंने कहा कि ठीक है तो चलो में आपको भी आपके घर पर छोड़ देता हूँ। तभी उन्होंने मुझसे कहा कि इसकी कोई ज़रूरत नहीं है, में खुद ही चली जाउंगी। मैंने उनसे कहा कि ठीक है और फिर में अपनी गाड़ी में बैठने ही वाला था कि पीछे से आंटी ने कहा कि क्या आप मुझे अगले बस स्टॉप पर छोड़ दोगे? तो मैंने कहा कि हाँ आप आ जाओ, तब आंटी ने अंदर देखकर कहा कि यह पीछे कौन है? मैंने कहा कि यह मेरा दोस्त है और इसने कुछ ज्यादा पी ली है, कोई बात नहीं है आप आगे की सीट पर बैठ जाओ और फिर आंटी आगे बैठ गयी। करीब पांच या दस मिनट के बाद एक बस स्टॉप आ गया और वहां पर आंटी ने रुकने के लिए बोला और में रुक गया। आंटी ने मुझसे कहा कि बस यहीं पर रोक दो, आंटी ने नीचे उतरकर मुझसे धन्यवाद कहा और में भी उनके पीछे उतरा। तब मैंने देखा कि पिछले बस स्टॉप से यह ज्यादा सुनसान लग रहा था, उस पर कोई लाईट भी नहीं थी और ना कोई साधन था। मैंने उनसे कहा कि यहाँ पर इतने रात को कोई साधन नहीं मिलेगा, चलो में आपको आपके घर पर छोड़ देता हूँ।

फिर आंटी ने कहा कि नहीं मुझे यहाँ से कोई ना कोई साधन जरुर मिल ही जाएगा। में कार में बैठने वाला था कि तभी दो तीन बाईक पर पुलिस वाले आए और उन्होंने आंटी से कहा कि यहाँ इतनी रात को क्या हो रहा है? उन्होंने आंटी को गलत समझा तो में कार से उतरा और मैंने उनसे कहा कि नहीं सर में आंटी को यहाँ पर छोड़ने आया हूँ, आंटी इस सेक्टर में नौकरी करती है, इसलिए वो लेट हो गई है। फिर पुलिस ने आंटी का आईडी चेक किया और वो चले गये। उनके जाने के बाद मैंने कहा कि अब आंटी आप क्या करोगी? तो आंटी ने मुझसे सॉरी कहा और फिर उन्होंने मुझसे बोला कि चलो तुम ही मुझे मेरे घर पर छोड़ दो। फिर मैंने पूछा कि आपका घर कहाँ है? उन्होंने कहा राजरहात तो मैंने कहा कि ठीक है चलो फिर हम चलने लगे और आंटी से बात हुई तो मैंने उनसे पूछा कि आपके घर पर कौन कौन है? तो आंटी ने कहा कि मेरा बेटा जो दिल्ली में नौकरी करता है, मेरे पति आर्मी में है और वो इस समय जयपुर में रहते है और में घर पर अकेली बोर होती हूँ, इसलिए में नौकरी करती हूँ। फिर मैंने उनसे पूछा कि आंटी आपका नाम क्या है तो आंटी हंसी और उन्होंने कहा कि पूनम कपूर। मैंने पूछा क्या आप पंजाबी हो? तो उन्होंने कहा कि हाँ फिर हम बातें करते करते उनके घर पर पहुंच गये। मैंने देखा कि उनका फ्लेट seventh मंजिल पर था, आंटी ने नीचे उतरकर मुझसे धन्यवाद कहा और मुझसे पूछा कि तुम्हारा क्या नाम है?

फिर मैंने कहा कि विशाल उन्होंने थोड़ी देर मुझे देखा और फिर मुझसे कहा कि चलो विशाल मेरे साथ ऊपर मेरे घर पर तुम बैठकर कॉफी पी लेना। फिर मैंने कहा कि नहीं, धन्यवाद। उन्होंने कहा कि तुमने एक अंजान होकर भी मुझे घर तक छोड़ा और अब क्या में तुम्हें एक कॉफी भी नहीं पिला सकती? तो मैंने कहा कि हाँ ठीक है। मैंने अपने दोस्त को कार के अंदर ही छोड़ दिया और एक तरफ के कांच को हल्का सा खोल दिया, ताकि वो साँस ले सके। उसके बाद में आंटी के साथ उनके घर पर ऊपर गया और आंटी ने दरवाजा खोला और फिर मुझसे कहा कि तुम बैठो सोफे पर में अभी आती हूँ। अब में उनके कहने पर वहीं पर बैठ गया। कुछ देर बाद आंटी हम दोनों के लिए दो कॉफी बनाकर ले आई और हम लोगों ने साथ में बैठकर कॉफी के मज़े लिए। फिर कॉफी खत्म होने के थोड़ी देर बाद आंटी मुझसे बोली कि में अभी आती हूँ तुम बैठो। अब में बैठकर रूम के चारो तरफ देख रहा था। तभी कुछ देर बाद मुझे ज़ोर की सूसू आई। में उठा और एक दरवाजे को वाशरूम समझकर मैंने उसको खोल दिया। तभी जो मैंने देखा उसको देखकर में बहुत चकित हुआ, क्योंकि ऊूउउफफफ्फ़ आंटी पूरी नंगी थी, उनकी कमर और क्