Get Indian Girls For Sex
   

वर्दी वालों ने मेरी चुत को चोदा बड़ी बेदर्दी से - Indian Sex Stories in Hindi

वर्दी वालों ने मेरी चुत को चोदा बड़ी बेदर्दी से - Indian Sex Stories in Hindi : मेरा नाम हिना है और मैं छत्तीसगढ़ की रहने वाली हूँ और मेरी उम्र 26 साल की है और मुझे अकेले रहना ज्यादा पसंद है इसलिए मैंने कुछ महीनों पहले ही अपने परिवार को छोड़ दिया था और भागकर मुम्बई आ गई थी दोस्तों मुम्बई आकर मेरे साथ एक घटना हुई जिसे मैंने आप सभी के लिए एक कहानी के रूप में कामलीला डॉट कॉम के माध्यम से पेश किया है दोस्तों यह एक सच्ची घटना है।

 

वर्दी वालों ने मेरी चुत को चोदा बड़ी बेदर्दी से - Indian Sex Stories in Hindi

5-6 महीने पहले मैं अपने घर से भागकर यहाँ मुम्बई में आ गई थी और मुझे यहाँ के बारे में कुछ भी पता नहीं था मैं किसी तरह से घूमते हुए एक जगह पर पहुँची जहाँ पर पुलिस वाले ट्रैनिंग कर रहे थे मुझे पता नहीं था कि मुझे ऐसी जगह पर भी काम मिल जाएगा लेकिन मैं बहुत खुश किस्मत हूँ कि मुझे काम के साथ-साथ सब कुछ मिला था शायद आप समझ ही गये होंगे कि मैं किसके बारे में कहना चाहती हूँ चलो छोड़ो यह सब तो मैं अब आप सभी को बताती हूँ कि मैंने अपनी नौकरी पक्की कैसे करी।

हाँ तो दोस्तों जब मैं वहाँ पहली बार गई थी तो मैं कुछ देर अकेली ही एक पार्क में बैठरही और मैंने उस समय बुर्क़ा पहन रखा था और अंदर कुछ टाईट सा ड्रेस पहना हुआ था मैं अकेली बैठकर बोर ही हो रही थी कि कुछ पुलिस वाले मेरे सामने से जाने लगे तो मैंने उनको आवाज़ तो नहीं लगाई पर थोड़ा सा नाटक करने लगी और मुझ जैसी लड़की को बुर्क़े में देखकर वह अपने आप को रोक भी नहीं पाए और वह सभी लोग मेरे पास आ गए और मुझसे पूछताछ करने लगे और मैंने उनको सब सच-सच बता दिया और इस बात से वह सब बहुत खुश भी हुए और फिर बहुत देर तक हम सब बातें करने लगे और मुझे महसूस भी नहीं हुआ कि वह सब अनजान थे पर वह सब दिल के बहुत अच्छे थे फिर मैंने उनसे पूछा कि मुझे यहाँ पर किसी भी तरह का काम मिलेगा क्या? तो उन्होनें जवाब तो हाँ में दिया मगर एक शर्त भी रखी कि मुझे उन सभी की रखैल भी बनना पड़ेगा।

मैं भी यही चाहती थी पर मैंने सोचा कि पहले इन सब को थोड़ा तड़पाया जाए और फिर मज़ा भी करेंगे जहाँ पर बैठकर हम बातें कर रहे थे वह एक पुलिस परेड का मैदान था और जब मैं उठी तो मेरे कपड़ों पर कुछ मिट्टी लगी हुई थी तो मैंने जानबूझकर मेरी गांड पर हाथ लगाया और उनको दिखाने लगी और कहने लगी कि मेरे कपड़ों को साफ़ कर दो और मेरे बुर्क़े के ऊपर से मिटटी साफ़ करते समय मेरी गांड पर हाथ फेरते वक़्त वो और भी पागल हुए जा रहे थे और फिर मैं अपनी सेंडल को ठीक करने के लिए नीचे झुकी और मेरी गांड का उभार भी उनको दिखाने के लिए और यह सब होने के बाद मैं फिर से जाकर बैठ गयी और फिर उनमें से एक अफसर आया और मुझे छूने लगा तो मैंने उससे कहा कि मैं जानती हूँ कि तुम सब लोग क्या चाहते हो पर यह सब हम रिकॉर्ड कर लें तो बहुत अच्छा होगा।

तो उन लोगों ने कहा कि ठीक है और मैंने ही अपना फ़ोन दिया उनको रिकॉर्डिंग करने के लिए और फिर हम सब पुलिस परेड के मैदान के पीछे चले गये और वहाँ जाकर मैंने कहा कि आप सब लोग मुझे बुर्क़े में ही चोदना तो वह सब राज़ी नहीं हुए तो फिर हमारे बीच में तय हुआ कि पहले मैं उनके लंड को चुसूं लेकिन बुर्क़े में ही और जब वह सब मुझे चोदेगें तो मैं अपना बुर्क़ा उतार दूँगी तो मैं भी मान गई और फिर मैं अपने घुटनों के बल बैठ गई और 4-5 लोग मेरे आस-पास आकर खड़े हो गए और उन्होंने मुझसे कहा कि अब तुम हम सब की पेन्ट उतार दो और फिर मैंने सबकी पेन्ट उतार दी और उन सभी के लंड को बारी-बारी से अपने मुहँ में लेकर चूसने लगी।

मैं बुर्क़े में थी और वह सब बारी-बारी से मेरे मुहँ में अपने लंड डाल रहे थे और मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था मुझे भी उनके लंड के ऊपर की चमड़ी को अपने मुहँ में लेने में बहुत अच्छा लग रहा था और फिर बहुत देर तक वह सब होने के बाद मैंने अपने बुर्क़े के बटन खोले और धीरे-धीरे उसे निकालने लगी तो उन्होनें कहा कि तुम रहने दो इसको हम उतारेगें और वह लोग मेरे बुर्के को निकालने तो लगे मगर बड़ी ही बेरहमी के साथ तो मैंने भी उनसे कहा कि ठीक है जो करना है करो अब तो मैं आपकी ही हो गयी हूँ फिर उसके बाद मैंने अपने कपड़े उतारे और वह ब्रा-पैन्टी में मेरे फोटो लेने लगे और सब के सब मुझे घेरकर खड़े हो गए और मेरे नंगे बदन पर अपनी-अपनी जबान लगाने लगे।

और मैं भी मजा ले रही थी मेरी बहुत सी फोटो लेने के बाद मैंने अपना दुपट्टा खोला और उससे अपने बालों को बाँध लिया और ब्रा-पैन्टी में ही उन सभी के सामने नीचे लेट गई और फिर उन सभी ने झपटकर मुझे पूरा ही नंगा कर दिया था और उनमें से एक ने मेरे दोनों पैरों को उठाकर मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया मैं बहुत दिनों से सोचती थी कि मुझे भी चुदवाने का मौका मिले पर कभी सोचा नहीं था कि इस तरह से मिलेगा खैर जो भी हो उसके मेरी चूत में लंड डालते ही अचानक से मुझे दर्द हुआ और मैं ज़ोर से चिल्लाई लेकिन उन्होंने मेरी एक भी नहीं सुनी और मुझे वह सब बारी-बारी से ज़ोर-जोर से चोदने लगे उनकी जबरदस्त चुदाई से मैं तो पूरी तरह से मर ही गई थी पर थोड़ी देर के बाद मुझे राहत मिली फिर तो मैंने ही उन सभी से कह दिया कि मुझको तुम सब आज भले ही जान से मार देना मगर मुझे चोदना ज़रूर मेरे मुहँ से यह बात सुनकर उनमें से एक आकर मेरे मुहँ के ऊपर बैठ गया और अपने लंड को मेरे मुहँ में घुसाने लगा एक लंड मेरी चूत में था और एक लंड मेरे मुहँ में।

फिर उनमें से एक और आया और उन दोनों को हटाकर मेरे नीचे लेट गया और मुझे खुद के ऊपर बिठा लिया और मुझसे आगे-पीछे होने को कहने लगा और फिर एक दूसरे आदमी ने आकर मेरी गांड के छेद पर थोड़ा सा थूक लगाया और धीरे-धीरे से मेरी गांड में अपना लंड डालने लगा और मैं तो जैसे पूरी तरह से टूट ही गई थी पर मैं भी बड़ी ज़िद्दी थी तो मैंने भी ज़ोर लगाया और थोड़ा-थोड़ा अपनी गांड और चूत को फैलाकर उनके लौड़ों को अन्दर लेने लगी और