मौसेरे भाई बहन का खेल

हिंदी सेक्स स्टोरी मौसेरे भाई बहन का खेल

मेरा नाम सचिन है। मैं एक छोटे से कस्बे का रहने वाला हूँ। मेरे पिता सरकारी दफ़्तर में लिपिक हैं। मेरी उम्र 19 वर्ष की थी जब मैं और अपने ननिहाल गाँव गया था। वहाँ मेरे मामा की शादी थी। वहाँ पर सभी सगे संबंधी आने वाले थे। हम लोग शादी के दस बारह दिन पहले ही पहुँच गए थे। मेरे पिता जी हम लोग को वहाँ छोड़ कर वापस अपनी ड्यूटी पर चले गए और शादी से एक-दो दिन पहले आने की बात बोल गए।

वहाँ पर जयपुर से मेरे मौसी-मौसा भी अपने बाल बच्चों के साथ आये थे। मेरी एक ही मौसी है उनका एक बेटा और एक बेटी है। बेटे का नाम रोहित और उसकी उम्र लगभग 20 साल की थी। जबकी मौसी की बेटी का नाम दीपिका है और उसकी उम्र तब लगभग 18 साल की थी। हम तीनों में बहुत दोस्ती है। मेरे मौसा भी अपने परिवार को पहुँचा कर वापस अपने घर चले गए। उनका कपड़े का कारोबार है, इस व्यापार में कम समय में ही काफी दौलत कमा ली थी उन्होंने। उनका परिवार काफी आधुनिक विचारधारा का हो गया था। हम लोग लगभग तीन वर्षों के बाद एक दूसरे से मिले थे।

मैं, रोहित और दीपिका देर रात तक गप्पें हांकते थे। दीपिका पर जवानी छाती जा रही थी। उसके चूचे विकसित हो चुके थे। मैं और रोहित अक्सर खेतों में जाकर सेक्स की बातें करते थे। रोहित ने मुझे सिगरेट पीने सिखाया। रोहित काफी सारी ब्लू फिल्में देख चुका था और मैं तब तक इन सबसे वंचित ही था इसलिए वो सेक्स ज्ञान के मामले में गुरु था।

एक दिन जब हम दोनों खेतों की तरफ सिगरेट का सुट्टा मारने निकलने वाले थे तभी दीपिका ने पीछे से आवाज लगाई- कहाँ जा रहे हो तुम दोनों?

मैंने कहा- बस यूँ ही खेतों की तरफ ठंडी ठंडी हवा खाने !

दीपिका- मैं भी चलूँगी।

मैं कुछ सोचने लगा मगर रोहित ने कहा- चल !

अब वो भी हमारे साथ खेतों की तरफ चल दी। मैं सोचने लगा यह कहाँ जा रही है हमारे साथ? अब तो हम दोनों भाइयों के बीच सेक्स की बातें भी ना हो सकेंगी ना ही सिगरेट पी पाएंगे। लेकिन जब हम एक सुनसान जगह पार आये और एक तालाब के किनारे एक पेड़ के नीचे बैठ गए तो रोहित ने अपनी जेब से सिगरेट निकाली और एक मुझे दी। मैं दीपिका के सामने सिगरेट नहीं पीना चाहता था क्योंकि मुझे डर था कि दीपिका घर में सबको बता देगी लेकिन रोहित ने कहा- बिंदास हो के पी ले यार ! ये कुछ नहीं कहेगी।

लेकिन दीपिका बोली- अच्छा… तो छुप छुप के सिगरेट पीते हो? चलो घर में सबको बताऊँगी।

मैं तो डर गया, बोला- नहीं, दीपिका ऐसी बात नहीं है। बस यूँ ही देख रहा था कि कैसा लगता है, मैंने आज तक अपने घर में कभी नहीं पी है। यहाँ आकर ही रोहित ने मुझे सिगरेट पीना सिखलाया है।

दीपिका ने जोर का ठहाका लगाया, बोली- बुद्धू, इतना बड़ा हो गया और सिगरेट पीने में शर्माता है? अरे रोहित, कितना शर्मीला है यह।

रोहित ने मुस्कुरा कर एक और सिगरेट निकाली और दीपिका को देते हुए कहा- अभी बच्चा है यह !

मैं चौंक गया, दीपिका सिगरेट पीती है?

दीपिका ने सिगरेट को मुँह से लगाया और जला कर एक गहरा कश लेकर ढेर सारा धुंआ ऊपर की तरफ निकालते हुए कहा- आह !! मन तरस रहा था सिगरेट पीने के लिए।

तब तक रोहित ने भी सिगरेट जला ली थी, उसने कहा- अरे यार सचिन, शहर में लड़कियाँ भी किसी से कम नहीं। सिगरेट पीने में भी नहीं। वहाँ जयपुर में हम दोनों रोज़ 2-Three सिगरेट एक साथ पीते हैं। एकदम बिंदास है दीपिका। चल अब शर्माना छोड़ और सिगरेट पी।

मैंने भी सिगरेट सुलगाई और आराम से पीने लगा, हम तीनों एक साथ धुंआ उड़ाने लगे।

दीपिका- अब मैं भी रोज आऊँगी तुम दोनों के साथ सिगरेट पीने।

रोहित- हाँ, चली आना।

सिगरेट पीकर हम तीनों वापस घर चले आये। अगले दिन भी हम तीनों वहीं पर गए और सिगरेट पी। अभी भी मामा की शादी में 10 दिन बचे थे।

अगले दिन सुबह सुबह मामा रोहित को लेकर शादी का जोड़ा लेने शहर चले गए। दिन भर की खरीददारी के बाद देर रात को लौटने का प्रोग्राम था। दोपहर में लगभग सभी सो रहे थे, मैं और दीपिका एक कमरे में बैठ कर गप्पें हांक रहे थे।

अचानक दीपिका बोली- चल ना खेत पर, सुट्टा मारते हैं। बदन अकड़ रहा है।

मैंने कहा- लेकिन मेरे पास सिगरेट नहीं है।

दीपिका- मेरे पास है न ! तू चिंता क्यों करता है?

अब मेरा भी मन हो गया सुट्टा मारने का, हम दोनों ने नानी को कहा- दीपिका और मैं दुकान तक जा रहे हैं। दीपिका को कुछ सामान लेना है।

कह कर हम दोनों फिर अपने पुराने अड्डे पर आ गए। दोपहर के दो बज रहे थे। दूर दूर तक कोई आदमी नहीं दिख रहा था। हम दोनों बरगद के विशाल पेड़ के पीछे छिप कर बैठ गए और दीपिका ने सिगरेट निकाली। हम दोनों ने सिगरेट पीनी शुरू की।

हिंदी सेक्स स्टोरी मौसेरे भाई बहन का खेल

मौसेरे भाई बहन का खेल,Hindi Intercourse Tales, Hindi Intercourse Tales.