Get Indian Girls For Sex
   

तलाकशुदा भाभी की प्यास बुझाई - भाभी की चुदाई Hindi sex story

Indian Randi School Girl Fucking Porn XXX Pic Desi Girl Fucking Photos Full Hd indian girl fucking photo (4)

तलाकशुदा भाभी की प्यास बुझाई Hindi sex story : यह कहानी है एक तलाक़शुदा भाभी की, जो मेरे बाजू वाले फ्लैट में नई:-नई रहने आई थीं. हमारे पड़ोस वाला ये फ्लैट काफी दिनों से खाली पड़ा था, पर अब उसमें कोई रहने आया था. पता करने पर पता कि कोई फैमिली आई है. उनके घर में सिर्फ़ माँ और उसकी 5 साल की बेटी है. मैं फ्री टाइम में घर में ही रहता था. मेने एक दिन उसको बुरके में देखा. उसकी सिर्फ़ आँखें दिखाई दे रही थीं. पर क्या नशीली आँखें थीं उतने में ही समझ में आ गया कि क्या चीज हो सकती है.

यूं तो हम दोनों दरवाज़े के बाहर ही आमने:-सामने थे. मेने उनको आदाब किया:- हैलो भाभी मैं रकीब उर्फ़ सोनू हूँ आपका पड़ोसी हूँ.
सबनम:- ओह आई एम सबनम!
मैं:- कहाँ जा रही हैं आप?
सबनम:- वो स्कूल में मुस्कान का एड्मिशन करवाना था. पिछले दो दिन से चक्कर लगा रही हूँ पर लगता है एड्मिशन नहीं होगा. अब देर हो गई है ना वो लोग कह रहे थे कि सब सीट्स फुल हैं.

मैं:- आप चलिए मैं आपकी हेल्प कर देता हूँ.
मैं उन्हें स्कूल ले गया और एड्मिशन करवा दिया क्योंकि मैं भी उसी स्कूल का स्टूडेंट रह चुका था.

सबनम ने मुझे शुक्रिया कहा और अपने घर चाय पीने आने को कहा.

मुझे तो इसी का इन्तजार था मेने शाम को उनके घर गया और चाय पीते हुए हम दोनों बातें करने लगे.

मैं:- भाभी, मुझे पता चला कि आपका तलाक़ हो चुका है? आपने दूसरी शादी क्यूँ नहीं की? मुस्कान को अपने पापा की कमी महसूस नहीं होती?
सबनम:- हाँ मेने सोचा तो था, लेकिन कौन शादी करेगा अब मुझसे? मेने कोशिश की थी पर कोई अच्छा इंसान नहीं मिला. दो:-तीन लोगों ने कहा कि मुझे मुस्कान को छोड़कर शादी करनी पड़ेगी. मेने इनकार किया तो उन्होंने ‘ना’ कर दी.

मैं:- लेकिन भाभी आप तो अभी भी जवान हो आपको तो कोई भी अच्छा लड़का मिल जाएगा. आँखों से तो आप खूबसूरत भी लगती हो. आपका चेहरा मेने अभी देखा नहीं ना, तो भाभी मैं बहुत कुछ आपके बारे में नहीं कह सकता हूँ.

सबनम:- ओफ्फो तो आपको चेहरा देखना हैं ना अरे सोनू मैं बाहर जाते वक्त और बाहर वालों के सामने बुरका पहनती हूँ… तुम तो अब अपने हो!
कहकर भाभी ने अपना बुरखा उतार दिया.

उनके हुस्न के जलवे से मेरा लौड़ा खड़ा हो गया और उन्होंने भी मेरी आँखों की चमक को परख लिया था.
अब हम दोनों की बातें शुरू हो गईं.

शाजिया:- मेरे शौहर मुझसे कहते थे कि मैं मोटी हो गई हूँ और फिर उनको अपने ऑफिस में आलिया नाम की लड़की से प्यार हो गया तो उन्होंने मुझे तलाक़ दे दिया. अब छोड़ो इन बातों को तुम तो अभी जवान हो तो गर्लफ्रेंड्स कितनी हैं तुम्हारी?
मैं:- मेरी एक गर्लफ्रेंड थी जिससे ब्रेकअप हो चुका है.

सबनम:- ओह आई एम सो सॉरी रकीब पर तुम्हें कोई अच्छी सी लड़की मिल जाएगी डोंट वरी.
मैं:- आई होप सो भाभी वैसे मुझे मुस्लिम गर्लफ्रेंड मिले तो मेरी खोज पूरी हो.

मेने उन्हें ऐसा इसलिए कहा कि मुझे उन्हें पटाना था. वैसे मुझे तो सभी हॉट और गरम लौंडिया पसंद आती हैं.

सबनम:- ओह अच्छा? क्या बात है रकीब मुस्लिम लड़कियाँ ही अच्छी लगती हैं तुम्हें?
मैं:- हाँ भाभी मुझे मुस्लिम लड़कियाँ ही अच्छी लगती हैं. मुझे लगता है उनमें एक कशिश होती है और बहुत प्यारी और और रहने दो भाभी.

सबनम:- अरे बोलो ना क्या हुआ?

बोल भी दो देखो मैं बुरा नहीं मानूँगी बोल दो.
मैं:- वोवो भाभी मुझे लगता है आप सेक्सी हैं।

मुझे तो एकदम हॉट लगती हैं.

सबनम:- ओह सच में! मुझे उम्मीद है कि तुमको मुस्लिम गर्लफ्रेंड मिल जाएगी. वैसे शाम को क्या कर रहे हो?
भाभी की चुदास मुझे समझ में आने लगी थी.

‘भाभी आज मेरे घर के सभी लोग 2:-3 दिन के लिए बाहर जा रहे हैं तो मैं घर पर ही रहूँगा.’
‘ओह तुम्हारे घर वाले कहीं जा रहे हैं ना 2:-3 दिन के लिए? तो शाम का खाना यहाँ क्यूँ नहीं खा लेते?
मैं:- ओके भाभी

मेने तुरंत ‘हाँ’ कर दी और और घर आकर मैं रात होने का इंतज़ार करता रहा.

मैं रात को 9 बजे उनके घर गया.
भाभी तब खाना बना रही थीं, उन्होंने मुझे बैठने का बोला.

मैं उनकी लड़की के साथ खेलने लगा.
कुछ देर बाद मैं पेशाब करने उनके बाथरूम में गया तो देखा बाथरूम में उनकी पैन्टी सूखने के लिए टंगी थी.

मुझसे रहा नहीं गया और मेने पैन्टी को सूंघना शुरू कर दिया. उफ़फ्फ़ कितनी मादक खुशबू थी.

मेरा हाथ अपने आप मेरे ट्राउज़र में गया और मेने उनकी पैन्टी मेरी अंडरवियर के अन्दर डाल ली और मेरे लंड पर रगड़ने लगा, सबनम के नाम से लौड़ा हिलाना शुरू कर दिया.

कुछ देर बाद मेने अपना सारा वीर्य उनकी पैन्टी पर निकाल दिया.
झड़ने के बाद मैं थोड़ा सा डर गया कि कहीं उनको पता ना चल जाए इसलिए पैन्टी को सूखने के लिए एकदम कोने में रख दिया.

अब हम दोनों ने फिर खाना खाया. खाना होने के बाद सबनम ने अपनी लड़की को दूसरे कमरे में सुला दिया और बोला:- मैं नहाकर आती हूँ. थोड़ी ही देर में वो बाथरूम से बाहर आईं.

वो पैन्टी दिखाते हुए बोलीं:- सोनू रकीब ये क्या है? तुमने मेरे पैन्टी पर ये क्या डाल दिया गीला:-गीला सा चिप:-चिपा सा लग रहा है?

मेरा दिल ज़ोरों से धड़कने लगा.
मैं:- भाभी वो वो मेरे

भाभी ने पैन्टी को अपने होंठों से लगाया और पैन्टी पर मेरा लगा हुआ वीर्य चाटने लगीं.
उनके कंठ से ‘उम्म्म उम्म्म…’ की आवाज आई.

शाजिया ने अपनी चुत खुजाते हुए बड़े ही कामुक अंदाज में कहा:- सोनू तुमने इससे वेस्ट क्यूँ किया मुझे कह देते मुझे इसका टेस्ट बहुत अच्छा लगता है उम्म्म्

मैं भाभी का इशारा समझ गया और मेने उन्हें आँख मार दी, तो उन्होंने अपने बाँहें मेरी तरफ फैला दीं.

अब मेने भाभी को पकड़ा और उनको खींचकर अपनी गोद में बिठा लिया, फिर मेने अपने होंठों को उनके होंठों पर रगड़ना शुरू किया.
हम दोनों ‘उम्म मुऊऊउआहह मुआहह’ करके एक:-दूसरे को ज़ोर:-ज़ोर से चूमने लगे.

मैं:- सबनम मेरी रानी अपनी जीभ तो चखने दो ना.
‘ले लो ना मेरे प्यारे रसिया’
वो बोल पड़ी और अपनी जीभ उसने होंठों से थोड़ी बाहर कर दी.

मैं उसकी जीभ पर अपनी जीभ फेरने लगा.

उसने सलवार:-कमीज़ पहन रखा था, मैं कमीज़ के ऊपर से उसके मम्मे दबाने लगा.
वो ‘उम्म्म ओम्म’ करके सिसकारियाँ भरने