Get Indian Girls For Sex
   

(मैंने ज़ोर से उसके बूब्स को दबा दिया और वो दर्द से चिल्ला उठी और बोली कि थोड़ा आराम से...)

Hardcore Fucking and Sucking for Japanese Star Maria Ozawa Full HD Nude fucking image Collection_00008

 हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राहुल है और आज में आप सभी को अपनी एक नई कहानी सुनाने जा रहा हूँ. मेरी यह कहानी बहुत मस्त है, इसमें में आप लोगो को बताऊंगा कि कैसे मैंने अपने फ्रेंड की बहन को चोदा और हमने सेक्स में क्या-क्या किया और हमने कितने मज़े से सेक्स किया और कब और कैसे किया.
पहले में अपना और अपने दोस्त की बहन का परिचय दे देता हूँ. मेरा नाम राहुल है और मेरी उम्र 22 है, लेकिन जब मैंने अपने फ्रेंड की बहन को चोदा, तब मेरी उम्र 21 साल थी, मेरी हाईट 5.7 है और मेरा लंड 3 इंच मोटा और 8 इंच लंबा है और अब मेरे दोस्त की बहन के बारे बताता हूँ. मेरे दोस्त की फेमिली बहुत अमीर है और उसके पापा का एक बिजनेस है और उसकी मम्मी भी एक विभाग में सरकारी नौकर है तो उनके घर पर पैसो की कोई कमी नहीं है.
मेरे दूसरे दोस्तों की तुलना में वो मेरा बहुत अच्छा दोस्त है और मेरे दोस्त का घर डबल मंजिल है. उसके एक बहन है जो उससे बड़ी है और उनकी उम्र 26 साल है, उनका नाम पूर्वी है और वो अभी कुछ समय पहले ही B.A. करके जबलपुर लौटी है.

वो अभी जबलपुर में ही है और कोई नौकरी ढूंढ रही है, उनकी हाईट 5.6 है, रंग गोरा है और बाल लंबे व काले है और उनको टाईट कपड़े पहना पसंद है, उनका फिगर भी बहुत आकर्षक है, उनका साईज 36-25-36 है और वो अभी पुणे से अपनी पढ़ाई करके आई थी और वैसे ही उनके बूब्स थोड़े बाहर की तरफ दिखने लगे थे. बड़े शहर में रहने का असर उन पर और उनके कपड़ो पर साफ साफ दिख रहा था. दोस्तों जैसा कि मैंने आपको पहले बताया कि मेरा दोस्त पैसे वाला है, लेकिन मेरे घर पर नेट नहीं है, तो में अपने दोस्त के घर पर जाकर यह काम किया करता था. उनके घर पर एक कंप्यूटर और दो लेपटॉप थे और एक लेपटॉप उसकी दीदी पुणे से लेकर आई थी जो कि उसका खुद का था. दोस्तों हम दोनों ने साथ में एक कॉलेज में एड्मिशन लिया था और हम बी.कॉम. कर रहे थे और में उसके साथ ही कॉलेज जाया करता था.

तो लगभग आधे दिन में अपने दोस्त के घर पर ही रहता था. फिर जब उसकी दीदी जबलपुर से आई थी तो मैंने थोड़ा उनके घर पर आना जाना कम कर दिया था, लेकिन मेरा वो एक अच्छा दोस्त था इसलिए उसकी दीदी के लिए मेरे दिल में कोई बुरी बात तो थी नहीं और ना ही मेरी बुरी नज़र थी, में भी उनको दीदी कहता था और उनकी बहुत इज्जत करता था, लेकिन यह इज्जत अब उनके पुणे से लौटने के बाद ज्यादा दिन नहीं रह सकी. तो दोस्तों में अपने दोस्त के घर कहानियाँ पढ़ने, अपने मेल्स चेक, करने और कॉलेज जाने के लिए जाया करता था. हम कभी कभी रात में भी साथ रुकते थे और अपनी पढ़ाई करते और कोई भी काम रहता तो पहले में अपने दोस्त के घर पर जाया करता और फिर अपना काम किया करता था.

एक दिन जब में अपने दोस्त के घर पर बैठकर स्टोरी पढ़ रहा था तो तभी मैंने देखा कि दीदी मेरी तरफ आ रही है तो मैंने मिनिमाइज़ कर दिया और फिर दीदी आए तो केवल डेस्कटॉप खुला हुआ था तो उन्होंने इस बात पर गौर किया, लेकिन कुछ भी नहीं बोला और चली गई. उन्होंने नीचे जो मिनिमाइज़ था उसमे यह भी पढ़ लिया था कि क्या खुला हुआ है? और मेरे साथ ऐसा ही करीब दो तीन बार हो गया, लेकिन ना वो कभी मुझसे कुछ बोली और ना कभी में उनसे कुछ बोला. तो उसके बाद एक दिन मुझे एक मैल आया कि मेरे साथ चेट करो, उस समय दिन के तीन बजे थे तो में अपने दोस्त के घर पर पहुंच गया और वहां पर जाकर मैंने देखा कि दोस्त की दीदी कंप्यूटर पर बैठी हुई थी और दोस्त अपने लेपटॉप पर और फिर मैंने उसको बोला कि यार मुझे चेट करना है, अभी मुझे एक मैसेज आया है. तो वो बोला कि यार में तो अभी अपनी गर्लफ्रेंड से बात कर रहा हूँ, तू एक काम कर दीदी से पूछ ले तो में दीदी के पास गया तो दीदी बोली कि में अभी ज़रूरी मेल्स चेक कर रही हूँ, तुम मेरा लेपटॉप ले लो और तुम्हे उसमे जो करना हो वो करना. फिर मैंने उन्हे धन्यवाद कहा, मेरे दोस्त के घर पर वाई-फाई लगा हुआ था.

फिर मैंने दीदी का लेपटॉप खोल लिया और में अपने मेल्स चेक करने लगा. फिर मेरी चेटिंग चल रही थी कि तभी दीदी का लेपटॉप डिसचार्ज हो गया और बंद हो गया. तो मुझे टेंशन हो गई क्योंकि मेरी मैल आई डी खुली रह गई थी और दीदी कहीं मेरे चेट ना पढ़ ले और फिर मैंने लेपटॉप को चार्जिंग पर लगा दिया.

फिर मेरे पापा का कॉल आया तो में अपने घर पर चला गया. दूसरे दिन से सब कुछ ठीक चल रहा था और आज भी दीदी मुझसे कुछ नहीं बोली और मैंने भी उनसे कुछ नहीं कहा और फिर करीब 15 दिन बाद मुझे एक मैल आया. दोस्तों वैसे तो मुझे बहुत सारे मैल आते रहते है, लेकिन यह वाला मैल भी सेक्स के कॉल के लिए था. मैंने मैल चेक किया तो उसमे लिखा हुआ था में जबलपुर से हूँ और में तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहती हूँ, प्लीज मुझे चोद दो, मेरी चूत चुदाई के लिए तरस रही है. फिर मैंने मैल का जवाब भेज दिया और फिर हमारी चेटिंग चलती रही. दोस्तों में अपने दोस्त की कंप्यूटर टेबल पर बैठकर यहाँ से चेट कर रहा था और दीदी वहीं बेड पर लेटकर, लेकिन दीदी ने मुझे यह तब नहीं बताया था, यह मुझे बाद में पता चला.

फिर दीदी से करीब एक घंटे चेट चली और इस दौरान उन्होंने मुझे नहीं बताया कि वो कौन है? फिर उसके बाद मैंने उसे जैसे ही कहा कि आप यह बताओ कि मुझे आपसे कब मिलना है? तो वो बोली कि जब तुम्हारा फ्रेंड बाहर जाएगा तब तुम आ जाना, उस रात हम मेरे रूम में मिलेंगे. तो में उनकी यह बात सुनकर बहुत हैरान हुआ और मैंने उनसे पूछा कि आप मेरे किस फ्रेंड की बहन है और मेरा कौन सा दोस्त है जो अभी बाहर जाने वाला है? तो दीदी ने बोला कि जिस फ्रेंड के घर पर तुम हो, वो शायद अभी अपने पापा के साथ काम से दो दिन के लिए बाहर जाएगा तब तुम मुझे सेक्स के लिए मिलना.

दोस्तों में बहुत चकित था और फिर मैंने पीछे मुड़कर देखा तो वहां पर दीदी थी और वो मेरी तरफ मुस्कुरा रही थी, लेकिन में बहुत बड़ी उलझन में फंसा हुआ था, क्योंकि वो मेरे एक दोस्त की बहन थी. फिर मैंने दीदी को मैल कर दिया कि क्या इस बारें में हम रात को फोन पर बात कर सकते है? अभी तो में कोई जवाब देने की हिम्मत नहीं कर पा रहा हूँ. फिर दीदी का जवाब आया कि ठीक है तुम जब बोलो तब बात कर सकते है. तो मैंने कहा कि ठीक है दीदी और में वहां से उठा और मैल आई डी को साईन आउट किया और अपने घर पर चलता बना. फिर दिनभर यही सोचता रहा कि यह करना चाहिए या नहीं करना चाहिए? और यह सही होगा या नहीं होगा? और फिर उसके बाद मैंने रात का खाना खाया और अपने रूम में चला गया. फिर करीब रात में 12 बजे दीदी का कॉल आया तो मैंने कॉल उठाया और दीदी बोली..

दीदी : हैल्लो डियर, कैसे हो?

में : हाए दीदी, में बिल्कुल ठीक हूँ.

दीदी : क्या कर रहे हो?

में : कुछ नहीं दीदी बस में पढ़ रहा था, लेकिन मेरा मन नहीं लग रहा था.

दीदी : अच्छा तो यह बताओ कि तुमने सेक्स के बारे में क्या सोचा?

में : दीदी मुझे कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन आप मेरे एक बहुत अच्छे दोस्त की बहन हो बस दिक्कत यही है.

दीदी : अरे वो सब छोड़ो यार, अभी हम सिर्फ़ सेक्स करने के लिए मिलते है और सेक्स करते है और मस्त रहेंगे.

में : दीदी, लेकिन आपको पता कैसे चला मेरे इस काम के बारे में?

दीदी : यार देखो मैंने तुमको कितनी बार सेक्सी कहानियाँ पढ़ते हुए पकड़ा है, उस दिन मैंने अपने लेपटॉप पर तुम्हे चेट करते देखा और उसके बाद मैंने पता नहीं कितनी बार तुम लोगो को सेक्स की बातें करते हुए सुना.

में : ठीक है दीदी और

दीदी : और यार तुम्हारे लंड का बहुत मस्त साईज़ है, मुझे सेक्स करने में कोई दिक्कत नहीं है, वैसे जब में पुणे में रहती थी तो मेरा वहां पर एक बॉयफ्रेंड था और हम हर कभी सेक्स करते, लेकिन जब से में जबलपुर आई हूँ तब से मेरी चूत में बहुत खुजली चल रही है.

दीदी : ठीक है और बताओ फिर जब हम मिलेंगे तो तुम मेरे साथ क्या क्या करने वाले हो?

में : अरे दीदी यह सब तो आपके ऊपर है में तो सिर्फ़ आ जाऊंगा फिर आप जैसे चाहो मुझे काम में ले सकती हो में उस टाईम के लिए केवल आपका ही रहूँगा, आपकी जो भी करने की मर्ज़ी हो आप वो कर सकती हो.

दीदी : देख लो फिर जब मिलेंगे तो मना मत करना कि में यह नहीं कर सकता वो नहीं कर सकता.

में : ठीक है, दीदी में तो सब कुछ कर सकता हूँ.

दीदी : दो महीने की खुजली है तो तुम सोच लो में एक दिन तो तुमको अपना लंड बाहर ही नहीं निकालने दूंगी, क्योंकि मेरी चूत में इतनी खुजली चल रही है.

में : हाँ दीदी ठीक है जैसे आप बोलो मुझे क्या दिक्कत होगी, में तो पूरा तैयार होकर आऊंगा.

दीदी : अच्छा वो कैसे?

में : देखो दीदी में आपको बताता हूँ, पहली बात तो यह है कि अब जब तक हम सेक्स नहीं कर लेते में किसी और से सेक्स नहीं करूँगा है और फिर उसके बाद में एक आयुर्वेदिक टॅबलेट भी लेता हूँ जिससे कि मेरा जल्दी निकलता भी नहीं है और मेरा साईज़ तो वैसे ही अच्छा है वो आप जानती ही है.

दीदी : हाँ, अब तुम्हारा लंड देखने और मुहं में लेने पर